नयी दिल्ली. पंजाब पुलिस और पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के खिलाड़ियों ने 56वें नेहरू हॉकी टूर्नामेंट के फाइनल के दौरान सोमवार को यहां मैदान पर ही आपस में मारपीट की जिसके बाद आयोजकों ने दोनों टीमों पर प्रतिबंध लगा दिया. राष्ट्रीय महासंघ हॉकी इंडिया ने इस पर टूर्नामेंट के आयोजकों से विस्तृत रिपोर्ट देने के लिये कहा है. झगड़ा उस समय शुरू हुआ जब दोनों टीमें 3-3 से बराबरी पर थी और गेंद पंजाब पुलिस के सर्कल में पीएनबी के पास थी. खिलाड़ियों ने टर्फ पर ही एक दूसरे पर घूंसे जड़े और हॉकी स्टिक से मारपीट की.

इसके बाद टूर्नामेंट के अधिकारी बीच बचाव करने के लिये गये. खेल कुछ देर तक रुका रहा जिसके बाद दोनों टीमों के आठ-आठ खिलाड़ियों के साथ मैच आगे शुरू हुआ. दोनों टीमों के तीन-तीन खिलाड़ियों को लाल कार्ड दिखाया गया. इसके अलावा पंजाब पुलिस के मैनेजर को भी अपने खिलाड़ियों को उकसाने के लिये लाल कार्ड मिला.

पीएनबी ने आखिर में यह मैच 6-3 से जीता. इस घटना से आहत जवाहरलाल नेहरू हॉकी टूर्नामेंट सोसायटी की प्रबंध समिति ने दोनों टीमों पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया. टूर्नामेंट के आयोजकों ने बयान में कहा, दोनों टीमों को टूर्नामेंट में भाग लेने से प्रतिबंधित करने का फैसला किया गया है.

पंजाब पुलिस को चार साल के लिये, जबकि पीएनबी को दो साल के प्रतिबंधित किया गया है. आयोजकों ने आगे कहा कि वे दोनों टीमों के प्रबंधन से दोषी खिलाड़ियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के लिये कहेंगे. हॉकी इंडिया ने इस घटना को गंभीरता से लिया और टूर्नामेंट के निदेशक महेश कुमार से विस्तृत रिपोर्ट देने के लिये कहा है.

हॉकी इंडिया की सीईओ इलेना नोर्मन ने कहा, हम टूर्नामेंट के अधिकारियों से आधिकारिक रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं. इसके आधार पर हाकी इंडिया जरूरी कार्रवाई करेगा. टूर्नामेंट के निदेशक से संपर्क करने की सभी कोशिश नाकाम साबित हुई.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।