नयी दिल्ली. पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का मोदी सरकार पर सबसे बड़ा हमला करार दिया जा सकता है. नोटबंदी के तीन साल पूरे होने पर राहुल गांधी ने इसकी तुलना आतंकी हमलों से करते हुए कहा कि इस शातिराना हमले के जिम्मेदारों को अभी न्याय की चौखट पर लाना बाकी है. गौरतलब है कि 8 नवंबर 2016 की रात को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपए के नोटों को चलन से बाहर कर दिया था. पीएम मोदी ने इसके लिए राष्ट्र के नाम बकायदा एक संबोधन भी किया था.

यह लिखा ट्वीट में राहुल गांधी ने

अपने तीखे हमले में राहुल गांधी ने कहा कि नोटबंदी रूपी आतंकी हमलों के तीन सालों ने देश की अर्थव्यवस्था को बर्बाद करके रख दिया. नोटबंदी की वजह से कई जानें गई, लाखों छोटे और मंझोले व्यापारियों की रोजी-रोटी छिन गई और लाखों भारतीय बेरोजगार हो गए. इस शातिराना आतंकी हमलों के जिम्मेदार लोगों को अभी न्याय की चौखट तक लाना बाकी है.

पीएम मोदी  आज के​ तुगलक 

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी नोटबंदी को लेकर प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा और उन्हें आज का तुगलक करार दिया. उन्होंने ट्वीट किया, सुल्तान मोहम्मद बिन तुगलक ने 1330 में देश की मुद्रा को अमान्य करार दिया था. आज के तुगलक ने भी आठ नवंबर, 2016 को यही किया था. उन्होंने कहा, तीन साल गुजर गए और देश भुगत रहा है क्योंकि अर्थव्यवस्था ठप हो चुकी है, रोजगार छिन गया है. न ही आतंकवाद रुका और न ही जाली नोटों का कारोबार थमा है. सुरजेवाला ने पूछा कि इसके लिए जिम्मेदार कौन है? उन्होंने नोटबंदी को मानव निर्मित आपदा बताने के लिए वैश्विक रेटिंग एजेंसी मूडीज का भारत सरकार की रेटिंग पर परिदृश्य में बदलाव करते हुए उसे घटा कर नकारात्मक किए जाने का भी हवाला दिया. सुरजेवाला ने नोटबंदी के तीन साल पूरे होने पर, सत्ता में बैठे लोगों की चुप्पी पर सवाल भी उठाए.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।