फिनलैंड को लगातार तीसरे साल दुनिया का सबसे खुशहाल देश घोषित किया गया है. फिनलैंड जितना खुशहाल है, उतना ही अनोखा देश भी है. दुनिया का यह सबसे खुशहाल देश इस साल दुनिया की सबसे कम उम्र की प्रधानमंत्री को लेकर भी सुर्खियों में था. पिछले साल दिसंबर में सना मिरेला मारीन सिर्फ 34 साल की उम्र में फिनलैंड की प्रधानमंत्री बन गईं. वह दुनिया की सबसे कम उम्र की प्रधानमंत्री हैं.

फिनलैंड कभी सबसे खुशहाल देशों की सूची में 5वें नंबर पर होता था लेकिन अब लगातार तीन सालों से पहले नंबर पर है. फिनलैंड की राजधानी हेलसिंकी है. फिनलैंड अपनी कई अनोखी बातों के लिए भी जाना जाता है जिसके बारे में हम आज जानेंगे. यहां आप फिनलैंड के बारे में वे बातें जान सकते हैं, जिसके बारे में बहुत कम लोगों को पता है.

काफी महंगा साबित हो सकता है तेज गाड़ी चलाना फिनलैंड में यातायात के नियम का काफी सख्ती से पालन होता है. वहां नियमों का उल्लंघन करने पर जुर्माना, उल्लंघनकर्ता की कुल आमदनी के हिसाब से वसूला जाता है. करोड़पतियों को लाखों में जुर्माना देना पड़ सकता है तो कम आमदनी वाले कुछ सौ डॉलर देकर बच सकते हैं.

निराले खेल कुछ जगह जिन खेलों को सही नहीं माना जाता या अच्छा नहीं लगता, यहां वे खेल भी होते हैं. वाइफ कैरिंग चैंपियनशिप: यहां एक प्रतियोगिता होती है जिसको वाइफ कैरिंग चैंपियनशिप के नाम से जाना जाता है. इसमें पुरुषों का दौड़ मुकाबला होता है, जिसमें उनको अपनी महिला टीममेट या पत्नी को लेकर दौड़ना होता है.

मच्छर मार प्रतियोगिता: इस प्रतियोगिता में प्रतिभागी दौड़कर किसी घास वाले इलाके में पहुंचते हैं जिसे प्रतियोगिता के लिए निर्धारित किया गया होता है. कुछ अपने लक्ष्य का पीछा करते हैं जबकि कुछ बैठे रहते हैं और जैसे ही कोई मच्छर सामने आता है, उसे पकड़कर मारते हैं. 15 मिनट में जो सबसे ज्यादा मच्छर पकड़ता और मारता है, वह नया वर्ल्ड चैंपियन बनता/बनती है. इसके लिए नकद ईनाम भी मिलता है.

मोबाइल फेंको प्रतियोगिता: फिनलैंड में मोबाइल फेंकना राष्ट्रीय खेल है. मुफ्त शिक्षा फिनलैंड की एक सबसे बड़ी बात वहां मुफ्त शिक्षा का होना है जिस पर फिनलैंड के लोग गर्व कर सकते हैं. वहां छात्रों को यूनिवर्सिटी लेवल पर भी मुफ्त शिक्षा मिलती है. वहां यूरोपीय यूनियन/ईईएस के अंतर्राष्ट्रीय छात्रों को भी मुफ्त शिक्षा मिलती है.

गैर यूरोपीय छात्रों की भी ट्यूशन फीस माफ हो सकती है अगर क्लास फिनिश या स्वीडिश भाषा में ली जाए. डॉक्टोरल किसी भी भाषा में करने पर मुफ्त ट्यूशन उपलब्ध है. कुदरत के अनोखे नजारे यहां आप कुदरत के तीन अनोखे नजारे देख सकते हैं. ठंड के मौसम में आपको नॉर्दर्न लाइट्स यानी वायुमंडल के ऊपरी भाग में रंग-बिरंगी रोशनी दिखेगी. उत्तरी हिस्से में पोलर नाइट्स या ध्रुवीय रात का अनुभव कर सकते हैं.

यह साल का सबसे अंधेरा महीना होता है और कई हफ्ते तक सूर्य नहीं उगता है. इसका उल्टा गर्मी में होता है जब सूर्य कभी नहीं डूबता है और आधी रात को सूर्य दिखता है. यानी आप यहां ठंड के मौसम में वायुमंडल में रंग-बिरंगी रोशनी, कई हफ्ते तक रहने वाली रात और कई हफ्ते तक रहने वाले दिन या आधी रात के सूर्य को भी देख सकते हैं.

महिलाओं को मताधिकार देने वाला पहला देश फिनलैंड दुनिया का पहला देश है जिसने सभी महिलाओं को मताधिकार दिया. यह दुनिया का पहला देश है जहां लैंगिक समानता उच्च दर्जे का है. 1906 में ही वहां महिलाओं को मताधिकार दे दिया गया था. हालांकि न्यू जीलैंड और ऑस्ट्रेलिया ने महिलाओं को कुछ सालों पहले ही मताधिकार दे दिया था लेकिन फिनलैंड ने किसी तरह के सामाजिक दर्जे या वर्ग का भेदभाव किए बगैर सभी महिलाओं को मताधिकार दिया. सबसे कम तापमान यहां ठंड भी काफी कम पड़ती है.

आमतौर पर रेकॉर्ड कम तापमान का सामना तो नहीं करना पड़ेगा लेकिन हेलसिंकी में ठंड के मौसम में शून्य से नीचे 5 डिग्री सेल्सियस तक तापमान पहुंच जाता है. 1999 में यहां शून्य से नीचे 51.5 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया था. कुछ और रोचक बातें पत्नी को लेकर दौड़ने वाली प्रतियोगिता में पहले पुरस्कार के तौर पर पत्नी के वजन के बराबर बीयर मिलती है.

फिनलैंड में अगर कोई पीएचडी कर लेता है तो उसको एक टॉप हैट और एक तलवार भेंट की जाती है. वहां एक रिजॉर्ट है जहां आप ग्लास इग्लू में सो सकते हैं और उत्तरी लाइट्स देख सकते हैं. फिनलैंड में वे ‘नेशनल स्लीपी हेड डे’ मनाते हैं. परिवार में जो व्यक्ति सबसे बाद में जगता है, उसको परिवार के बाकी लोग उठाकर झील या समुद्र में फेंक देते हैं.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।