मुजफ्फरपुर. बिहार के मुजफ्फरपुर की सब लेफ्टिनेंट शिवांगी स्वरूप ने नौसेना की पहली महिला पायलट बनने का गौरव हासिल किया है. प्रारंभिक प्रशिक्षण के बाद शिवांगी को पिछले साल जून में वाइस एडमिरल एके चावला ने औपचारिक तौर पर नौसेना में शामिल किया था.

शिवांगी ने सोमवार को अपना ऑपरेशन प्रशिक्षण पूरा कर लिया और कोच्चि बेस पर ऑपरेशन ड्यूटी में शामिल हो गईं. 24 वर्षीय शिवांगी निगरानी विमान डोर्नियर-228 को उड़ाएंगी. यह विमान हिंदुस्तान एयरोनाटिक्स लिमिटेड (एचएएल) द्वारा तैयार किया गया है.

बचपन में हेलीकॉप्टर को देख ली प्रेरणा

पायलट बनने की इच्छा के संबंध में शिवांगी ने बताया कि बचपन में उनके घर के नजदीक एक हेलीकॉप्टर को उतरते हुए देखा और इसके बाद ठान लिया कि वह पायलट बनेंगी. शिवांगी ने कहा कि वह इस दिन का लंबे समय से इंतजार कर रहीं थी और अंतत यह दिन उनके जीवन में आ ही गया. इसे शानदार अनुभव बताते हुए शिवांगी ने कहा, अब मैं तीसरे चरण का प्रशिक्षण पूरा करने के लिए काम करूंगी.

मुजफ्फरपुर में हुई पढ़ाई

शिवांगी के पिता सरकारी स्कूल में अध्यापक और मां गृहणी हैं. शिवांगी ने प्रारंभिक शिक्षा मुजफ्फरपुर के डीएवी पब्लिक स्कूल से हासिल की. इसके बाद सिक्किम मणिपाल प्रौद्योगिकी संस्थान से बीटेक किया. शिवांगी ने 27 एनओसी कोर्स के तहत एसएसी (पायलट) परीक्षा उत्तीर्ण की और नेवी में कमीशन हासिल किया.

इन्हें भी मिला ऐसा गौरव

इसी साल वायुसेना में फ्लाइट लेफ्टिनेंट भावना कांत पहली महिला पायलट बनीं थीं. भावना को लड़ाकू जेट विमान उड़ाने की पात्रता प्राप्त है. वहीं, कराबी गोगाई नौसेना की पहली महिला डिफेंस अटैची हैं. असिस्टेंट लेफ्टिनेंट कमांडर गोगाई अगले माह रूस में तैनात की जाएंगी. वे कर्नाटक के करवार बेस पर रूसी भाषा में कोर्स कर रही हैं. वे युद्धपोत के निर्माण और उनकी मरम्मत में माहिर मानी जाती हैं.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।