नई दिल्ली. मी टू कैंपेन के तहत पूर्व संपादक और केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगे हैं. लेकिन अभी तक इन आरोपों पर विदेश राज्य मंत्री अकबर की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई थी जिसे लेकर मोदी सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई है. इस मामले के कारण मोदी सरकार की छवि को भी नुकसान पहुंचा है. वहीं कांग्रेस ने एमजे अकबर के इस्तीफे की मांग की है. मीडिया में ऐसी खबरें हैं कि सरकार पर इस्तीफे का दबाव बढ़ रहा है और सरकार एमजे अकबर के नाइजीरिया से लौटने के बाद उनके इस्तीफे की मांग कर सकती है. 

बता दें कि #MeToo अभियान के तहत अब तक 9 महिला पत्रकारों ने अकबर पर  यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है. इन आरोपों पर विदेश राज्य मंत्री अकबर की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. 

9 महिला पत्रकार जिन्होंने  ने एमजे अकबर पर लगाए यौन उत्पीड़न के आरोप 

प्रिया रमानी 

सबसे पहले इस क्रम में जर्नलिस्ट प्रिया रमानी ने पिछले साल मैग्ज़ीन के लिए एक स्टोरी में बिना उनका नाम लिए उस गलत व्यवहार के बारे में लिखा था. अब उन्होंने एक ट्वीट के ज़रिए अकबर का नाम लिखकर उन पर आरोप लगाए हैं. अपने आर्टिकल में रमानी ने लिखा था कि ‘अकबर फोन पर अश्लील बातें करने, मैसेज करने, भद्दे कॉम्प्लीमेंट्स देने और न को न समझने में माहिर हैं.’ कैसे चुटकी काटना है, मारना है, रगड़ना और पकड़कर हमला करना है.’ बोलने की आपको वह कीमत चुकानी पड़ती है जिसे अदा करने के लिए शायद बहुत सी महिलाएं तैयार नहीं होतीं.

वह विस्तार में लिखती हैं कि कैसे अकबर ने उन्हें असहज महसूस कराया था. रमानी ने कहा कि उसे होटल की लॉबी में घंटों इंतजार करना पड़ा और जब वह अपनी बैठकें कर रात 9.30 बजे वापस आए तो उससे पूछा गया कि क्या वह यहां रुकना चाहती है. पत्रकार ने कहा कि 'जब मैंने मना किया तो उन्होंने शालीनतापूर्वक मुझसे कहा कि कार्यालय की कार ले जाओ और मुझे घर भेजा. लेकिन, इस घटना के बाद मैं कभी उनके पसंद के लोगों में नहीं रही.'

शतापा पॉल

मंगलवार को अकबर के खिलाफ एक और पत्रकार सामने आयी. शतापा पॉल ने रमानी के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए लिखा, मी टू. एमजे अकबर 2010-11 कोलकाता में इंडिया टुडे में काम करने के दौरान.”

प्रेरणा सिंह बिंद्रा

पत्रकार प्रेरणा सिंह बिंद्रा ने एमजे अकबर का नाम लिए बिना इसी तरह की एक घटना के बारे में 7 अक्टूबर को ट्वीट किया. वे कहती हैं, एक प्रख्यात संपादक ने मुझे ‘काम पर चर्चा’ करने के लिए होटल में बुलाया और फिर जब मैंने मना कर दिया तो पढ़ रहे मैगजीन को बेड पर रख दिया. सोमवार (8 अक्टूबर) को बिंद्रा ने अकबर का नाम शामिल किया. वे कहती हैं, “जब मैंने रात में होटल के कमरे में जाने से मना कर दिया, चीजें बुरी होने लगी. एक बार जब पूरी टीम की मीटिंग हो रही थी, उस समय भी अकबर ने भद्दी टिप्पणी की थी. बाद में एक और लड़की ने मुझे बताया था कि उसे भी होटल के कमरे में मिलने के लिए बुलाया गया था. मैं शहर में अकेली रह रही थी, इसलिए चुप रही. 

