चुनाव-चर्चा. एमपी के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने त्रिशंकू लोकसभा का अनुमान व्यक्त करते हुए कहा है कि- लोकसभा चुनाव में कांग्रेस बहुत बहुत अच्छा करेगी, परन्तु बहुमत मिलने की संभावना नहीं है, इसलिए केन्द्र में नई सरकार बनाने के लिए चुनाव बाद गठबंधन करना होगा!

वैसे तो चुनाव के नतीजों को लेकर कोई भी भविष्यवाणी नहीं की जा सकती है, परन्तु इस वक्त जो सियासी तस्वीर है, उसके मद्देनजर कमलनाथ का कहना उन तमाम सर्वे के करीब है जो त्रिशंकू लोकसभा के संकेत दे रहे हैं.

हालांकि, कमलनाथ ने तो यह सच्चाई स्वीकार कर ली, परन्तु बीजेपी अब भी भ्रमजाल से बाहर नहीं आ पा रही है. भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं एमपी के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का कहना है कि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने लोकसभा चुनाव के मद्देनजर केंद्र में नई सरकार बनने को लेकर सच्चाई स्वीकार कर ली है और इसके लिए वे प्रशंसा के हकदार हैं. चौहान ने ट्वीट के जरिए कहा कि- वे कमलनाथ की प्रशंसा करते हैं कि उन्होंने यह सच्चाई स्वीकार कर ली है कि केंद्र में कांग्रेस की सरकार नहीं बनने वाली है, न ही राहुल गांधी के प्रधानमंत्री बनने की कोई संभावना है? 

जबकि, मजेदार बात यह है कि कमलनाथ ने यह नहीं कहा है कि केन्द्र में कांग्रेस की सरकार नहीं बनेगी. अलबत्ता, बगैर गठबंधन के तो इस बार बीजेपी की सरकार भी बनना मुश्किल है!

यदि राजनीतिक अनुमान सच साबित होते हैं तो बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बन कर भले ही उभरे, परन्तु उसे एकल बहुमत- 272 सीट नहीं मिलेगा. यही नहीं, उसे बहुमत जुटाने के लिए पर्याप्त सहयोगी भी शायद ही मिलें? इसीलिए कमलनाथ ने कहा है कि- मौजूदा सत्तारूढ़ पार्टी भाजपा को सरकार बनाने लायक सीटें नहीं मिलेंगी और कोई भी बड़ी पार्टी उसके साथ गठबंधन नहीं करेगी! 

कमलनाथ का साफ मानना था कि- वाकई, हम बहुत बहुत अच्छा करने जा रहे हैं, लेकिन मैं बहुमत तक पहुंचता नहीं देखता हूं. ऐसे में चुनाव बाद गठबंधन करना होगा. 

कमलनाथ का कहना था कि- आज दो तरह के दल दिख रहे हैं, एक भाजपा विरोधी और दूसरे भाजपा समर्थक. भाजपा समर्थकों की संख्या बहुत कम है और भाजपा के विरोध में इतनी सारी पार्टियां हैं. संख्या चाहे जो भी हो, भाजपा यह सोच रही है कि वह सरकार बनाने में सक्षम होगी, परन्तु यह बहुत दूर है, क्योंकि न तो उनके पास संख्या होगी और न ही अन्य पार्टियां उनके साथ जाएंगी?

अब तक के सियासी संकेत यही हैं कि बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बन कर तो उभर सकती है, परन्तु केन्द्र में सरकार बनाना उसके लिए बेहद मुश्किल होगा, जबकि दूसरे नंबर पर रहने के बावजूद कांग्रेस आसानी से सरकार बना सकती है!

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।