नई दिल्ली. इंडियन प्रीमियम लीग (आईपीएल) में प्रस्तावित बदलाव में एक और बड़ा बदलाव इसके बढ़ते खर्च पर लगाम लगाना भी शामिल है. इसके तहत टूर्नामेंट की ओपनिंग सेरेमनी के खर्च को करने का प्रस्ताव आया है. बीसीसीआई, आईपीएल से उसके ओपनिंग सेरेमनी के बड़े कार्यक्रम को हटाने का फैसला कर सकता है.

बता दें कि हर बार आईपीएल का ओपनिंग समारोह आयोजित किया जाता है और इसमें बॉलीवुड स्टार्स को आमंत्रित किया जाता है और पूरा इवेंट किसी बॉलीवुड अंदाज वाले समारोह तरह रहता है और इस पर काफी ज्यादा खर्च होता है. बोर्ड इस खर्च को कम करना चाहता है. पिछली बार ये खर्च 30 करोड़ के आसपास हुआ था.

मंगलवार 5 नवम्बर को हुई आईपीएल गवर्निंग काउंसिल की बैठक में टूर्नामेंट से ओपनिंग सेरेमनी हटाने का सुझाव आया. जिसे सदस्यों ने मानते हुए विचार में लिया है. बोर्ड अधिकारी के मुताबिक ओपनिंग सेरेमनी में काफी ज्यादा खर्च होता है. इसमें शामिल कलाकारों को काफी बड़ा पेमेंट करना पड़ता है और सबसे बड़ी बात ये है कि इसमें क्रिकेट फैंस की रुचि नहीं रहती है. ऐसे में इसे हटाने पर निर्णय किया जा सकता है.

अंतरराष्ट्रीय स्टार्स शामिल होते रहे हैं सेरेमनी में

आईपीएल के पूर्व के सीजन में ओपनिंग सेरेमनी में बॉलीवुड स्टार्स के अलावा केटी पेरी, पिट बुल जैसे अंतरराष्ट्रीय स्टार्स के स्पेशल शो भी आयोजित किए गए. समारोह में आतिशबाजी के अलावा लेजर शो भी हुए जिन पर काफी ज्यादा खर्च हुआ.

पिछले साल नहीं हुई थी सेरेमनी

2008 में आईपीएल के आगाज के साथ ही इसकी ओपनिंग सेरेमनी काफी भव्य पैमाने पर आयोजित होती रही है. केवल पिछले सत्र में ही ओपनिंग सेरेमनी नहीं हुई थी. उस समय पुलवामा में हुए आतंकी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ जवानों को श्रद्धांजलि स्वरूप ये ओपनिंग सेरेमनी निरस्त की गई थी. साथ ही ये फैसला लिया गया था कि ओपनिंग सेरेमनी पर खर्च होने वाला 20 करोड़ का बजट सीआरपीएफ, भारतीय आर्मी, नेवी और एयर फोर्स को दान किया गया था.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।