नई दिल्ली. बेंगलूरु पुलिस की क्राइम ब्रांच के उस समय होश उड़ गए जब जेल में मारे गए छापे के दौरान भारी मात्रा में चाकू-छुरी, मोबाइल, सिम और नशीली वस्तुएं बरामद हुईं. बता दें कि इस जेल में तमिलनाडु की पूर्व सीएम जयललिता की करीबी शशिकला भी सजा काट रही हैं.

ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर क्राइम संदीप पाटिल की देखरेख में मारे गए छापे में तकरीबन 60 पुलिस कर्मी शामिल थे. बताया गया है कि अग्रहारा जेल में 4 हजार से ज्यादा कैदी बंद हैं. इस जेल में एआईएडीएमके की पूर्व महासचिव शशिकला भी सजा काट रही हैं. आय से ज्यादा संपत्ति के मामले में उन्हें सुप्रीम कोर्ट से चार साल कैद की सजा हुई थी.

शशिकला को वीआईपी सुविधा का आरोप

साल 2017 में आईपीएस अधिकारी डी रूपा ने भी इस जेल में गड़बड़ियों का मामला उठाया था. तत्कालीन डीआईजी जेल रूपा ने आरोप लगाया था कि दो करोड़ रुपए देने के बदले शशिकला को जेल में वीआईपी ट्रीटमेंट दिया जा रहा है. रूपा ने आरोप लगाया था कि जेल के कई सीनियर स्टाफ गैरकानूनी गतिविधियों की इजाजत दे रहे हैं. डीजी और आईजी को लिखे खत में रूपा ने कहा कि शशिकला को खाना पकाने के लिए अलग से कमरा दिया गया है.

आईपीएस रूपा का हुआ था ट्रांसफर

आईपीएस अधिकारी डी रूपा ने अपने लेटर में लिखा था कि जेल में बड़े पैमाने पर अनियमितताओं का खेल जारी है. उन्होंने इस मामले में सरकार से जल्द से जल्द कार्रवाई करने का सुझाव दिया था. नियम तोड़ने वाले कर्मचारियों और कैदियों को सजा दिलाने की मांग की थी.

हालांकि डीजी जेल सत्यनाराण राव ने उस समय किसी भी कैदी को वीआईपी ट्रीटमेंट की बात से इनकार किया था. मामले को सामने लाने के बाद आईपीएस रूपा का रोड सेफ्टी ऐंड ट्रैफिक विभाग में ट्रांसफर हो गया था.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।