नई दिल्ली. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है. इस रिपोर्ट में जो आंकड़े दिए गए हैं वह जमाखोरी से जुड़े हैं. रिपोर्ट बताती है कि लोग बैंकों से पैसा निकाल तो रहे हैं लेकिन उसे खर्च नहीं कर रहे हैं यानि देश में जमाखोरी बढ़ रही है. 

रिपोर्ट में साफ कहा गया है कि लोगों को आभास हो रहा है कि उनका पैसा अब बैंकों में भी सुरक्षित नहीं है और वह पैसा अपने घर में रखना ज्यादा मुनासिब समझ रहे हैं.  रिजर्व बैंक ने अपनी रिपोर्ट में साफ कहा है कि देशभर में एटीएम को भरने के लिए रिजर्व बैंक अपनी नोट छापने की प्रेसों में छपाई का काम तेजी से बढ़ा चुका है. आरबीआई द्वारा जारी डेटा पर नजर डालें तो 20 अप्रैल को समाप्त हुए सप्‍ताह में बैंकों से 16,340 करोड़ रुपये निकाले गए. अप्रैल के पहले तीन हफ्तों में कुल 59,520 करोड़ रुपये निकाले गए.

जनवरी-मार्च तिमाही में कुल 1.4 लाख करोड़ रुपये निकाले गए जो 2016 की इसी तिमाही से 27 प्रतिशत ज्यादा हैं. उल्लेखनीय है कि इसी माह कई राज्यों के एटीएम में कैश की किल्लत की खबर सामने आई थी. 

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. बड़ा फैसला: केन्द्र ने मेघालय से पूरी तरह से हटाया अफस्पा तो अरुणाचल में दी ढील

2. पंजाब बोर्ड 12वीं का रिजल्ट घोषित, पूजा जोशी बनीं टॉपर, 65.97 फीसदी स्टूडेंट्स पास

3. बढ़त के साथ बंद हुआ शेयर बाजार, इंडसइंड टॉप गेनरstrong>

5. भारत का इकलौता बच्चों के दिल का प्राइवेट अस्पताल, जहां कैश काउंटर ही नहीं है!

6. महाराष्ट्र और आंध्र में 31 मई और 21 जून को होंगे चुनाव

7. टाटा ग्रुप में ग्लोबल काॅरपोरेट हेड बनाये गये पूर्व विदेश सचिव एस जयशंकर

8. बांसवाड़ा में रामदेव बोले: इसी सदी में भारत आध्यात्मिक और आर्थिक महाशक्ति बनेगा!

9. जरूर जाएं अमृतधारा, नहीं करेगा वापस लौटने का मन

10. मिट्टी के कारण देखते ही देखते बदलने लगेगी आपकी किस्मत

11. कुछ बातों को ध्यान रख करना चाहिए शिवलिंग की परिक्रमा

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।