कभी लड़कों की चाह रखने वाले भारतीय परिवारों की पहली पसंद अब बेटियां बन गई हैं. यह बात हाल में आरटीआई के आवेदन के जवाब के बाद सामने आई है. भारत में पिछले छह वर्षों में गोद लिए गए बच्चों में करीब 60 प्रतिशत लड़कियां थीं. वहीं 2017-18 में गोद लिए जाने के अंतरराष्ट्रीय मामलों में अमेरिका, इटली, फ्रांस और स्पेन के परिवार भी काफी आगे रहे हैं.

सबसे आगे महाराष्‍ट्र

पिछले छह साल के आंकड़ों से पता चला कि 59.77 फीसदी दंपत्तियों ने लड़कियों को गोद लिया, जबकि 40.23 ने लड़कों में अपनी दिलचस्‍पी दिखाई है. आंकड़े के अनुसार 2017-18 में गोद लिए गए कुल 3,276 बच्चों में से 1,858 लड़कियां थीं जबकि लड़कों की संख्या 1,418 थी. इनमें सबसे ऊपर महाराष्ट्र रहा जहां हाल में सबसे ज्यादा बच्‍चों को गोद लिया गया.

इन राज्यों में भी बेटों से आगे हैं बेटियां

सेंट्रल एडॉप्शन रिसोर्स अथॉरिटी (CARA) ने एक आरटीआई आवेदन के जवाब में बताया कि 2012 के बाद से हर राज्य में गोद लिए गए बच्चों की संख्या के लिहाज से महाराष्ट्र सबसे ऊपर था. 2017 में राज्य में गोद लिए गए कुल 642 बच्चों में से 353 लड़कियां थीं. दूसरा स्थान कर्नाटक का रहा जहां गोद लिए गए कुल 286 बच्चों में से 167 लड़कियां थीं. साल 2016-17 में भी भारत में गोद लिए गए कुल 3,210 बच्चों में से 1,915 लड़कियां थीं. उस समय भी महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 711 बच्चे गोद लिए गए. उसके बाद कर्नाटक (252) और पश्चिम बंगाल (203) का नंबर आता है.

इस वजह से बनी पहली पसंद  

CARA के सीईओ लेफ्टिनेंट कर्नल दीपक कुमार के मुताबिक, महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा बच्चों के गोद लिए जाने का कारण वहां कई अडॉप्शन एजेंसियां की मौजूदगी है. उनका कहना है कि इससे पता चलता है कि चीजें अब बदल रही हैं. इसके साथ ही लोगों को यह महसूस होने लगा है कि लड़कियों की देखरेख करना लड़कों की तुलना में ज्यादा आसान है, इसलिए बच्‍चा गोद लेते समय फैसला लड़कियों के पक्ष में जाता है.

यूपी-हरियाणा में भी सुधार

वहीं दूसरी तरफ इन आंकड़ों के मुताबिक, लिंग अनुपात में सबसे पिछड़े राज्य हरियाणा में भी साल 2016-17 में 31 लड़कियों के मुकाबले सिर्फ 19 लड़के ही गोद लिए गए. लगभग यही स्थिति उत्तर प्रदेश की भी है, यहां 86 लड़कियों के मुकाबले सिर्फ 40 लड़कों को गोद लिया गया.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. कनार्टक चुनाव हिन्दुत्व से लोगों को बचाने का आखिरी मौका: शशि थरूर

2. जब पेड़ ने बचाई 22 श्रद्धालुओं की जान

3. बॉम्बे HC के जज ने सुबह 3.30 बजे तक लगाई अदालत

4. भारतीय टीम को हराना माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने जैसा: आस्ट्रेलियाई कोच लैंगर

5. खाने में मिला था जिंदा कीड़ा, रेलवे को लगा 10,000 रुपये का जुर्माना

6. राजस्थान के राजघाट गांव में 22 साल बाद बजी शहनाई

7. पाक की आर्थिक हालत का सच सबकुछ बेचकर भी नहीं खरीद सकता भारत की एक कंपनी

8. फिर पनपा कैश संकट पूर्वोत्तर राज्यों में खाली हुए एटीएम

9. अमेरिका में भारतीय मूल की महिला बनी जज, कर दिया देश का नाम रोशन

10. मंगल आये अपनी उच्च राशि में, 26 जून से 27 जुलाई तक वक्री रहेंगे

11. प्राचीन धार्मिक ग्रंथों के अनुसार 12 ज्योर्तिलिंगों में पहला है सोमनाथ मंदिर

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।