नई दिल्ली. भारतीय रेल द्वारा संचालित यात्री ट्रेनों में रिजर्वेशन के लिए 15 अप्रैल के बाद की यात्रा के रिजर्वेशन के लिए कोई रोक नहीं लगायी गई थी. सिर्फ 14 अप्रैल तक ही रिजर्वेशन पर रोक लगी थी. रेलवे में चल रही अफवाहों पर स्पष्टीकरण देते हुये बताया कि 15 अप्रैल से रिजर्वेशन खुलने की बात इसलिए झूठी है क्योंकि जब रोक ही नहीं लगी तो खुलने का सवाल ही कहां उठता है. हालांकि रेलवे ने यह भी कहा है कि लॉकडाउन खुलने के बाद भी सभी ट्रेनों के संचालन में वक्त लगेगा.

रेलवे ने स्पष्ट किया है कि मौजूदा नियम के तहत यात्रा की तिथि से 120 दिन पहले रिजर्वेशन की सुविधा मिलने लगती है. इसी नियम के तहत 15 अप्रैल और इससे आगे की तिथियों की यात्रा के लिए 120 दिन पहले से ही रिजर्वेशन बुकिंग की सुविधा दी गई है. ऐसे में अब लॉकडाउन के बाद यानी 15 अप्रैल से रेल यात्रा के लिए रिजर्वेशन सुविधा बहाल होने की बात बिल्कुल अफवाह है, इसमें कोई सच्चाई नहीं है.

रेलवे ने कहा है कि 14 अप्रैल के बाद की यात्रा के लिए लॉकडाउन से बहुत पहले ही रिजर्वेशन खुल गया था और इस पर कभी रोक नहीं लगी. रेलवे की पैसेंजर सेवाएं लॉकडाउन के पहले 22 मार्च से ही रोक दी गई थीं लेकिन मालवाहक ट्रेनें समान्य तौर पर चल रही हैं. अब रेलवे की पैसेंजर सेवाओं को धीरे-धीरे 15 अप्रैल से शुरू करने की तैयारी है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।