इस्लामाबाद. इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) से कुलभूषण सुधीर जाधव की फांसी के मामले में करारी शिकस्त मिलने के बाद पाकिस्तान की मीडिया ने अपनी ही सरकार को जमकर लताड़ लगायी है. यहां के मीडिया ने जाधव की फांसी पर ICJ की ओर से रोक लगाये जाने के बाद पाकिस्तानी मीडिया ने न केवल नवाज शरीफ सरकार को आड़े हाथ लिया है, बल्कि ICJ की भी कड़ी आलोचना की है. सबसे बड़ी बात यह है कि जाधव मामले में हार के बाद बौखलाये पाकिस्तानी मीडिया का असली चेहरा भी दुनिया के सामने उजागर हो गया है. अब तक दोनों पड़ोसी देशों के आपसी संबंधों की मधुरता को बहाल करने को लेकर जो पाकिस्तानी मीडिया दोनों देशों के बीच सेतु बनने का दिखावा करता था, अब उसकी भी कलई पूरी तरह खुल गयी है. 

पाकिस्तान से प्रकाशित दुनिया नामक अखबार ने अपनी हेडलाइन में ही प्रहार करते हुए लिखा है कि 'कुलभूषण को फांसी ना दी जाए, इंटरनेशनल कोर्ट खाक.' इस अखबार ने पहले पन्ने पर इस मामले से जुड़ी करीब चार खबरों को जगह दी हैं, जिसमें उसने नवाज शरीफ सरकार, इंटरनेशनल कोर्ट और भारत के खिलाफ आग उगली है. इस अखबार की दूसरी ख़बर है, 'इंटरनेशनल कोर्ट ने 17 साल पहले भी पाकिस्तान के खिलाफ फैसला दिया.'

एक अन्य अखबार तारीख-ए-इंसाफ ने लिखा है कि 'इंटरनेशनल कोर्ट ने अनुभवहीन वकील चुना'. वहीं, अंग्रेज़ी अखबार 'द न्यूज़ इंटरनेशनल; ने लिखा है कि 'आईसीजे ने भारतीय जासूस की फांसी पर अंतिम निर्णय होने तक रोक लगायी'. पाकिस्तान से प्रकाशित होने वाले एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने लिखा है कि 'कुलभूषण जाधव की फांसी पर इंटरनेशनल कोर्ट के फ़ैसले पर इमरान खानन ने नवाज शरीफ को जिम्मेदार ठहराया'. इंटरनेशनल कोर्ट के फ़ैसले पर पाकिस्तानी मीडिया ने सरकार को भी जमकर घेरा.

वहीं अखबारों को दिये गये बयानों में पाकिस्तानी के प्रधानमंत्री के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने कहा है कि अंतरराष्ट्रीय अदालत ने सिर्फ राय दी है और आगे चलकर फैसला पाकिस्तान के हक में आ सकता है. पाकिस्तान के करीब सभी अखबारों के मुताबिक, विपक्षी दलों खासकर पीटीआई और जमात-ए-इस्लामी ने तो सरकार को आड़े हाथों लिया. वहीं, इस मामले पर पाकिस्तान के कई कानूनी जानकारों और दूसरी राजनीतिक पार्टियों के नेताओं के बयान को भी यहां के अखबारों में प्रमुखता से छापा गया है.

पाकिस्तान के अखबारों में यहां के नेताओं के हवाले बाकायदा प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का नाम लेकर कहा गया है कि उनकी टीम अच्छी नहीं थी और वह इंटरनेशनल कोर्ट में अनुभवहीन लोगों को लेकर गये थे. यहां के अखबारों में छपे विपक्षी दलों के बयानों में पाकिस्तान की विदेश नीति को भी नाकाम बताया गया है. ऐसे अखबारों में सरकार पर आरोप भी लगाया है कि तैयारी में कमी की वजह से फैसला भारत के पक्ष में गया है. वहीं, पाकिस्तान की सरकार का कहना है कि अभी फैसला नहीं आया है और जब तक फैसला नहीं आ जाता, इसे भारत की जीत नहीं माना जा सकता.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. एक मजदूर जिसकी कहानी को 1,20,000 से ज्यादा लोग शेयर कर चुके हैं, आप भी पढ़िए

2. राजकुमारी ने गरीब लड़के से की शादी तो मिली ऐसी सजा!

3. रणवीर की बेहद बोल्ड तस्वीरें आईं सामने एक मिस्ट्री गर्ल के साथ

4. VIDEO: जब इन 6 लड़कियों ने किया बद्रीनाथ के टाइटल ट्रैक पर हॉट डांस

5. 19 मई को एप्पल अपने iPhone 7 और iPhone 7 Plus को नए डिजाइन में करेगी पेश

6. BSNL अपने यूजर्स को देगी रोजाना 1GB डाटा, जानें क्या होगा प्लान

7. महाभारत के युद्ध में इन छलों से मारे गए ये योद्धा

8. लड़की पटाने के लिए लड़के कभी कभी ऐसा भी करते हैं, देखें वीडियो

9. दुनिया की पहली पॉर्न यूनिवर्सिटी, लेना चाहेंगे एडमिशन!

10. इस देश की लड़की से करो शादी और पाओ नौकरी के झंझट से निजात

11. खून से बना फेस क्रीम लगाती हैं हैली बाल्डविन

12. VIDEO: दूल्हे ने दुल्हन को जड़ दिया थप्पड़, वीडियो वायरल

13. ज्योतिष के अनुसार शुक्र और गुरु ग्रह ही आदमी को सबसे ज्यादा धनवान बनाते

14. इन सभी परिस्थितियों के समय लड़कियों को हो जाती है अपनी ज़िंदगी से नफरत

15. सिरफिरे प्रेमी ने प्रेमिका को घोपी तलवार, फिर टॉवर से कूदकर दे दी जान

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।