- प्रदीप कुमार द्विवेदी

* देवी दुर्गा के नौ रूप हैं, जिनकी नवरात्रि में आराधना की जाती है.

* द्वितीय स्वरूप- देवी ब्रह्मचारिणी हैं, जिनकी नवरात्रि की द्वितीया तिथि पर पूजा-अर्चना की जाती है.  

* देवी ब्रह्मचारिणी ने शिवजी के लिए केवल फल-फूल-पत्ते खाकर घोर तपस्या की थी इसलिए जो श्रद्धालु तपस्या में मनोबल बनाए रखना चाहते हैं वे देवी ब्रह्मचारिणी की आराधना करें.

* देवी ब्रह्मचारिणी की पूजा-अर्चना से मंगल ग्रह की अनुकुलता प्राप्त होती है इसलिए मेष-वृश्चिक राशिवालों को देवी की आराधना से संपूर्ण सुख की प्राप्ति होती है.

* भूमि प्राप्ति, ऋणमुक्ति, रक्तरोगमुक्ति और पदोन्नति के लिए देवी ब्रह्मचारिणी की पूजा-अर्चना करें.

* जिन श्रद्धालुओं के रक्त संबंधियों से मतभेद हों वे संकल्प लेकर देवी ब्रह्मचारिणी की आराधना करें, विवाद से राहत मिलेगी.

* देवी ब्रह्मचारिणी के दाहिने हाथ में जप की माला एवं बाएं हाथ में कमण्डल रहता है.

* इस अवसर पर ऐसी कन्याओं का पूजन किया जाता है जिनकी सगाई हो गई है लेकिन शुभ-विवाह नहीं हुआ है. 

* देवी की इस मंत्र से पूजा-अर्चना करें... देवी ब्रह्मचारिण्यै नम:॥

- आज का राशिफल -

मेष राशि: आज का दिन आपके लिए मिलाजुला रहेगा. शारीरिक तथा मानसिक स्वास्थ्य परेशान कर सकता है. कई परेशानियों के कारण मन व्याकुल हो सकता है. स्वजनों के साथ अनबन रहेगी. 

वृष राशि: आज माता के स्वास्थ्य खराब है. जमीन मकान के दस्तावेजों को संभालकर रखे. स्त्री तथा पानी से हानि का डर रहेगा . धन बिना कारण खर्च होगा ध्यान रखे.

मिथुन राशि: आज का दिन  कारोबार और नौकरी के लिये हर तरह से अच्छा नही  है. आज गुस्से पर नियंत्रण रखना जरूरी है वर्ना काम काज के हालात बिगड़ सकते है. 

कर्क राशि: आज मन मे कोई भी नकारात्मक विचार आ सकते है जिस के कारण आप के काम काज और रुपए पैसे के हालात खराब हो सकते है. आज आप थकान, आलस्य और व्यग्रता अनुभव करेंगे. 

सिंह राशि: बात-बात में आपको क्रोध आएगा जिससे आपका कार्य प्रभावित हो सकता है. नौकरी, व्यापार के स्थान पर या घर में किसी को आपके व्यवहार से तकलीफ हो सकती है. किसी धार्मिक या मांगलिक कार्य में जाना हो सकता है.

कन्या राशि: आप शारीरिक तथा मानसिक रूप से अस्वस्थता का अनुभव करेंगे किसी नए कार्य का प्रारंभ न करने की सलाह हैं. खान-पान में विशेष ध्यान रखिए. आज के दिन आप मनोरंजन तथा आमोद-प्रमोद में व्यस्त रहेंगे. 

तुला राशि: मित्रों तथा परिजनों के साथ अच्छे से दिन बितेगा . सामाजिक रूप से सम्मान औऱ प्रसिद्धि भी प्राप्त कर सकेंगे. दांपत्य जीवन में सुख मिलेगा. परिजनों के साथ समय सुखपूर्वक बितेगा. 

वृश्चिक राशि: आर्थिक लाभ के लिए अच्छा दिन नही है. नौकरी के लिये में वातावरण अनुकूल नही रहेगा. आज आपको बहनों की तरफ से आप कोई खुशखबरी मिल सकती है. स्वजनों और मित्रों के साथ अनबन होने की आशंका है.

