इनदिनों. इस साल एमपी, राजस्थान, छत्तीसगढ़ आदि राज्यों में विधानसभा चुनाव हैं तथा अनौपचारिक रूप से इन राज्यों में चुनाव प्रचार शुरू भी हो गया है, लेकिन इस वक्त विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं के बीच देवशयनी एकादशी को लेकर खासी चर्चा चल रही है, कारण? ज्योतिष शास्त्र में भरोसा रखने वाले नेता चाहते हैं कि उनका दल इन राज्यों में 23 जुलाई 2018 से पहले विधिवत चुनाव प्रचार प्रारंभ कर दे! 

उल्लेखनीय है कि... आगामी 23 जुलाई 2018 को आषाढ़ शुक्ल देवशयनी एकादशी पर देव सो जाएंगे, जो 19 नवंबर 2018 को देवउठनी एकादशी पर उठेंगे, धर्मधारणा के अनुसार इन चार महीनों के दौरान विविध मांगलिक कार्य नहीं किए जाते हैं?

गुजरात विधानसभा चुनाव से देव-दर्शन रणनीति का असर चुनाव प्रचार पर नजर आ रहा है और इन नेताओं का मानना है कि इस बार के चुनाव परिणाम तो भाग्य पर कुछ ज्यादा ही निर्भर हैं, क्योंकि जनता किसी भी एक दल से संतुष्ट नजर नहीं आ रही है!

वैसे जयपुर में पीएम नरेन्द्रभाई मोदी की सभा के बाद इसे एक तरह से राजस्थान में चुनाव प्रचार की अनौपचारिक शुरूआत माना जा रहा है, तो खबर है कि राहुल गांधी भी शीघ्र ही राजस्थान में चुनाव प्रचार आरंभ करेंगे.

एमपी, राजस्थान, छत्तीसगढ़ आदि राज्यों में धीरे-धीरे करीब आते जा रहे विधानसभा चुनावों को लेकर राजनेताओं की धड़कने बढ़ती जा रही हैं, क्योंकि इन चुनावों के परिणामों पर ही निर्भर है आगे का सत्ता-सुख!

राजस्थान में तो लंबे समय से सत्ता-सुख प्राप्त करने के लिए देवी त्रिपुरा सुंदरी की आराधना होती रही है तो एमपी में देवी नर्मदा की पूजा-परिक्रमा का सियासी महत्व भी बढ़ता जा रहा है! 

जहां राजस्थान में सीएम वसुंधरा राजे देवी त्रिपुरा सुंदरी की परमभक्त हैं, वहीं कांग्रेसियों को भरोसा है कि इस बार राहुल गांधी देवी का आशीर्वाद लेने त्रिपुरा सुंदरी के दरबार में जरूर आएंगे!

एमपी में देवी नर्मदा नदी की बड़ी मान्यता है. मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान स्वयं- नमामि देवी नर्मदे, सेवा यात्रा निकाल चुके हैं जो 11 दिसंबर 2016 को शुरू होकर 15 मई 2017 को पूर्ण हुई थी. इसके बाद 5 जून से 15 जून 2017 तक पेड़ लगाओ यात्रा भी आयोजित की गई थी जिसके बाद एमपी सरकार ने एक साथ, एक दिन में छह करोड़ पौधे लगा कर वल्र्ड रेकॉर्ड बनाने का दावा किया था! 

कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह अपनी पत्नी अमृता के साथ गैरराजनीतिक नर्मदा परिक्रमा पर निकले थे और 9 अप्रैल 2018 को यह यात्रा पूर्ण हुई?

बहरहाल, एमपी, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में सियासी तापमान लगातार बढ़ रहा है, क्योंकि जहां एक ओर भाजपा के सामने तीनों राज्यों की सत्ता बचाने की चुनौती है वहीं दूसरी ओर कांग्रेस, भाजपा को कामयाब होने से रोकने के लिए पूरी ताकत लगा रही है! ऐसे में देव सो गए तो चुनाव प्रचार शुभारंभ के लिए देवउठनी एकादशी तक शुभ मुहूर्त मिलना मुश्किल हो जाएगा? लिहाजा, चर्चा है कि देव सो जाए उससे पहले इन राज्यों में चुनाव प्रचार प्रारंभ हो जाना चाहिए!

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।