खबरार्थ. महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव नतीजे आने के इतने दिनों के बाद भी बीजेपी ने सरकार बनाने का औपचारिक दावा पेश नहीं किया है, काहे?

इस बार वहां शिवसेना ने सहयोगियों को सियासी बोनसाई बनाने की राजनीति को तगड़ा झटका दिया है!

अगर शिवसेना इस बार बीजेपी से उसकी शर्तों पर समझौता कर लेती है, तो शिवसेना के सियासी भविष्य पर प्रश्नचिन्ह लग जाएगा?

सियासी समय बदलने के साथ राजनीति में बड़े बदलाव आए हैं, सत्ता पहले सिद्धांत बाद में, की नीति के तहत मोदी-शाह की बीजेपी किसी से भी समझौता कर सकती है!

दरअसल, मोदी-शाह को केवल केन्द्र में पीएम मोदी की सत्ता से मतलब है, जिसके लिए वे किसी भी तरह का समझौता कर सकते हैं, जैसा कि लोकसभा चुनाव के दौरान बिहार और महाराष्ट्र में किया था, लेकिन राज्यों के लिए उनके सियासी तेवर और नजरिया बदल जाता है?

यही वजह है कि अमित शाह ने न तो शिवसेना से बातचीत की कोई पहल की है और न ही अब तक सरकार बनाने का दावा पेश किया गया है!

यह शिवसेना के लिए भी खतरे की घंटी है? राजनीतिक जोड़तोड़ में वर्तमान बीजेपी नेतृत्व एक्सपर्ट है और समय मिला तो वह शिवसेना को सियासी झटका भी दे सकता है!

इसलिए राजनीतिक जानकारों का मानना है कि शिवसेना को जो भी निर्णय लेना है, जल्दी लेना होगा, वरना शिवसेना के हाथ से सियासी बाजी निकल भी सकती है?

वर्तमान बीजेपी नेतृत्व सत्ता मिलने या नहीं मिलने, दोनों हालातों में अपने फायदे की सियासी समीकरण देख रहा है!

यदि अभी सत्ता मिलती है तो वह सबसे बड़ी पार्टी होने के कारण उसकी हकदार कहलाएगी और यदि नहीं मिलती है तो आगे-पीछे कर्नाटकी दांव काम आएगा?

यदि ऐसे ही समय निकल जाता है तो महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लग जाएगा, अर्थात.... बीजेपी को सियासी जोड़तोड़ के लिए लंबा समय मिल जाएगा!

महाराष्ट्र में आज की जो सियासी तस्वीर है उसमें बीजेपी धीरे-धीरे शिवसेना का वोट बैंक लेती जा रही है, यदि अभी शिवसेना का मुख्यमंत्री नहीं बना तो भविष्य में बनना तो बेहद मुश्किल हो जाएगा?

यदि शिवसेना सत्ता में आती है तो वह महाराष्ट्र में फिर से अपना आधार बढ़ा सकती है, लेकिन सत्ता निकल गई तो शिवसेना के अस्तित्व पर ही प्रश्नचिन्ह लग जाएगा?

सच्चाई यही है कि महाराष्ट्र में बीजेपी को सबसे ज्यादा खतरा शिवसेना से ही है, क्योंकि शिवसेना और बीजेपी का मतदाता एक ही राजनीतिक प्रकृति का हैं, मतलब.... बीजेपी तभी ताकवर बनेगी जब महाराष्ट्र में शिवसेना कमजोर होगी? और, इसी दिशा में सियासत आगे बढ़ रही है!

पाॅलिटिकल एक्सपटर््स का मानना है कि इससे पहले की बीजेपी कोई राजनीतिक खेल कर दे, शिवसेना को कोई ठोस निर्णय ले लेना चाहिए?

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।