नई दिल्ली. हरियाणा में विधानसभा चुनाव के लिए छिड़े समर में बगावत का सिलसिला थमने का नाम ही नहीं ले रहा. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता संपत सिंह ने कांग्रेस का हाथ छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गए हैं. मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक उन्होंने गृहमंत्री अमित शाह के सामने बीजेपी की सदस्या ली. पहले इनेलो तो फिर कांग्रेस में रह 6 बार विधायक बने वरिष्ठ नेता संपत सिंह ने सोमवार को कांग्रेस पार्टी छोड़ दी थी. संपत सिंह कांग्रेस की तरफ से उम्मीदवारी नहीं दिए जाने से पार्टी नेतृत्व से नाराज चल रहे थे.

दिग्गज नेता हैं संपत्त सिंह

संपत्त सिंह 6 बार विधायक रहे हैं. संपत्त सिंह ने चार बार भट्टू कलां से चुनाव जीता है, जबकि 1-1 बार वह फतेहाबाद और नलवा से चुनाव जीतने में कामयाब रहे हैं. संपत्त सिंह देवीलाल के करीबी हुआ करते थे. संपत्त सिंह देवीलाल और ओमप्रकाश चौटाला की सरकार में मंत्री भी रहे. 2009 लोकसभा चुनाव के बाद संपत्त सिंह ने इनेलो का साथ छोड़ दिया और कांग्रेस में शामिल हो गए. 1991 से 1996 तक संपत्त सिंह नेता विपक्ष के पद पर भी रहे हैं.

कुलदीप से लड़ाई पुरानी

कुलदीप बिश्नोई और संपत्त सिंह की लड़ाई पुरानी है. नलवा भजनलाल परिवार का गढ़ माना जाता था. लेकिन 2009 में संपत्त सिंह ने कुलदीप बिश्नोई की मां जसमा देवी को नलवा से मात दी थी. हालांकि 2014 में संपत्त सिंह और पूर्व उप मुख्यमंत्री चंद्रमोहन दोनों को हार का सामना करना पड़ा और यह सीट इनेलो के खाते में गई.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।