नयी दिल्ली. पाकिस्तान के नोरवाल स्थित गुरुद्वारा करतारपुर साहिब के दर्शन करने जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए बनाये जा रहे करतारपुर गलियारे की औपचारिकताओं और समझौते के मसौदे पर गुरुवार को भारत और पाकिस्तान के अधिकारियों ने सौहार्द्रपूर्ण माहौल में विचार-विमर्श किया.

बैठक के बाद जारी संयुक्त वक्तव्य में कहा गया है कि दोनों देशों के अधिकारी सौहार्द्रपूर्ण माहौल में मिले. भारत, पाकिस्तान ने करतारपुर गलियारा शीघ्र चालू करने की दिशा में काम करने पर सहमति जताई है. करतारपुर गलियारे पर भारतीय और पाकिस्तानी अधिकारियों के बीच रचनात्मक वार्ता हुई. भारत की तरफ से बैठक में प्रतिनिधिमंडल की अगुवाई गृह मंत्रालय में संयुक्त सचिव एस. सी. एल. दास ने की जबकि पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल की अगुवाई विदेश मंत्रालय के महानिदेशक डॉ मोहम्मद फैजल ने की.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने इस महत्वपूर्ण बैठक का जिक्र करते हुए ट्वीट किया, “एक स्वप्न को पूर्ण करने की प्रतिबद्धता.” उन्होंने कहा, “भारत व पाकिस्तान के बीच करतारपुर कोरिडॉर के तौर-तरीकों को अंतिम रूप देने के लिए बातचीत शुरू हो गई है, जिससे भारतीय तीर्थयात्रियों को पवित्र गुरुद्वारा दरबार साहिब करतारपुर की यात्रा में आसानी होगी. यह बैठक पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल के अटारी-वाघा संयुक्त जांच चौकी के जरिए पहुंचने के बाद शुरू हुई. यह बैठक भारत की तरफ अटारी के इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट (आईसीपी) पर आयोजित की गई.

इस वार्ता में गृह मंत्रालय, विदेश मंत्रालय, भारतीय राष्ट्रीय उच्च प्राधिकरण व अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी भारत का प्रतिनिधित्व किया. जबकि पाकिस्तान ने विदेश कायार्लय के दक्षिण एशिया महानिदेशक मोहम्मद फैसल की अगुवाई में 18 सदस्यीय दल भेजा. फैसल विदेश कायार्लय के प्रवक्ता भी हैं. भारत ने यह स्पष्ट कर दिया है कि यह बैठक द्विपक्षीय वार्ता की बहाली नहीं है.

आपको बता दें कि पुलवामा में 14 फरवरी को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के काफिले पर आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के हमले में 40 से अधिक जवानों के शहीद होने और उसके बाद भारत की ओर से पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकवादी शिविर पर हवाई कार्रवाई से दोनों देशों के बीच रिश्ते बहुत तल्ख हो गये थे. इसके बाद दोनों देशों के बीच किसी मामले पर यह पहली बैठक हुई.

बयान में कहा गया है कि प्रस्तावित समझौते के विभिन्न पहलुओं और प्रावधानों पर विस्तृत और रचनात्मक विचार-विमर्श हुआ. दोनों पक्ष करतारपुर साहिब गलियारे के काम को तेजी से पूरा करने पर सहमत हुए. दोनों तरफ से तकनीकी विशेज्ञयों ने भी प्रस्तावित गलियारे की एकरूपता रखने तथा उसे जुड़े अन्य मुद्दों पर विचार-विमर्श किया. दोनों पक्ष अगली बैठक दो अप्रैल को वाघा में करने पर सहमत हुए. इससे पहले 19 मार्च को तकनीकी विशेज्ञयों की बैठक होगी.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।