आज के समय में कॉलेज से लेकर ऑफिस तक में लैपटॉप का इस्तेमाल किया जाता है. साथ ही लोग इस डिवाइस को किसी भी जगह पर इस्तेमाल करते हैं. दूसरी तरफ टेक कंपनियां भी लोगों को ज्यादा-से-ज्यादा सुविधाएं देने के लिए इन लैपटॉप में वाई-फाई और स्लीप मोड जैसे खास फीचर्स दे रही हैं. लेकिन हाल ही में लैपटॉप में आग लगने घटनाएं सामने आई हैं, जिसमें स्लीप मोड को जिम्मेदार ठहराया गया है. इस मोड से बैटरी को भी बहुत नुकसान होता है. वहीं, विशेषज्ञों का मानना हैं कि लैपटॉप को स्लीप मोड की बजाय शटडाउन करना ही बेहतर विकल्प है.

ऐसे काम करता है स्लीप मोड

लोग बार-बार लैपटॉप को खोलने में लगने वाले समय को बचाने के लिए स्लीप मोड का इस्तेमाल करते हैं. जब लैपटॉप का इस्तेमाल देर तक नहीं होता है, तो यह डिवाइस अपने-आप स्लीप मोड में चला जाता है. इसके अलावा यूजर्स लैपटॉप को स्टार्ट बटन के जरिए स्लीप मोड में डाल सकते हैं. वहीं, इस फीचर से लैपटॉप की बैटरी पर जोर पड़ता है, जिससे आग लगने का खतरा बढ़ जाता है.

इन बातों का रखें खास ख्याल

1. लंबे समय तक लैपटॉप को स्लीप मोड में नहीं रखना चाहिए, क्योंकि इससे बैटरी को बहुत नुकसान होता है. साथ ही बैटरी जल्दी खराब भी हो जाती है. 

2. लैपटॉप के सीपीयू और मॉनीटर पर स्लीप मोड का बुरा असर पड़ता है.  

3. स्लीप मोड से लैपटॉप की बैटरी गर्म हो जाती है, जिससे आग लग सकती है

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।