कोलकाता. पश्चिम बंगाल में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है. यहां भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष के एक बयान के बाद एक शख्स अपनी दो गायों को लेकर बैंक पहुंच गया और उसके बदले में बैंक प्रबंधन से गोल्ड लोन की मांग करने लगा. दानकुनी इलाके में स्थित एक प्राइवेट फाइनेंस लिमिटेड बैंक में उस वक्त कर्मचारी सकते में आ गए जब शख्स गायों के बदले में गोल्ड लोन दिए जाने की मांग करने लगा. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हाल ही में भाजपा नेता दिलीप घोष द्वारा दिए गए विवादित बयान जिसमें उन्होंने कहा था कि गाय के दूध में सोना होता है. इस बयान को सुनकर यह शख्स बैंक में गोल्ड लोन लेने पहुंच गया था. यह मामला सामने आने के बाद राजनीतिक हलकों में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के इस बयान की आलोचना भी होने लगी है.

सामने आई जानकारी के मुताबिक लोन लेने आए शख्स का कहना था कि मैं बैंक में गोल्ड लोन लेने आया हूं और इसलिए मैं अपने साथ मेरी गायें भी लेकर आया हूं. मैंने सुना है कि गायों के दूध में सोना होता है. मेरा परिवार इन गायों पर ही निर्भर है. मेरे पास 20 गायें हैं और अगर मुझे लोन मिल जाता है तो मैं अपने बिजनेस को बढ़ा सकूंगा.

घोष के इस अजीबोगरीब बयान की आलोचना भी सामने आई है. गरालगाछा ग्राम पंचायत के प्रधान मनोज सिंह ने दिलीप घोष के इस बयान की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि उनके इस बयान के बाद अब लोग अब गायों के साथ आ रहे हैं और पूछ रहे हैं कि उनकी गायों के बदले में उन्हें कितना लोन मिल सकता है. मेरी पंचायत में रोजाना गायों के साथ आकर ऐसा सवाल कर रहे हैं. उनका कहना होता है कि हमारी गाय रोजाना 15-16 लीटर दूध देती है तो हमें लोन मिलना चाहिए.

प्रधान मनोज सिंह का कहना है कि यह सब सुनकर उन्हें शर्म आती है. एक राजनेता को रोटी, कपड़ा और मकान के बारे में बात कहना चाहिए. उन्हें विकास के बारे में सोचना चाहिए. बता दें कि बर्धमान में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान दिलीप घोष ने यह बयान दिया था.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।