ज्‍योतिष शास्‍त्र में विवाह से पूर्व वर-वधू की कुंडली का मिलान करना अनिवार्य माना जाता है. कुंडली का मिलान करवाने से वैवाहिक जीवन के सुखी रहने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं. विवाह से पूर्व वर-वधू के मांगलिक होने की भी जांच की जाती है.

देखा जाए तो कई कारणों से वैवाहिक जीवन में परेशानियां आती हैं. कुंडली के कुछ ऐसे दोष होते हैं जिनकी वजह से पति-पत्‍नी के बीच तालमेल नहीं बन पाता है और झगड़े होते रहते हैं. कुंडली के ऐसे ही दोष में से एक है मांगलिक दोष.

मंगल ग्रह की वजह से बनने वाला मांगलिक दोष वैवाहिक जीवन के लिए अत्‍यंत कष्‍टकारी होता है. अगर किसी ने विवाह से पूर्व कुंडली मिलान नहीं किया है और विवाह के बाद मालूम पड़े कि आपका जीवनसाथी मांगलिक है या उसकी कुंडली में मंगल दोष है तो कुछ खास उपाय कर के आप अपने वैवाहिक जीवन को इस दोष से मुक्‍ति दिला सकते हैं.

ज्योतिष मान्यताओं के अनुसार, किसी भी व्यक्ति की कुंडली में 9 ग्रहों का प्रभाव होता है. इनमें 7 मुख्य ग्रह और 2 छाया ग्रह होते हैं. इन ग्रहों के प्रभाव के अनुसार ही जातक के जीवन में अच्छा या बुरा समय आता है. कुंडली में मंगल के घर में किसी शत्रु ग्रह के होने या किन्हीं विशेष परिस्थितियों में मांगलिक दोष बनता है.

सबसे पहले एक बात जान लीजिए, हर स्थिति में मंगल का प्रभाव उतना पीड़ादाई या अशुभ नहीं होता है, जितना उसके बारे में जानने-सुनने को मिलता है. कुछ स्थितियों में छोटी-सी पूजा से भी अशुभ प्रभाव को दूर किया जा सकता है. इसलिए फालतू के डर और वहम को मन में न पालें.

अगर न हो कुंडली तो भी जानें मंगल का प्रभाव :

जिस जातक की कुंडली या जन्म का सही समय न पता हो, वे जीवन की परिस्थितियों को देखकर भी मंगल ग्रह के दोष का पता लगा सकते हैं. जो लोग मंगल से पीड़ित होते हैं, सोते समय उनका मुंह या आंखें पूरी तरह बंद नहीं होते हैं. किसी अन्य के देखने पर उनकी आंखें खुली हुई प्रतीत होती हैं.

यह भी है बड़ा लक्षण:

जिस जातक की कुंडली में मंगल भारी चल रहा होता है उसके घर में इलैक्ट्रिक चीजें लगातार खराब होती रहती हैं. साथ ही उस व्यक्ति को रक्त संबंधित कोई बीमारी घेर लेती है. ऐसे जातकों में गुस्सा बहुत होता है, जिससे ये जल्द ही अपना नियंत्रण खो बैठते हैं.

आप ऐसे कर सकते हैं मंगल दोष को शांत:

आजकल ज्योतिष विद्या पैसा कमाने का एक जरिया मात्र बनकर रह गई है. ज्ञानी ज्योतिषी कम ही मिलते हैं और कई बार अलग-अलग ज्योतिषी कुछ अलग बातें बता देतें हैं तो भ्रम की स्थिति बनना स्वभाविक है. ऐसे में आप बजरंगबली की पूजा करना शुरू कर दें. बजरंगबली को मंगल ग्रह का देव माना गया है और वह सभी अमंगल स्थितियों का नाश कर भक्त के कष्ट हर लेते हैं.

कुंडली में कैसे बनता है मांगलिक दोष

जब किसी व्‍यक्‍ति की कुंडली में पहले, चौथे, सातवें, आठवे या बारहवे भाव में मंगल हो तो वह जातक मांगलिक कहलाता है. उसकी कुंडली में मंगल दोष पाया जाता है.

मांगलिक दोष की शांति के उपाय

* कुंडली में इस दोष की शांति के लिए मंगल ग्रह को शांत करने के उपाय करने चाहिए. मंगल दोष की शांति के लिए उज्‍जैन के मंगलनाथ मंदिर और अंगारेश्‍वर मंदिर में भात पूजा करवाई जाती है. मान्‍यता है कि उज्‍जैन में ही मंगल देव की उत्‍पत्ति हुई थी.

* अगर आपके जीवनसाथी की कुंडली में मांगलिक दोष है और इस वजह से आपके वैवाहिक * जीवन में परेशानियां आ रही हैं तो हर मंगलवार को नियमित शिवलिंग पर मसूर की दाल चढ़ाएं. ऐसा इसलिए है क्‍योंकि मंगल की पूजा शिवलिंग के रूप में की जाती है और मसूर की दाल मंगल ग्रह का अन्‍न है.

* मांगलिक व्‍यक्‍ति को मंगल का रत्‍न मूंगा धारण करना चाहिए. इस रत्‍न के प्रभाव से मंगल ग्रह के सभी दोष दूर होते हैं और उनकी कृपा प्राप्‍त होती है. 

* मंगल दोष से पीडित लोगों को रोज़ अपनी माता का आशीर्वाद लेकर घर से निकलना चाहिए. अपनी मां की सेवा करने वाले लोगों पर मंगल देव की विशेष कृपा बरसती है.

* विवाह से संबंधित परेशानियों से मुक्‍ति पाने के लिए भगवान शिव के साथ माता पार्वती की आराधना करें.

शादी के बाद पता चले यदि मंगल दोष:

अगर आपकी दांपत्य जीवन में परेशानियां चल रही हैं और अब आपको पता चले कि ऐसा मंगल दोष के कारण हो रहा है तो आप पति-पत्नी के लिए अलग-अलग पूजा है. कोई एक भी पूजा कर लेगा तो दिक्कतें कम हो सकती हैं. पत्नी को मंगलवार को ‘मंगला गौरी’ की पूजा और व्रत करने चाहिए. वहीं, पति को अपनी पत्नी के साथ विधिवत ‘भात पूजन’ कराना चाहिए.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।