दैनिक जीवन के रहन सहन और खानपान मॆ जो खर्च आता है,उसे हर व्यक्ति को अपने संचित धन से या फ़िर कमाकर खर्च करना पड़ता है,आय और व्यय के संतुलन मॆ कमी आपको कर्ज की ओर धकेलती है,इसके लिये आपको ज्यादा आय करना पड़ेगी या फ़िर खर्च कम करना होगा,जो की हमेशा ही असम्भव होता है एक निश्चित रुप से खर्च हमेशा ही जीवन मॆ लगा रहता है,आवश्यकता रहती है आय बढ़ने की,जिससे आप अपने उज्ज्वल भविष्य के लिये कुछ धन इकठ्ठा कर सकें.

*कर्ज बढ़ाने वाले ग्रह योग*

-शनि मंगल शुक्र और राहु ये ग्रह यदि आपके विरोध मॆ चल रहे है तो एक न एक दिन आपको कर्ज के दलदल मॆ अवश्य ले जायेंगे,राहु और शनिदेव आपकी प्रतिष्ठा को कम कर किसी न किसी चक्कर मॆ डालकर आपको कोर्ट कचहरी बीमारी या फ़िर झगडे मुकदमे मॆ फंसाकर आपके जीवन मॆ कर्ज दुश्वारियों और संकट का निमंत्रण देती है इसीलिये जीवन मॆ यदि आपको कोई संकट न भी हो तब भी शनि मंगल और राहु का उपाय अवश्य करना चाहिये,इन ग्रहों के उपाय आपको शनि मंगल शुक्र राहु जनित उपायों से छुटकारा अवश्य दिलायेंगे,और आप किसी भी प्रकार के कर्ज रोग बीमारी से दूर रहेंगे.

*कलयुग मॆ हनुमत सेवा रामायण पाठ*-

कलयुग मॆ राम नाम सत्य है,उनके परमभक्त हनुमान राम भक्तो के जीवन मॆ सुख शांति लाने के लिये तथा शनि,मंगल,राहु,शुक्र प्रदत्त कष्टों से राहत देने के लिये साक्षात है,हनुमान जी को रामसेवा अतिप्रिय है,परिवार मॆ प्रेम से रामायण या रामचरितमानस का पाठ आपको सभी संकट और कर्ज से मुक्ति देगा,साथ ही ईश्वर की कृपा भी होगी.

*मंगलनाथ की भात पूजा*

-जन्म से मरण तक हम भूमि के सम्पर्क मॆ रहते है,शरीर मॆ रक्त मंगल ग्रह से ही है रक्त मॆ आने वाले विकार हमे निर्बल करते है वही मंगल कृपा से मिलने वाली भूमि के कारण हम धनी और कर्जदार होते है,इसीलिये भुमीपुत्र मंगल का हमारे जीवन मॆ प्रभाव अन्य सभी ग्रहों की तुलना मॆ अधिक है,उज्जैन एकमात्र स्थान है जहा भूमिपुत्र मंगल का स्थान है,इस स्थान पर मंगल ग्रह की भातपूजा करने से मंगलग्रह जनित दोष दूर होते है फलस्वरूप आपको कर्ज,रोग तथा अन्य संकटों से छुटकारा मिलता है.

*ऋणमुक्तेस्वर महादेव का पूजन*

-भगवान शिव ही एक ऐसे देवता है जो आपके पापरूपी बिष को पी सकते है,यदि सच्चे भाव से शिवपूजन किया जाय तो निश्चितरुप से आपके जीवन मॆ कष्टों मॆ कमी आयेगी,दुष्ट शक्तियां आपको कष्ट नही दे पायेगी आप शनि,मंगल और राहु मॆ दुष्प्रभाव से बच पायेंगे,लेकिन इसके लिये आपको सच्चे मन से भगवान शिव का पूजन करना पड़ेगा,उज्जैन और ओंकारेश्वर मॆ भगवान शिव के वो मंदिर जहा संकल्पपूर्वक पूजन करने से जातक ऋणमुक्त होता है साथ ही उसे राहत भी मिलती है.

*चने जी दाल से ऋणमुक्ति*

-गुरु ग्रह की प्रसन्नता के लिये चने की दाल अर्पण की जाती है,गुरु ग्रह कृपा से जातक व्यापार,नौकरी और वंश मॆ वृद्धि पाता है,चने की दाल से वेदौक्त पुरानौक्त माध्यम से संकल्पपूर्वक निश्चित दिन और ग्रह नक्षत्र मॆ की गई पूजा आपको सभी तरह के ॠणों से मुक्त करती है साथ ही लगातार नियम से पूजा करने पर आपको समृद्धि भी मिलती है.

समय से पहले करे 

*उपाय*

*अधिकतर लोग गले तक पानी आने पर ही तैरना सीखते है फलस्वरूप ज़रा से संकट मॆ ही डूब जाते है इसिलिये यदि आप अच्छी स्थिति मॆ भी है तो उपरोक्त उपाय अवश्य करवाना चाहिये ताकि आपको गम्भीर समस्या का सामना ही नही करना पड़े,और जिन्हे कर्ज रोग,मुकदमों का संकट है तो उन्हें  अविलम्ब ये उपाय करना चाहिये.

*प.चंद्रशेखर नेमा"हिमांशु"*

9893280184,7000460931

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?

2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश

3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता

5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र

6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग

7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में

8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल

9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?

10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात

11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।