प्रदीप द्विवेदी. लोकसभा चुनाव के लिए 23 मई 2019 को मतगणना हो रही थी, उस रोज मतगणना से पहले पलपल इंडिया ने सियासत के सितारों की गति के आधार पर कहा था कि...

*नरेन्द्र मोदी की राह में बाधाएं हैं, लेकिन कामयाबी मिल सकती है, अलबत्ता अपने काम का तरीका बदलना होगा.

*राहुल गांधी को सहयोगी जुटाने में परेशानी के संकेत हैं, सफलता मिलेगी, किन्तु समय लग सकता है.

*नितिन गड़करी का भविष्य अच्छा है, किन्तु स्वयं प्रयास भी करने होंगे.

*राजनाथ सिंह का समय सहयोगी बना है, अचानक सफलता का योग बन सकता है.

*नीतीश कुमार का समय अच्छा, परंतु सहयोगियों के साथ असहज महसूस करेंगे.

*सन् 2023 तक नरेन्द्र मोदी को केन्द्र की गद्दी से उतारना आसान नहीं! (palpalindia.com 30/7/17)

अगर सितारों की समीकरणों पर भरोसा करें तो सन् 2023 तक पीएम नरेन्द्र मोदी को केन्द्र की गद्दी से उतारना आसान नहीं है, हां! यह सारा समय परेशानियों से भरा रह सकता है और कई साथी-समर्थक दूर भी होसकते हैं, खासकर... नवंबर 2017 से! वैसे नरेन्द्र मोदी के सितारे बुलंद हैं और वे इस दौरान विदेशों में लोकप्रियता का परचम लहराएंगे! कांग्रेस नेता राहुल गांधी के सितारे भी पटरी पर आ रहे हैं और अक्टूबर 2017 के बाद उनकी कामयाबी की कहानी शुरू हो सकती है, लेकिन... सन् 2023 के बाद गांधी देश की राजनीति में अपनी विशेष जगह बनाने में कामयाब रहेंगे! तुला लग्र में जन्में पीएम नरेन्द्र मोदी को राजनीतिक संतुलन बनाने में गजब की महारथ हासिल है और दशमेश चन्द्र की दशा ने उन्हें दिल्ली की गद्दी तक पहुंचाया है.

नवंबर 2017 के बाद साथी-समर्थकों की प्रत्यक्ष/अप्रत्यक्ष नाराजगी उनके हित में नहीं है, लेकिन... सन् 2019 के उत्तरार्ध से स्थिति में सुधार संभव है! मिथुन लग्र में जन्में राहुल गांधी की परेशानियों के तकरीबन तीन साल समाप्त होने को हैं और अक्टूबर 2017 के बाद उनके राजनीतिक सितारे पटरी पर आने के आसार हैं. *इससे पहले 12 सितंबर 2017 को मोदी-शाह को लेकर सियासत के सितारों में कहा था कि...

*अगले दो साल इन दोनों के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं! (palpalindia.com 12/9/17)

इस वक्त देश की राजनीति में पीएम नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की जोड़ी धमाल मचा रही है... सियासत के सितारों पर भरोसा करें तो राहु-केतु की बदौलत अगले डेढ़ साल इस जोड़ी के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं, जहां नरेन्द्र मोदी पराक्रम के क्षेत्र में कामयाबी का परचम लहराएंगे वहीं अमित शाह कर्मक्षेत्र में सफलता का झंड़ा फहराएंगे! कितनी कामयाबी मिलेगी? यह इस बात पर निर्भर है कि इनकी कुंडली में केतु कितना कारक है! आश्चर्यजनक रूप से गैरहिन्दुओं के बीच नरेन्द्र मोदी की लोकप्रियता बढ़ेगी तो अमित शाह जिसके साथ खड़े होंगे वही राजनीतिक कामयाबी की राह पकड़ लेगा, मतलब... किंग मेकर की सशक्त भूमिका में सफल रहेंगे शाह! गुरु की गति बताती है कि... पीएम नरेन्द्र मोदी के ज्ञान की विदेशों में धाक जमेगी तो अमित शाह संगठन को भव्य रूप देने में सफल रहेंगे!

शनि के गोचर पर नजर डालें तो जहां नरेन्द्र मोदी के लिए अगले दो साल लंबी यात्राओं के रहेंगे तो अमित शाह के कर्म को भाग्य का प्रबल साथ मिलेगा! ऐसा नहीं है कि इस जोड़ी के लिए सबकुछ अच्छा-अच्छा ही है, अगले दो साल जहां पीएम मोदीे लिए मानसिक रूप से थकानेवाले रहेंगे वहीं अच्छी शारीरिक क्षमता के बावजूद कुछ यात्राएं परेशान करेंगी! सबसे अजीब स्थिति यह है कि पीएम मोदी के प्रत्यक्ष मित्रों और अप्रत्यक्ष शत्रुओं की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी होगी, खासकर... पार्टी के भीतर गुप्त विरोधी बढ़ेंगे, हालांकि वे कर कुछ नहीं पाएंगे!

अमित शाह को अगले डेढ़ साल तक अपनी भाषा पर खास ध्यान देना होगा, वरना... बेमतलब के विवाद खड़े हो सकते हैं, यही नहीं... सहयोगियों की छोटी-छोटी कमजोरियों को नजरअंदाज करना होगा क्योंकि उनकी उम्मीदों पर शायद वे उतने खरे नहीं उतर पाएंगे! कुल मिला कर अगले दो साल कई मामलों में निर्णायक होंगे जिनके कारण यह जोड़ी अपने विरोधियों से बहुत आगे निकल जाएगी, लेकिन... यह दो साल बेहद सतर्क रहने के और संतुलन बनाने के भी हैं क्योंकि इनके नतीजों के आधार पर ही अगले पांच साल नरेन्द्र मोदी और अमित शाह को सफलता के सर्वोच्च शिखर तक पहुंचा सकते हैं!

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।