नई दिल्ली. अमूमन कोई विधायक या सांसद जब पद और गोपनीयता की शपथ लेता है तो वह ईश्वर की कसम खाता है. मगर आंध्र प्रदेश के एक ननिर्वाचित विधायक ने ईश्वर की बजाए वाईएसआर कांग्रेस के मुखिया और राज्य के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी के नाम पर शपथ लेकर सुर्खियों में आ गए हैं. इस विधायक का नाम कोटमरेड्डी श्रीधर रेड्डी है. वह नेल्लोर से विधायक हैं. मुख्यमंत्री के प्रति अपनी वफादारी दिखाने के लिए उन्होंने यह कदम उठाया है.

केवल इतना ही नहीं श्रीधर रेड्डी का कहना है कि मुख्यमंत्री उनके लिए भगवान हैं. उनके ऐसा करने के तुरंत बाद प्रोटेम स्पीकर संबांगी अप्पाला नायडू ने उन्हें दोबारा शपथ लेने के लिए कहा. जिसके बाद उन्होंने ईश्वर के नाम पर शपथ ली. बाद में उन्होंने बताया कि वह जज्बाती हो गए थे और इसी वजह से उन्होंने नियमों से हटकर शपथ ली. उन्होंने कहा, 'मैं एक ऐसे गरीब परिवार से आता हूं जिसकी कोई राजनीतिक या वित्तीय पृष्ठभूमि नहीं रही है.'

विधायक का कहना है कि जगन ने उन्हें दो बार विधायक बनाया है. उनके नाम पर शपथ लेने के पीछे मेरी किसी भी तरह के पद को पाने की इच्छा नहीं है. पिछले पांच साल में मैंने अपनी सारी तनख्वाह गरीब बच्चों को दी है. विधायक का दावा है कि टीडीपी के कुछ विधायकों ने पहले एनटी रामा राव के नाम पर शपथ ली थी और उन्हें ऐसा करने की इजाजत दी गई.

श्रीधर रेड्डी ने सवाल किया है कि यदि मैं अपने नेता को भगवान मानता हूं तो इसमें क्या गलत है? विधायक संविधान के अनुच्छेद 188 के तहत शपथ लेते हैं. इसके अतंर्गत उन्हें ईश्वर या संविधान के नाम पर शपथ लेनी होती है. जनवरी 2017 में बॉम्बे उच्च न्यायालय ने भारतीय शपथ कानून 1969 के तहत शपथ लेने के लिए तीसरा विकल्प दिए जाने को लेकर दाखिल जनहित याचिका को खारिज कर दिया था.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।