नई दिल्ली. देश में जानलेवा कोरोना के खिलाफ चल रही जंग में भारतीय रेल की फैक्टरियों और वर्कशॉप में कोच, वैगन, इंजन के बजाए अस्पताल के बेड व चिकित्सा उपकरणों का उत्पादन किया जाएगा. रेलवे बोर्ड ने सभी जोनल रेलवे के महाप्रबंधकों को आदेश दिए हैं कि अपनी उत्पादन इकाइयों, फैक्टरियों और वर्कशॉप में उन सभी चिकित्सा उपकरणों को तैयार किया जाए, जिसमें कोरोना महामारी से संक्रमितों के इलाज में इस्तेमाल किया जा सके.

रेलवे बोर्ड के अधिकारियों का कहना है कि चितरंजन लोको वर्कशाप-चितरंजन, इंट्रिग्रल कोच फैक्टरी-चेन्नई, रेल कोच फैक्टरी-कपूरथला, डीजल लोको वर्कशॉप-वाराणसी, रेल व्हील फैक्टरी-येलाहंका आदि फैक्टरियों में कोच, वैगन, इंजन, पार्ट आदि बनाए जाते हैं, लेकिन संक्रमितों की संख्या तेजी से बढऩे के कारण सरकारी व निजी अस्पतालों में बेड व उपकरणों की बड़ी संख्या में जरूरत पड़ेगी.

इसलिए रेलवे बोर्ड ने सभी रेल फैक्टरियों, कारखानों, वर्कशॉपों में अस्पताल बेड, मेडिकल ट्रॉली, क्वारंटाइन सुविधा संबंधी उपकरण, स्ट्रेचर, अस्पताल फुटस्टेप, अस्तपाल बेडसाइट लॉकर, वॉश बेसिन, वेंटिलेंटर्स, मास्क, सेनटाइजर, पानी की टंकी आदि का भारी संख्या में उत्पादन करने के निर्देश दिए हैं. रेलवे बोर्ड ने जोनल जीएम से कहा है कि रेलवे के सीएमओ से सलाह मशवरे के बाद उक्त चिकित्सा उपकरणों का उत्पादन किया जाए.

पमरे के विद्युत लोको शेड इटारसी और एनकेजे में बनाए जा रहे मास्क

कोविड- 19 वायरस के संक्रमण के कारण बाजार में मास्क मिलने में दिक्कत हो रही है जिसके कारण अब पश्चिम मध्य रेलवे के विद्युत लोको शेड इटारसी में महिला कर्मचारियों तथा वंदना समिति की महिलाओं द्वारा रेल कर्मचारियों के लिए मास्क बनाए जा रहे हैं. यह मास्क शेड और लाइन पर रनिंग कर्मचारियों द्वारा उपयोग किए जाएंगे. साथ ही साथ डीजल लोको शेड नई कटनी जंक्शन  में भी मास्क बनाने का काम चालू किया गया है जो शेड में कार्यरत कर्मचारियों के उपयोग में लाए जाएंगे, जिससे कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोका जा सके.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।