पलपल संवाददाता, नई दिल्ली. ऑल इंडिया रेलवेमेंस फेडरेशन (एआईआरएफ) के 11 दिसंबर से प्रस्तावित वर्क-टू-रूल आंदोलन को गंभीरता से लेते हुए रेलवे बोर्ड ने फेडरेशन से बातचीत की पहल की और 4-5 दिसंबर को लगातार दो दिन चली मैराथन बैठकों में मेंबर स्टाफ द्वारा रेलकर्मियों की जायज और न्यायोचित मांगों पर शीघ्र उचित कार्यवाही का आश्वासन मिलने के बाद आंदोलन को फिलहाल स्थगित करने का निर्णय फेडरेशन ने लिया है. यह जानकारी एआईआरएफ द्वारा दी गई है.

एआईआरएफ के महामंत्री शिवगोपाल मिश्रा ने कहा कि रेल मंत्रालय के तमाम वरिष्ठ  अधिकारियों के आश्वासन पर हमने भरोसा करके फिलहाल वर्क-टू-रूल को सिर्फ स्थगित किया है. अधिकारियों ने जो आश्वासन दिया है, अगर उस पर कार्रवाई शुरू हुई, तो महीने भर के भीतर ही इसके अच्छे नतीजे देखने को मिलेंगे. उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि इस बार वादाखिलाफी हुई, तो रेल प्रशासन को इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे.

श्री मिश्रा ने रेलवे बोर्ड स्तर पर अधिकारियों से हुई बातचीत की विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि वर्क-टू-रूल को लेकर देश भर में जिस तरह से एआईआरएफ के साथ ही दूसरे जोन की संबद्ध यूनियनों ने जन-जागरण किया, उससे रेल प्रशासन पूरी तरह बैकफुट पर आ गया था. उन्होंने बताया कि बोर्ड के अधिकारियों की पहल पर हुई बातचीत में लगभग सभी मुद्दों पर अधिकारियों से खुलकर चर्चा हुई. अधिकारियों ने कहा कि वे ऐसा कोई आश्वासन नहीं देंगे, जो पूरा न कर सकें.

अधिकारियों ने सभी महत्वपूर्ण मुद्दों पर बोर्ड द्वारा की गई प्रत्येक प्रगति की जानकारी दी. अधिकारियों ने यहां तक कहा कि फेडरेशन को हर लंबित मामलों में की जा रही कार्रवाई की लगातार जानकारी मिलती रहेगी और समस्याओं के समाधान के साथ ही विसंगतियों को दूर करने के लिए ठोस कार्रवाई की जाएगी.

महामंत्रियों के साथ दो दिन चली बैठक के बाद निर्णय

महामंत्री श्री ने कहा कि दो दिन चली मैराथन बैठक में अधिकारियों ने फेडरेशन को पत्र देकर कुछ समय मांगा और कहा कि इस दौरान कार्रवाई और तेज की जाएगी. श्री मिश्रा ने कहा कि चूंकि फेडरेशन के कोटा अधिवेशन में वर्क-टू-रूल का फैसला लिया गया था, इसलिए फेडरेशन ने सभी जोनों के महामंत्रियों को वार्ता में आमंत्रित कर बोर्ड के साथ बैठक की. फेडरेशन के सभी  साथियों का मत था कि अधिकारियों की मांग के अनुसार कुछ वक्त दिया जाना चाहिए. इसी के मद्देनजर इस वर्क-टू-रूल आंदोलन को फिलहाल सिर्फ स्थगित किया गया है. अगर हमें लगता है कि रेल प्रशासन ने अपना रवैया नहीं बदला है, तो हम सख्त कार्रवाई से पीछे हटने वाले नहीं हैं.

फेडरेशन के आंदोलन के आव्हान से प्रशासन हरकत में आया 

उन्होंने कहा कि ऑल इंडिया रेलवेमेंस फेडरेशन के 'वर्क-टू-रूलÓ की घोषणा के बाद रेलवे बोर्ड और फेडरेशन के बीच बने गतिरोध को खत्म करने के लिए रेल प्रशासन ने उच्च स्तर पर प्रयास किए थे. 4 दिसंबर को पांच घंटे से भी ज्यादा देर तक चली दोनों पक्षों की बैठक में कई बिंदुओं पर चर्चा हुई. 5 दिसंबर को पुन: फेडरेशन और सभी जोनल महामंत्रियों के साथ दोबारा दूसरे चरण की वार्ता हुई. सदस्य कार्मिक एस. एन. अग्रवाल के साथ बैठक में मुख्य रूप से लार्सजेस, एक्ट अप्रेंटिस, ट्रैकमैन के 10-20-20-50 फार्मूला, रनिंग एलाउंस, इंसेटिव बोनस, हार्ड एवं रिस्क एलाउंस के अलावा 1800 और 4600 ग्रेड-पे के प्रमोशन को लेकर लंबी बातचीत हुई. दूसरे चरण की बातचीत में अध्यक्ष रखाल दासगुप्ता, कार्यकारी अध्यक्ष एन. कन्हैया, महामंत्री शिवगोपाल मिश्रा, डबलूसीआरईयू के जोनल महामंत्री मुकेश गालव के अलावा अन्य जोनों के यूनियन के महामंंत्रियों में मुकेश माथुर, के. एल. गुप्ता, आर. डी. यादव, आर. सी. शर्मा, एस. के. बंदोपाध्याय, गौतम मुखर्जी, बसंत चतुर्वेदी, एस. के. त्यागीऔर वेणु पी. नायर उपस्थित थे.
 

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।