धनु राशि: आज के दिन हर तरह से उत्तम है बस अपने मन मे बुरा कोई विचार न आने दे. आज पति पत्नी मे अच्छा तालमेल रहेगा और सेहत भी उत्तम है. आपकी सेहत मे कोई खराबी रहेगी. 

मकर राशि: धनहानि और मानहानि का योग है. आज आपका रुझान धर्म और अध्यात्म की ओर रहेगा. कोर्ट-कचहरी के कार्य में असफलता मिल सकती है. वाणी पर संयम रखिगा.

कुम्भ राशि: आज का दिन आनंद से बीतेगा. आप अधिक कल्पनाशील बनेंगे. प्रिय व्यक्ति से मुलाकात होगी. संतान की प्रगति के समाचार मिलेंगे. विद्यार्थियों बहुत अच्छा समय है. 

मीन राशि: खासतौर मित्रों से मिलन होगा और आज स्त्री मित्रों से लाभ होगा. आज आपके द्वारा परोपकार का कार्य हो सकता है. आज का दिन हर तरह से उत्तम है. 

* आचार्य पं. श्रीकान्त पटैरिया (ज्योतिष विशेषज्ञ)  वाट्सएप नम्बर 9131366453 

* यहां राशिफल चन्द्र के गोचर पर आधारित है, व्यक्तिगत जन्म के ग्रह और अन्य ग्रहों के गोचर के कारण शुभाशुभ परिणामों में कमी-वृद्धि संभव है, इसलिए अच्छे समय का सद्उपयोग करें और खराब समय में सतर्क रहें.

- गुरुवार का चौघडिय़ा -

दिन का चौघडिय़ा      रात्रि का चौघडिय़ा

पहला- शुभ              पहला- अमृत

दूसरा- रोग               दूसरा- चर

तीसरा- उद्वेग            तीसरा- रोग

चौथा- चर                चौथा- काल

पांचवां- लाभ              पांचवां- लाभ

छठा- अमृत               छठा- उद्वेग

सातवां- काल              सातवां- शुभ

आठवां- शुभ              आठवां- अमृत

* चौघडिय़ा का उपयोग कोई नया कार्य शुरू करने के लिए शुभ समय देखने के लिए किया जाता है 

* दिन का चौघडिय़ा- अपने शहर में सूर्योदय से सूर्यास्त के बीच के समय को बराबर आठ भागों में बांट लें और हर भाग का चौघडिय़ा देखें.

* रात का चौघडिय़ा- अपने शहर में सूर्यास्त से अगले दिन सूर्योदय के बीच के समय को बराबर आठ भागों में बांट लें और हर भाग का चौघडिय़ा देखें.

* अमृत, शुभ, लाभ और चर, इन चार चौघडिय़ाओं को अच्छा माना जाता है और शेष तीन चौघडिय़ाओं- रोग, काल और उद्वेग, को उपयुक्त नहीं माना जाता है.

* यहां दी जा रही जानकारियां संदर्भ हेतु हैं, स्थानीय पंरपराओं और धर्मगुरु-ज्योतिर्विद् के निर्देशानुसार इनका उपयोग कर सकते हैं.

* अपने ज्ञान के प्रदर्शन एवं दूसरे के ज्ञान की परीक्षा में समय व्यर्थ न गंवाएं क्योंकि ज्ञान अनंत है और जीवन का अंत है! 

- पंचांग -

गुरुवार, 26 मार्च, 2020

झूलेलाल जयन्ती

शक सम्वत 1942  शार्वरी

विक्रम सम्वत 2077

काली सम्वत 5121

दिन काल 12:18:22

मास चैत्र

तिथि द्वितीया - 19:55:17 तक

नक्षत्र रेवती - 07:17:10 तक

करण बालव - 06:42:34 तक, कौलव - 19:55:17 तक

पक्ष शुक्ल

योगएन्द्र - 16:28:17 तक

सूर्योदय 06:17:42

सूर्यास्त 18:36:05

चन्द्र राशि मीन - 07:17:10 तक

चन्द्रोदय 07:30:59

चन्द्रास्त 20:18:59

ऋतु वसंत

दिशा शूल: दक्षिण में

राहु काल वास: दक्षिण में

नक्षत्र शूल: कोई नहीं

चन्द्र वास: उत्तर में 07:17 तक,पूर्व में 07:17 से  

*देवी का हार्दिक गरबा....

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।