गणेश उत्सव का शुभारंभ होते ही जगह-जगह लोग पंडाल में गणपति बप्पा के दर्शन करने के लिए पहुंचते हैं. यूं तो गणेश उत्सव को लोग एक त्योहार के रूप मनाते हैं. कहने के लिए तो यह पर्व महाराष्ट्र का ही खास माना जाता है, लेकिन अब हर राज्य के लोग इसे काफी धूम-धाम व श्रद्धा के साथ मनाते हैं.कुछ लोग तो गणपति बप्पा की मूर्ति घर में भी स्थापित करते हैं और पूरे विधि-विधान के साथ पूजा करते हैं. जहां कुछ लोग पूरे 10 दिन के लिए बप्पा को घर लेकर आते हैं तो कोई 2 या फिर 4 दिन के लिए. सभी अपने सामर्थय के अनुसार पूजा करते हैं और बप्पा को खुश करने में लगे रहते हैं.

अगर आप भी अपने घर गणपति बप्पा को स्थापित करने जा रहे हैं तो  4 महत्वपूर्ण बातों को जान लें –

बाईं तरफ सूंड

सबसे पहले इस बात का खास ध्यान रखें कि गणपति बप्पा की मूर्ति को घर में ला रहे हैं तो स्थापित करने से पहले उनकी सूंड की ओर ज़रूर से ध्यान दें क्योंकि उनका सूंड बाईं ओर ही होना चाहिए. हम बाईं ओर पर ज़ोर इसलिए दे रहे हैं क्योंकि ऐसा करना उनकी मां गौरी के प्रति उनका प्यार दर्शाती है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कई भक्त ऐसे भी हैं जो मां गौरी और विघ्नहर्ता बप्पा मौरया की एक साथ पूजा करते हैं.

पीठ दिखे

यही नहीं, गणपति जी की मूर्ति स्थापित करते समय यह भी ध्यान दें कि गणपति बप्पा की पीठ गलती से भी किसी भी कमरे की ओर न हों. हम ऐसा इसलिए बोल रहे हैं क्योंकि मान्यता यह है उनकी पीठे के पीछे दरिद्रता का निवास होता है.

दक्षिण दिशा वर्जित

भगवान गणपति जी की मूर्ति को आप गलती से भी घर में कभी भी दक्षिण दिशा की ओर स्थापित न करें. कोशिश करें कि मूर्ति को पूर्व या फिर पश्चिम की ओर ही स्थापित करें. ऐसा करने से आपके घर में खुशहाली आएगी.

उत्तर-पूर्व दिशा है सबसे शुभ

बताते चलें कि गणपति बप्पा की मूर्ति को स्थापित करने की सबसे शुभ जगह घर की उत्तर-पूर्व दिशा ही मानी गई है. वहीं, अगर आपके घर में ऐसा कोई कोना ही मौजूद नहीं है तो घबराए या फिर परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि आप पूर्व या पश्चिम दिशा में भी गणपति बप्पा की मूर्ति स्थापित कर सकते हैं.

इन  4 महत्वपूर्ण बातें आप ज़रूर से ध्यान में रखें अगर आप अपने घर गणपति बप्पा को स्थापित करने जा रहे हैं. यह सत्य है कि अगर मन चंगा तो कठौती में गंगा… अथार्त अगर आपका मन साफ है और आप दिल से भगवान की पूजा अराधना करते हैं तो इससे बड़ी कोई दिशा नहीं और ना ही पूजा मानी जाती है.

साभार: वेद संसार डॉट कॉम 

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।