नई दिल्ली. 2.1 लाख फर्जी कंपनियों की जानकारी सार्वजनिक करने के बाद केंद्र को मोदी सरकार द्वारा अब देशभर में मौजूद इन कंपनियों की संपत्तियों पर नजर बनाए हुए है. केंद्र ने राज्य सरकारों से अपील की है कि वह शेल कंपनियों पर नकेल कसे. सरकार ने राज्यों से उन 2.1 लाख से ज्यादा कंपनियों की संपत्ति की पहचान करने के लिए कहा है जिनका पंजीकरण रद्द किया जा चुका है.

इस बारे में जानकारी देते हुए कॉरपोरेट अफेयर्स मंत्रालय में राज्यमंत्री पीपी चौधरी ने बताया कि ऐसी संपत्तियों की पहचान की प्रक्रिया को जल्द से जल्द पूरा करने की जरूरत है और जानकारी कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय के साथ समयबद्ध तरीके से साझा की जानी चाहिए. उन्होंने आगे बताया क्योंकि देश की सभी जमीन का ब्योरा कंप्यूटराइज्ड है इसलिए इन कंपनियों से निदेशकों और हितधारकों की जानकारी एकत्रित करने में देरी नहीं होनी चाहिए और इन जानकारियों को जिला प्रशासन या फिर केंद्र से साझा करना चाहिए. बता दें कि कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय ने इन 2.1 लाख कंपनियों का पंजीकरण इसलिए रद्द करने का फैसला किया था क्योंकि ये कंपनियां लंबे समय से कारोबार नहीं कर रही थीं.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. आधार कार्ड को अनिवार्य करने की सीमा बढकर हुई 31 मार्च

2. बिहार: दहेज मुक्त विवाह का देना होगा शपथ पत्र, लिया तो होंगे सरकारी नौकरी से बर्खास्त

3. आरुषि मर्डर केस: सुप्रीम कोर्ट जाएगी हेमराज की विधवा, कहा-हमें नहीं मिला इंसाफ

4. सुल्तान जौहर कप: भारतीय जूनियर टीम ने अमेरिका को 22-0 से रौंदा

5. SBI ने आईएमपीएस चार्जेस में की कटौती, एक हजार के ट्रांजेक्शन पर नहीं देना होगा शुल्क

6. रेलवे ने 25 हजार करोड़ की कमाई के लिए बनाया नया प्लान!

7. आत्महत्या के खिलाफ मुहिम चलाने वाली चर्चित महिला बाइकर की मौत

8. कम्युनिटी पुलिसिंग के लिए बस्तर SP आरिफ को मिला ऑस्कर

9. बंद होगा RCom का वायरलेस बिजनेस, हजारों लोग होंगे बेरोजगार

10. भारत को पछाड़कर चीन ने हासिल किया टेस्ला का प्लांट

11. ऋग्वेद में भी है छठ की चर्चा, भगवान भास्कर को 26 अक्टूबर को देंगे पहला अर्घ्य

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।