आज बदलते समय की Mobile Insurance जरुरत बन गई है, क्योकी आज बदलते समय में, महंगे ब्रांडेड मोबाइल रखना, एक व्यक्तिगत स्टेटस का विषय बन चूका है, हर कोई अच्छे से अच्छा, मोबाइल रखना चाहता है, और अच्छे से अच्छे मोबाइल की कीमत भी अच्छी खासी होती है और इस तरह जब आप कोई महंगा मोबाइल खरीदते है तो ये आपके किसी भी अन्य सम्पति जैसे आपकी बाइक या  टू व्हीलर की तरह एक सम्पति ही होती है और किसी भी सम्पति की तरह मोबाइल नाम की इस सम्पति के साथ भी कई तरह के संभावित नुकसान की आशंका रहती है जैसे 

मोबाइल गिरने पर उसका टूट जाना,

मोबाइल का हार्डवेयर/सॉफ्टवेर प्रॉब्लम या डेड हो जाना,

मोबाइल चोरी हो जाना,

बारिश पानी/आग किसी अन्य वजह से मोबाइल को होने वाला नुकसान,

सस्ते मोबाइल, के साथ इस तरह की प्रॉब्लम होने पर हम उसे बड़ी आसानी से replace कर सकते है या  रिपेयर करा सकते है,

लेकिन अगर आपके पास कोई महंगा प्रीमियम मोबाइल है, और अगर उसके साथ इस तरह की प्रॉब्लम आती है, तो महंगे मोबाइल को replace करके दूसरा मोबाइल लेना/खरीदना/रिपेयर कराना इतना आसान नहीं होता हैइसमें काफी पैसे लगते है,जिसका बुरा असर हमारे पॉकेट और फमिली बजट पर पड़ जाता है,  तो लोगो के साथ होने वाली इस तरह की परेशानी को ध्यान में रखते हुए, आज बहुत सारी बीमा कंपनी Mobile Insurance की सुविधा दे रही है,

MOBILE INSURANCE किस तरीके से काम करता है ?

जब आप नया मोबाइल खरीदते है, और साथ उस मोबाइल के साथ भविष्य में होने वाले किसी संभावित नुकसान से बचने के लिए आप Mobile Insurance भी खरीद लेते है,

आपको Mobile की किमत के अनुसार बीमा का खर्च यानि प्रीमियम फीस चुकाना होता है, प्रीमियम वन टाइम भी हो सकता है या renewal based  भी हो सकता है,

इसके बाद बीमा कंपनी आपके साथ या तो फॉर्म भर कर या फिर ऑनलाइन ही बीमा कंपनी के एप्लीकेशन के द्वारा, आपके मोबाइल का बीमा कॉन्ट्रैक्ट कर लेती है,
इस कॉन्ट्रैक्ट में आपको बता दिया जाता है कि – आपको आपके मोबाइल के साथ होने वाली किस किस तरह के नुकसान से सुरक्षा (Insurance cover) मिलेगा,

इसके बाद अब अगर बीमा की जो टाइम पीरियड जैसे अगर १ साल का बीमा कवरेज है -तो एक साल के भीतर बीमा कवरेज के अन्दर आने वाले किसी भी तरह के नुकसान होने पर आप बीमा कंपनी को कॉल/ईमेल करके जानकारी दे सकते है,
और फिर बीमा कंपनी द्वारा उस नुकसान को चुकाया जाता 

किस तरह के नुकसान से सुरक्षा (INSURANCE COVER) मिलता है ?

Mobile Insurance के अंतर्गत आपको अलग अलग बीमा कंपनी से अलग अलग तरह के बीमा कवरेज मिलता है, अगर बात की जाये कि – किस तरह के कवरेज मिलते है, और किस तरह के कवरेज नहीं मिलते है,

तो पहले जानते है – Mobile Insurance में मिलने वाली बीमा सुरक्षा (कवरेज )

पानी जाने से होने वाला नुकसान

हार्डवेयर प्रॉब्लम जैसे – स्क्रीन काम नहीं करना, ,ईरफ़ोन जैक या फिर चार्जिंग प्रॉब्लम

आग से होने वाला नुकसान

मोबाइल ककी चोरी, /आग से होने वाला नुकसान

Riot, strike, terrorist activities से होने वाला नुकसान

स्क्रीन का टूटना/फूटना

 मोबाइल के अन्दर या बाहर किसी तरह का डैमेज या नुकसान

MOBILE INSURANCE में नहीं मिलने वाली बीमा सुरक्षा (कवरेज )

अगर मोबाइल फ़ोन गलत तरीके गायब हुआ या चोरी बताया गया है,
अगर मोबाइल किसी ऐसे जगह या गाड़ी से गायब हुआ है, जिसमे आप नहीं थे या जिस जगह आप नहीं गए थे,
अगर किसी तीसरे व्यक्ति के इस्तेमाल से नुक्सान हुआ या चोरी हुआ पाए जाने पर,
इसके आलावा आप बीमा कंपनी के कॉन्ट्रैक्ट के अन्दर भी आपको इस बात की लिखीत जानकारी मिल जाती है कि – आपको किस तरह की बीमा सुरक्षा( कवर ) नहीं मिलने वाले है,

भारत में MOBILE INSURANCE सुविधा देने वाली 5 कंपनीया

Quick Heal Gadget Insurance
New India Assurance
AppsDaily
MobileAssist
Times Global Insurance

इसके आलावा मार्केट में और भी अन्य बहुत सारी कंपनी काम कर रही है,

अंतिम सवाल : क्या मोबाइल इन्सुरांस होने पर बीमा कंपनी की तरफ से मोबाइल रिपेयर हो जायेगा,
तो जवाब है – हां, आपको इसके मोबाइल ख़राब होने के 24 घंटे के अन्दर या बीमा कंपनी द्वारा तय समय सीमा के भीतर बीमा कंपनी को इस बात की सूचना देनी होगी, और फिर आप क्लेम ले सकते है, और अपना बीमा होने पर आप अपना मोबाइल रिपेयर करा सकते है,

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।