तेहरान. फीफा से निलंबन की चेतावनी मिलने के बाद दशकों में पहली बार ईरान में महिला फुटबॉलप्रेमी गुरुवार को खुलकर कोई फुटबॉल मैच देख सकेंगी. ईरान में महिलाओं को स्टेडियम में प्रवेश नहीं दिया जाता. पिछले चालीस साल से मौलवियों का तर्क है कि उन्हें पुरुष प्रधान माहौल और अर्धनग्न पुरुषों को देखने से रोका जाना चाहिए. 

फीफा ने पिछले महीने ईरान को निर्देश दिया कि स्टेडियमों में बिना किसी पाबंदी के महिलाओं को प्रवेश करने दिया जाये. यह निर्देश एक महिला प्रशंसक की मौत के बाद आया, जिसने लड़का बनकर मैच देखा और जेल होने के डर से खुद को आग लगा ली. कंबोडिया के खिलाफ गुरुवार को होने वाले विश्व कप 2022 क्वालीफायर मैच के टिकट महिलाओं ने धड़ाधड़ खरीदे.

पहले मैच के टिकट एक घंटे से भी कम समय में बिक गये. ईरान की 29 साल की सहर खोडयारी फुटबॉल प्रशंसक थी. इसी साल मार्च में सहर लड़कों के कपड़े पहनकर तेहरान स्टेडियम में हो रहा फुटबॉल मैच देखने पहुंची थी. इसी दौरान उसे गिरफ्तार कर लिया गया था. इसके बाद कोर्ट ने सहर को छह महीने की सजा सुनाई थी. 

पिछले महीने ही जेल जाने के डर से सहर ने खुद को आग लगाकर जान दे दी थी. सहर की पसंदीदा टीम एस्टेगलल फुटबॉल क्लब थी और इसका कलर ब्लू था. इसी कारण लोग सहर को प्यार से ‘ब्लू गर्ल’ कहने लगे. पिछले महीने एक जैनब नाम की लड़की भी लड़कों के कपड़े पनहकर मैच देखने गयी थी, जिसे पुलिस ने हिरासत में ले लिया था.

ईरान की महिला पत्रकार राहा पूरबख्श भी इन 3500 महिलाओं में से एक हैं, जिन्होंने मैच के लिए टिकट बुक किया.राहा ने कहा कि मुझे अब भी यकीन नहीं हो रहा है कि ईरान में ऐसा हो रहा है. मैंने पिछले कई सालों तक इसके लिए काम किया और देश में हो रहे प्रदर्शनों को भी टीवी पर देखा. अब मैं इसका (मैच देखने की आजादी) अनुभव ले सकूंगी. कवरेज करने के लिए स्टेडियम जा सकूंगी. 

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।