शुमा राहा 

प्रिया रमानी के बाद एक दूसरी जर्नलिस्ट महिला शुमा राहा ने ट्वीट करके आपबीती सुनाई. वह लिखती हैं कि 1995 में जब अकबर एशियन ऐज के संपादक थे तब उन्होंने कोलकाता के ताज बंगाल होटल के एक कमरे में उन्हें इंटरव्यू के लिए बुलाया. उन्होंने कहा कि अकबर ने कुछ भी नहीं किया, लेकिन ‘एक होटल के कमरे में एक बिस्तर पर बैठकर हुए एक इंटरव्यू के बाद उसी शाम को पीने के लिए निमंत्रण बेहद ही असहज करने वाला था’. इन सबके बाद शुमा ने जॉब ऑफर को ठुकरा दिया.
 
गजाला वहाब

जर्नलिस्ट गजाला वहाब ने एक नीजि वैबसाइट को अपनी आपबीती सुनाई है. अपने पुराने दिनों को याद करते हुए वहाब ने कहा, ''साल 1994 में उन्होंने इंटर्न के रूप में एशियन एज अखबार ज्वाइन किया था, जहां अकबर एडिटर थे. इस दौरान अकबर ने उन्हें भद्दे मैसेज भेजे और कई बार अपने केबिन में बुलाकर प्रताड़ित भी किया. एक दिन अकबर ने जब मुझे अपने केबिन में बुलाया, तो वह अपना वीकली कॉलम लिख रहे थे. उन्होंने मुझे डिक्शनरी से कुछ शब्द ढूंढने के लिए कहा. शब्दों को ध्यान से देखने के लिए जब झुकी, तो उन्होंने मेरी छाती से लेकर कमर तक हाथ फेरा. मैं तब बहुत डर गई थी. वहाब ने बताया कि ऐसा कई बार हुआ है, जब अकबर ने उन्हें छूने की कोशिश की. वहाब ने ब्यूरो चीफ सीमा मुस्तफा से शिकायत भी की थी, लेकिन कुछ एक्शन नहीं लिया गया.

सुपर्णा शर्मा

एशियन एज की एडिटर सुपर्णा शर्मा ने भी पूर्व पत्रकार और विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर पर आरोप लगाए हैं. एक अखबार के साथ बातचीत में सुपर्णा शर्मा ने कहा कि साल 1993 से 1996 के दौरान अकबर उनके बॉस थे और वो अपने काम की रिपोर्ट उन्हें देती थीं. सुपर्णा ने कहा, मैं एक दिन ऑफिस में काम कर रही थी और अकबर मेरे पीछे खड़े थे. उन्होंने मेरी ब्रा का स्ट्रैप खींचा और धीरे से कुछ कहा, जो मुझे फिलहाल याद नहीं है. मैं डर गई थी.  

कनिका गहलोत

मीडिया के साथ बातचीत में फ्रीलांस जर्नलिस्ट कनिका गहलोत ने कहा कि 1995 से 1997 के दौरान उन्होंने एमजे अकबर के साथ काम किया है, सभी लोगों के साथ उनका व्यवहार बहुत खराब था. घटना के बारे में गहलोत ने बताया कि एक दिन उन्हें भी होटल में बुलाया गया, लेकिन कनिका के एक बार मना करने के बाद अकबर ने फिर दोबारा कभी नहीं बुलाया.

सुतपा पॉल 

साल 2010-11 के दौरान सुतपा पॉल इंडिया टुडे में जर्नलिस्ट थीं. तब जाने-माने एडिटर एमजे अकबर भी इसी कंपनी में थे. सुतपा पॉल का आरोप है कि अकबर ने उन्हें कई बार ड्रिंक करने की जिद की. मना करने पर अकबर कहते थे, 'न ड्रिंक करती हो, न स्मोक करती हो, किस तरह की जनर्लिस्ट हो तुम. सुतपा पॉल ने बताया कि उनके पास बहुत सारे स्टोरी आइडियाज थे, लेकिन अकबर किसी भी स्टोरी आइडिया के बारे में बात नहीं करना चाहते थे.

सबा नकवी

एक आर्टिकल में जर्नलिस्ट सबा नकवी ने अपने साथ हुए हैरासमेंट का जिक्र किया है. सबा ने सीधे तौर से उस शख्स का नाम नहीं बताया है. लेकिन हिंट देते हुए कहा कि उसका नाम 'ग्रैंड मुगल सम्राट' से मिलता जुलता है. सबा ने उस शख्स का नाम लिए बगैर कहा कि उसने पहले ऑफिस में प्रताड़ित किया, फिर बाद में वो एक राजनेता बन गया.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।