नई दिल्ली. फूलों का हमारे जीवन की खुशियों में बहुत योगदान है. हम आपके लिए सुंगधित गुलाब के फूल के कुछ ऐसे उपाय या टोटके लाएं हें जिन्हें आजमाकर आप अपने जीवन में सबकुछ पा सकते हैं. गुलाब सफेद, गुलाबी और लाल रंग में अधिकतर पाया जाता है. हालांकी आजकल नीले और काले रंग के गुलाब भी पाए जाने लगे हैं. पण्डित दयानन्द शास्त्री के अनुसार गुलाब को गुलाब इसलिए कहते हैं क्योंकि यह अधिकतर गुलाबी रंग में बहुतायत में मिलता है.  

गर्मियों में गुलाब के फूलों का रस चेहरे पर मलने से चेहरे पर ठंडी-ठंडी ताजगी बनी रहती है. आंखों की जलन और खुजली दूर करने के लिए गुलाब जल का प्रयोग किया जाता है.

ज्योतिषशाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री बताते हैं कि घर मे गुलाब के घर में महकते रहने से किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं होती. मन पवित्र और शांत बना रहता है. इससे जीवन में उत्साह बना रहता है.

पण्डित दयानन्द शास्त्री के अनुसार इसी गुलाब के कुछ आसान से टोटके करके आप धन प्राप्ति के मार्ग पर भी जा सकते हैं, जिसकी जानकारी शायद ही आपको हो. पण्डित दयानन्द शास्त्री से जानिए गुलाब के कुछ सरल और प्रभावी टोटके और उनके लाभ–

बच्चे के बीमार होने पर

यदि आपके घर में कोई बच्चा बीमार और जो भी खाता है उसकी उल्टी कर देता है. तब ऐसे में एक पान के पत्ते पर एक बूंदी का लड्डू, पांच गुलाब के फूल रखकर बच्चे के ऊपर से सात बार उसार कर चुपचाप किसी मंदिर में रखकर आ जाएं कष्टों से छुटकारा मिल जाएगा.

मनोकामना पूर्ति हेतु

किसी भी शुक्ल पक्ष के प्रथम मंगलवार को ताजे गुलाब के फूल बजरंगबली पर 11 की संख्या में चढ़ाएं. ऐसा लगातार 11 मंगलवार तक करने पर बजरंगबली प्रसन्न होकर साधक की मनोकामना पूर्ण करते है.

रोजगार या नोकरी हेतु

मंगलवार से प्रारंभ करते हुए 40 दिनों तक रोज सुबह के समय नंगे पैर हनुमानजी के मंदिर में जाएं और उन्हें लाल गुलाब के फूल चढ़ाएं. ऐसा करने से भी शीघ्र ही रोजगार मिलता है.

गुलाब का दूध

गुलाब का दूध लगाकर लक्ष्मी जी की उपासना करें.देवी महालक्ष्मी के मंदिर हर शुक्रवार को जाकर गुलाब के फूल चढ़ाएं.

अचानक धन प्राप्ति हेतु

किसी भी शाम को गुलाब के फूल में कपूर का टुकड़ा रखकर उसे जला दें. कपूर के जल जाने के बाद उस फूल को देवी को चढ़ा दें.

तिजोरी में धन वृद्धि एवम समृद्धि हेतु

घर में बरकत हेतु मंगलवार के दिन लाल चंदन, लाल गुलाब और रोली लेकर उन्हें एक लाल कपड़े में बांध लें और उसे एक सप्ताह के लिए मंदिर में रख दें. एक सप्ताह के बाद उनको घर या दुकान की तिजोरियों में रख दें. इस उपाय से पैसा पानी की तर व्यर्थ न बहेगा.

यह प्रयोग करें रोग निवारण हेतु

अगर घर के किसी सदस्य के स्वास्थ्य में सुधार न हो रहा हो तो एक देशी अखंडित पान, गुलाब का फूल और कुछ बताशे रोगी के ऊपर से 31 बार उतारें तथा उनको चौराहे पर रख दें. इसके प्रभाव से रोगी की दशा में शीघ्रता से सुधार होगा.

इस उपाय से मिलेगी ऋण(कर्ज से) मुक्ति से मुक्ति

अखंडित पंखुड़ी वाले पांच गुलाब के फूल लाएं. इसके बाद सवा मीटर सफेद कपड़ा सामने रख कर बिछाएं और गुलाब के चार फूलों को चारों कोनों पर बांध दें. फिर पांचवां गुलाब मध्य में डालकर गांठ लगा दें. इसके बाद इसे ले जाकर किसी बहती हुई नदी में प्रवाहित कर दें. इस उपाय से ऋण मुक्ति और घर में सुख समृद्धि की प्राप्ति होगी. देवी दुर्गा को पान में गुलाब की सात पंखुडिय़ां रखकर उस पान को देवी दुर्गा को चढ़ा दें. आपको धन की प्राप्ति होगी.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।