जयपुर. राजस्थान के जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग व उद्योग राज्यमंत्री अर्जुनसिंह बामनीया ने कोरोना वायरस संक्रमण की समस्या के चलते दक्षिण राजस्थान में सीमावर्ती राज्यो से आ रहे लोगों की व्यवस्था, पैदल पहुंचने की घटनाओं और टीएडी विभाग द्वारा की जा रही विभिन्न व्यवस्थाओं व इंतजाम को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से चर्चा की. मुख्यमंत्री गहलोत ने बामनीया को हालात की गंभीरता देखते हुए प्रशासनिक व विभागीय स्तर पर आवश्यक प्रबन्ध सुनिश्चित करने और आमजन को राहत देकर सुरक्षा के लिये व्यापक प्रबन्ध के निर्देश दिये. मुख्यमंत्री गहलोत के निर्देश पर बामनीया अन्य क्षेत्रों से दक्षिण राजस्थान की सीमाओं पर पहुंच रहे लोगों से जुड़ी व्यवस्थाओं की निगरानी व देखरेख में जुट गये हैं.

कोरोना संक्रमण समस्या होने के बाद एक पखवाड़े से अधिक समय से राजस्थान के दक्षिण संभाग में सुरक्षात्मक व राहतकारी व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने, जन जागरूकता में जुटे बामनीया ने कहा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर आमजन भयग्रस्त न हो, सुरक्षा के प्रति सजग रहे और सरकार, प्रशासन, टीएडी विभाग व चिकित्सा विभाग द्वारा इस संक्रमण के रोकथाम हेतु की गई व्यवस्थाओं को सहयोग दे, ताकि सभी के स्वास्थ्य संरक्षण कार्यक्रम को प्रभावी ढंग से क्रियान्वित किया जा सके. बामनीया ने कहा कि कोरोना से संक्रमित लोगों से अन्य लोगों को संक्रमण न हो इसलिये सरकार द्वारा स्थापित केन्द्रों पर चिकित्सा जांच करवायें और सभी की सुरक्षा हेतु की गई व्यवस्थाओं में सहयोग दें. उन्होंने कहा कि प्रदेश की सीमाओं पर पहंुचे लोगों के लिये सभी आवश्यक व्यवस्थायें की गई हैं.

बामनीया ने कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में राज्य सरकार इस महामारी से प्रदेशवासियों के बचाव हेतु सतत प्रयासरत व कटिबद्ध है और जनजाति क्षेत्र में अन्य क्षेत्रों से आ रहे लोगों की चिकित्सकीय जांच व उपचार, खाद्य सामग्री की व्यवस्था और अन्य व्यवस्थायें सीमावर्ती क्षेत्रों में करने पूरे मनोबल से जुटी है, अतः देश के अन्य क्षेत्रों में रोजगार आदि कार्यों से जुड़े लोग, जो प्रदेश की दक्षिण सीमाओं तक पहुंच चुके हैं, वे सीमाओं पर कायम चैक पोस्ट पर चिकित्सकीय जांच करवायें व सरकार की व्यवस्थाओं से राहत प्राप्त कर सकते हैं.

बामनीया गुजरात व मध्यप्रदेश के टीएडी विभाग व प्रशासनिक अधिकारियों के सतत सम्पर्क में हैं और अन्य क्षेत्रों से दक्षिण राजस्थान की सीमाओं पर पहुंच चुके लोगों के लिये जारी राहत कार्यों की प्रभावी निगरानी की जा रही है.

बामनीया ने कहा कि कोरोना संक्रमण विश्वव्यापी गंभीर समस्या है और इससे बचाव ही इसका उपचार है अतः केन्द्र व राज्य सरकार की एडवाईजरी मानकर घर पर रहें, अत्यावश्यक कार्य होने पर ही बाहर निकले व सुरक्षित रहें. उन्होंने कहा कि दक्षिण राजस्थान में जनजाति विभाग तत्परता से राहत व सुरक्षा के इंतजाम में जुटा हुआ है और आमजन प्रशासन की व्यवस्थाओं में पूरा सहयोग दें.

बामनीया ने कहा कि आपदा की घड़ी में समाज के सक्षम प्रतिनिधि जरूरतमन्द लोगों को राहत देने आगे आ रहे हैं, यह सकारात्मक व मानवीय संदेश हैं. बामनीया ने क्षेत्रवासियों से अपील की है कि सरकार, प्रशासन व चिकित्सा विभाग के निर्देश व सलाह का पालन कर कोरोना संक्रमण से बचाव अभियान में अपना महत्वपूर्ण योगदान करें. ध्यान रहे, बामनीया ने कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु राजस्थान में स्थापित राहत कोष हेतु एक माह का वेतन दिया है और अपने क्षेत्रीय विद्यायक मद से भी एक लाख रूपये सेनेटाईजर व मास्क आदि सामग्री के द्वारा कोरोना से सुरक्षा कार्य करने जिला प्रशासन बांसवाड़ा को जारी किये हैं.

जन प्रतिनिधियों से सहयोग की अपील- जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग व उद्योग राज्यमंत्री अर्जुनसिहं बामनीया ने पंचायती राज व नगर निकायों के प्रतिनिधियों से आग्रह किया है कि अपने अपने क्षेत्र में देश के विभिन्न क्षेत्रो में रोजगार, शिक्षा आदि कार्यांे से जुड़े जो लोग पिछले दिनों वापस अपने घर आये हैं उन्हें कोई स्वास्थ्य समस्या हैं या अब कोई वापस आये तो उन्हें चिकित्सा जांच केन्द्रांे पर ले जाकर जांच करवायें व सुरक्षा के लिये संतुष्ट हो जायें. बामनीया ने कहा कोरोना संक्रमण एक ऐसी गंभीर समस्या है जिसका मुकाबला एकजुटता, संकल्प और सजगता से संभव है, अतः सभी लोग सकारात्मक दृष्टिकोण से सहयोग करें.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।