नई दिल्ली. देश के मुसलमानों में असुरक्षा संबंधी उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के बयान पर बीजेपी और शिवसेना नेताओं ने तीखी टिप्पणी की है. बीजेपी नेताओं ने इस बयान को पद की गरिमा के खि‍लाफ बताया है तो शिवसेना ने इससे भी तीखी टिप्पणी करते हुए कहा है कि अगर उनको मुस्लिमों में असुरक्षा की भावना दिख रही थी, तो पहले ही इस्तीफा देकर जनता के बीच जाना चाहिए था.

उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के बयान पर शिवसेना ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. शिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने कहा कि अगर हामिद अंसारी जी को मुस्लिमों में बेचैनी और असुरक्षा की भावना दिखती है तो इस विषय को लेकर उन्होंने पहले ही अपने पद से इस्तीफा क्यों नहीं दे दिया. अब जब वह जा रहे हैं, तब इस तरीके का बयान दे रहे हैं. उनको पहले ही इस्तीफा देकर जनता के बीच मे जाना चाहिए. संजय राउत ने कहा कि अल्पसंख्यक मुस्लिम के लिए देश मे बहुसंख्यक हिंदुओं को गलत नजरिए से देखा जाता है. देश की पूरी मशीनरी मुस्लिमों की सुरक्षा में लगा दी गई है.

गौरतलब है कि निवर्तमान उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने एक इंटरव्यू में कहा कि देश के मुस्लिमों में बेचैनी का अहसास और असुरक्षा की भावना है. उपराष्ट्रपति के तौर पर 80 साल के अंसारी का दूसरा कार्यकाल गुरुवार को पूरा हो रहा है. उन्होंने यह टिप्पणी ऐसे समय में की है जब असहनशीलता और कथित गोरक्षकों की गुंडागर्दी की घटनाएं सामने आई हैं. हामिद अंसारी ने कहा कि उन्होंने असहनशीलता का मुद्दा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके कैबिनेट सहयोगियों के सामने उठाया है. उन्होंने इसे 'परेशान करने वाला विचार' करार दिया कि नागरिकों की भारतीयता पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

बीजेपी नेता गिरीराज सिंह ने कहा कि पूरी दुनिया में भारत के नागरिकों से ज़्यादा कोई सुरक्षित नहीं है. उन्होंने कहा, 'यहां कोई कुछ भी कह सकता हैं, कोई भी पत्थरबाजों का समर्थन कर सकता हैं, कोई भी अलगाववादियों का समर्थन कर सकता हैं. यहां आधी रात को आतंकियों के लिए कोर्ट खुल सकते हैं, इसलिए भारत में हिंदू और मुसलमान सभी सुरक्षित हैं. भारत जैसा देश कोई नहीं मिलेगा. भारत जैसा अभिव्यक्ति की आज़ादी वाला देश नहीं मिलेगा. भारत में जो चाहे किसी को गाली दे दे. लेकिन भारत में रहना है तो क़ानून एक ही होगा. अयोध्या पर एक क़ानून और ट्रिपल तलाक़ पर दूसरा क़ानून, भारत में ये नहीं चलेगा.

बीजेपी नेता साक्षी महाराज ने भी कहा कि वह हामिद अंसारी के बयान से सहमत नहीं हैं. उन्होंने कहा, 'भारत में जितने मुसलमान सुरक्षित हैं, दुनिया में कहीं भी नहीं हैं. देश में जबसे मोदी जी प्रधानमंत्री बने हैं, कोई भी साम्प्रदायिक दंगा नहीं हुआ.  जबसे योगी जी मुख्यमंत्री बने हैं यूपी में भी कोई दंगा नहीं हुआ है. हालांकि पत्थर फेंकने वाले, बम फेंकने वाले आतंकवादी सुरक्षित नहीं हैं. ये दुर्भाग्य की बात है कि वे (हामिद अंसारी) तीन साल तक मौज मारते रहे, जब कुर्सी से विदाई का समय आ गया, तो उन्हें मुसलमान असुरक्षित लगने लगा है, इससे बड़ा दुर्भाग्य कुछ नहीं हो सकता है. मुझे लगता है कि वे किसी पार्टी की सदस्यता लेने वाले हैं, इसलिए इस तरह के बयान दे रहे हैं. ये देश संविधान से चलेगा न कि फ़तवों से और किसी के विचारों से चलेगा.

बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने भी हामिद अंसारी के बयान से असहमति जताई. उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि देश के शीर्ष पद पर बैठकर इस तरह का बयान देना ठीक नहीं है. मैं उनके बयान से सहमत नहीं हूं. तीन-चार घटनाओं के आधार आकलन करना ठीक नहीं हैं. ऐसे हज़ारों उदाहरण मिल जाएंगे कि हिन्दू-मुसलमान मिलकर एक साथ रहते हैं. अगर इस तरह से आप नकारात्मक दृष्टि से देश आकलन करेंगे तो देश के साथ न्याय नहीं करेंगे. लगता है कि इस तरह के बयान करके वो भविष्य में राजनीतिक सम्भावनाओं को तलाश रहे हैं. किसी शीर्ष पद पर बैठ व्यक्ति से इस तरह के हलके बयान की उम्मीद नहीं की जा सकती है. इस तरह के बयान देना शीर्ष पद की गरिमा को गिराना है.

टीवी पर इंटरव्यू में जब अंसारी से पूछा गया कि क्या उन्होंने अपनी चिंताओं से प्रधानमंत्री को अवगत कराया है, इस पर उपराष्ट्रपति ने 'हां' कहकर जवाब दिया. सरकार की प्रतिक्रिया पूछे जाने पर अंसारी ने कहा, 'यूं तो हमेशा एक स्पष्टीकरण होता है और एक तर्क होता है. अब यह तय करने का मामला है कि आप स्पष्टीकरण स्वीकार करते हैं कि नहीं और आप तर्क स्वीकार करते हैं कि नहीं.' इस इंटरव्यू में अंसारी ने भीड़ द्वारा लोगों को पीट-पीटकर मार डालने की घटनाओं, 'घर वापसी' और तर्कवादियों की हत्याओं का हवाला देते हुए कहा कि यह 'भारतीय मूल्यों का बेहद कमजोर हो जाना, सामान्य तौर पर कानून लागू करा पाने में विभिन्न स्तरों पर अधिकारियों की योग्यता का चरमरा जाना है और इससे भी ज्यादा परेशान करने वाली बात किसी नागरिक की भारतीयता पर सवाल उठाया जाना है.' यह पूछे जाने पर कि क्या वह इस बात से सहमत हैं कि मुस्लिम समुदाय में एक तरह की शंका है और जिस तरह के बयान उन लोगों के खिलाफ दिए जा रहे हैं, उससे वे असुरक्षित महसूस कर रहे हैं, इस पर अंसारी ने कहा, हां, यह आकलन सही है, जो मैं देश के अलग-अलग हलकों से सुनता हूं. मैंने बेंगलुरु में यही बात सुनी. मैंने देश के अन्य हिस्सों में भी यह बात सुनी. मैं इस बारे में उत्तर भारत में ज्यादा सुनता हूं. बेचैनी का अहसास है और असुरक्षा की भावना घर कर रही है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. महिला सशक्‍त‍िकरण के ज़माने में महिला शक्ति का कारनामा, खोद डाले 190 कुए

2. महिला टीवी एंकर ने घूंघट में किया लाइव शो, वीडियो हुआ वायरल

3. अच्छी खबर: अब बैंकों में ही बनेंगे और अपडेट होंगे आधार कार्ड

4. भारत में अगस्त तक उपलब्ध होंगे Nokia 5 व Nokia 6 स्मार्टफोन

5. VIDEO: लव एट फर्स्ट साईट, कभी-कभी गलत भी हो जाता है, देखें वीडियो

6. अदरक के इस्तेमाल से पाए डैंड्रफ की समस्या से छुटकारा

7. क्या रहस्य है शिव की तीसरी आंख में, जानते हैं उनसे जुड़ें प्रतीक चिह्नों का महत्व

8. #lipstickrebellion कैम्पन को सपोर्ट करता 'काम्या पंजाबी' का ये टॉपलेस फोटोशूट

9. एलिजाबेथ ने न्यूड फोटो शेयर कर फैंस को किया मदहोश

10. यदि चैन की नींद सोना चाहते हैं तो इन वास्तु नियमों का अवश्य ध्यान दें

11. सालों बाद ऐसा संयोग: सोमवार को शुरू हो, सोमवार को ही खत्म होगा सावन

12. ब्रिटिश सिंगर 'एड शीरन' ने 'ट्विटर' को कहा बाय-बाय; जानिए क्या था कारण

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।