राजंदाजी. लंबे समय तक एक राजनीतिक दल से जुड़े रहने के बाद, किसी और राजनीतिक दल के साथ निभाना कितना मुश्किल होता है? यह शायद अरविंद लवली से बेहतर कोई नहीं जान सकता!

तकरीबन नौ महीने पहले कांग्रेस का हाथ छोड़ कर भाजपा के साथ जाने वाले अरविंद लवली संभवतया इसीलिए अब कह रहे हैं... कांग्रेस छोड़कर भाजपा में जाना मेरे लिए खुशी का मौका नहीं था... पीड़ा में लिया हुआ एक फैसला था... विचारधारा के हिसाब से मैं वहां... भाजपा में फिट नहीं था!

दरअसल, लवली के लिए यह फैसला एक राजनीतिक समझदारी से भरा इसलिए है कि भाजपा में उनका कोई भविष्य नहीं था... वहां पहली पंक्ति में आने में ही उनका सारा समय गुजर जाता... आप में अरविंद केजरीवाल को कोई बड़ा नेता नहीं चाहिए, लेकिन... कांग्रेस में इस वक्त बेहतर संभावनाएं हैं... शीला दीक्षित एक तरह से सक्रिय राजनीति से दूर होती जा रही है तो अजय माकन की राजनीतिक यात्रा धीमी है, जाहिर है... लवली के लिए कांग्रेस से बेहतर कोई जगह नहीं है!

गौरतलब है कि... एक समय दिल्ली कांग्रेस का सबसे बड़ा चेहरा रहे अरविंदर सिंह लवली ने जब नौ महीने पहले पिछले अप्रैल माह में एमसीडी चुनावों से ऐन पहले भाजपा में जाने का निर्णय लिया था तो दिल्ली की राजनीति में तूफान आ गया था, लेकिन अब एक साल से भी कम समय में लवली ने एक बार फिर कांग्रेस में घर वापसी की है तो इस फैसले ने सबको चौंका दिया है!

राजनीतिक चर्चाओं में यह मुद्दा इसलिए गर्म है कि... वर्ष 2014 में केन्द्र में पीएम नरेन्द्र मोदी की अजेय सरकार बनने के बाद यह पहला मौका है जब कोई बड़ा नेता भाजपा से कांग्रेस में आया हो? और इसीलिए... लवली का भाजपा में जाना और फिर कांग्रेस में लौट आना इस लिहाज से भाजपा के लिए बड़ा सवाल माना जा रहा है... राजनीतिक जानकार इस बदलाव के कईं अर्थ/भावार्थ तलाश रहे हैं!

याद रहे... अरविंदर सिंह लवली, दिल्ली में तकरीबन पन्द्रह वर्षों तक रही शीला दीक्षित सरकार में तीन बार शिक्षा, शहरी विकास, पर्यटन, परिवहन आदि के मंत्री रहे... वे कांग्रेस से चार बार एमएलए रहे... पहली बार 1998 में दिल्ली के गांधी नगर इलाके से विधायक बने थे... वे दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष के पद पर भी रहे. उनको दिल्ली की राजनीति में शीला दीक्षित पक्ष का नेता माना जाता है, तभी तो... लवली के पार्टी में लौटने पर शीला दीक्षित ने कहा कि यह बेहद खुशी की बात है कि वो वापस आ गए हैं. आखिरकार उन्होंने पाया कि अपना घर ही अच्छा होता है? 

आप के उदय के बाद कमजोर पड़ गई कांग्रेस में लवली बड़े नेता के तौर पर उभरे थे, किन्तु... भाजपा में जाने के बाद वे खबरों और राष्ट्रीय राजनीतिक चर्चाओं से बाहर होते चले गए, वैसे... अजय माकन के दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष बनने के बाद लवली की माकन से ठीक-से नहीं बन पाई, नतीजा? लवली ने कांग्रेस छोड़ दी! कांग्रेस छोड़ते समय उनका यही दर्द उभरा था... एक पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष का काम पार्टी को जोड़कर रखना होता है, न कि पार्टी के कैडर को खत्म कर देना! उस पार्टीं का भविष्य कैसा होगा, जो अपने नेताओं का ख्याल नहीं रखती!

उन्होंने कहा था... मैंने जिस कांग्रेस पार्टीं को ज्वाइन किया था, वह अब बदल गई है... उसकी विचारधारा बदल गई है और यही मेरे पार्टीं छोडऩे का कारण है... जिस पार्टी में अपने नेताओं का कोई सम्मान नहीं है तो उससे गरीबों और दलितों का हिमायती होने की उम्मीद कैसे की जा सकती है? मैं बहुत असहाय महसूस कर रहा था... चुनाव समिति में कोई भूमिका नहीं थी... पार्टी के घोषणापत्र पर कोई राय नहीं ली जाती थी, तो हम पार्टी में कर क्या रहे थे?

राजनीतिक खबरें ये भी हैं कि... कुछ दिन पहले ही शीला दीक्षित और अजय माकन के बीच भी सियासी सुलह हो गई है... माकन ने दिल्ली के सभी  नेताओं के साथ बैठक भी की हैं... सबको साथ लेकर चलने की बात भी कही है!

बहरहाल, लवली के लौटने से कांग्रेस के तेवर में फर्क आएगा तो कांग्रेस की राजनीति भी करवट लेगी? ताजा सर्वे में जिस तरह से दिल्ली में कांग्रेस की ताकत धीरे-धीरे बढ़ रही है... दिल्लीवासियों का रूझान फिर से कांग्रेस की ओर बढ़ रहा है, ऐसे संकेत को देख कर लगता है कि अगला दिल्ली विधानसभा चुनाव काफी दिलचस्प होगा?

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. आधार होगा और सुरक्षित, अब देनी होगी 'वर्चुअल आईडी'

2. भारतीय सेना ने 28 सैनिकों की शहादत पर 138 पाकिस्तानी सैनिक मारे

3. पहले IIT और अब CAT में 100 प्रतिशत नंबर ला कर हासिल किया पहला रैंक

4. यूपी के इस होटल में वेटर से लेकर मैनेजर तक सब होंगी महिलाएं

5. भगवान के दर्जे पर संकट में पेशा!

6. राजधानी एक्सप्रेस में बुजुर्ग को चूहे ने काटा, साढ़े तीन घंटे निकलता रहा खून

7. नहीं बंद होंगी मुफ्त बैंकिंग सेवाएं, सरकार ने खबरों का किया खंडन

8. CES 2018 : पहले दिन लॉन्च किए गए ये शानदार प्रोडक्ट्स

9. विक्रम भट्ट की हॉरर फिल्म के दौरान कैमरे में कैद हुआ भूत, तस्वीरें देखकर उड़ जाएंगे होश

10. हाइक ने लांच की Hike ID, बिना नंबर के भी कर सकेंगे चैट

11. राशि के अनुसार शादी की ड्रेसों का करें चयन, ग्रहों और रंगों का खुशियों से सीधा संबंध

12. पापों से मिलेगी मुक्ति,अगर करते हैं षट्तिला एकादशी का व्रत

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।