देवास. ग्राम मालजीपुरा के एक किसान ने अपने खेत पर बने मकान में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. परिजनों के अनुसार उस पर सोसायटी पर बैंक का कर्ज था. इस बार अधिक बारिश से फसल भी बर्बाद हो गई थी. इसी तनाव में आकर किसान ने आत्महत्या की है. पुलिस पूरे मामले की तहकीकात कर रही है. जानकारी अनुसार मालजीपुरा निवासी कि सान करणसिंह पिता पांच्या बारेला (40) ने शाम पांच बजे अपने खेत पर बने मकान में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. किसान के बेटे अनिल व महेश ने बताया कि कर्ज के चलते आत्महत्या की है. पिता पांच्या ने बताया कि मेरे बेटे के पास ढाई एकड़ जमीन है. इस साल मात्र तीन क्विंटल ही सोयाबीन निकले. बेटे पर बिजवाड़ सोसायटी व बैंक ऑफ इंडिया पानीगांव का कर्ज था. अब तक खाद व बीज की व्यवस्था नहीं हुई थी. इसके चलते बेटे ने फांसी लगाकर जान दे दी.

इधर बिजवाड़ सोसायटी के कर्मचारी ने बताया कि करणसिंह का बिजवाड़ सोसायटी के चालू खाते में 21 हजार 423 रुपए हैं. पूर्व का कोई ऋण नहीं है, अभी तक किसान हमारे पास खाद-बीज लेना नहीं आया था. अगर किसान आता तो उसे ऋण मिल जाता, क्योंकि बकाया ऋण किसान के ऊपर नहीं था.  पुलिस कन्नौद भी मौके पर पहुंच चुकी थी.

क्षेत्रीय विधायक आशीष शर्मा, मंडल अध्यक्ष राधेश्याम जाट, कि सान मोर्चा के जिला अध्यक्ष कृष्णकांत मीणा व सरपंच अमरसिंह मालजीपुरा पहुंचे व कि सान के परिजनों को हर संभव मदद देने का आश्वासन दिया. विधायक शर्मा ने बताया कि मेरी परिवार के लोगों से चर्चा हुई है. सभी ने यही बताया कि कर्ज के कारण ही करणसिंह ने फांसी लगाई है. थाना प्रभारी जयराम चौहान ने बताया कि कि सान ने शाम करीब पांच बजे फांसी लगाई, उस समय घर पर कोई नहीं था. फांसी लगाने का कारण अज्ञात है. कारणों की जांच की जा रही है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।