नजरिया. देश में राजनीति का इतना पतन कभी नहीं हुआ था! कांग्रेस के सवालों के अमर्यादित जवाब बीजेपी दे रही है, बीजेपी को आक्रामक जवाब कांग्रेस दे रही है, परन्तु बेबस जनता को जवाब कौन देगा, किसी को नहीं पता है?

मुद्दा चाहे मजदूरों का हो, किसानों का हो, बेरोजगारों का हो, कोरोना का हो या कोई और, यदि मुद्दा कांग्रेस ने उठाया तो बीजेपीे समर्थक उसका मजाक उड़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ते हैं, तो सरकारी योजनाओं की ऐसीतैसी करने का विपक्ष कोई मौका नहीं छोड़ता है?

प्रजातंत्र का संतुलित विरोध-समर्थन तो हवा हो चुका है!

हालत यह है कि गंभीर से गंभीर मुद्दों का भी सोशल मीडिया पर स्तरहीन मजाक उड़ाने में कोई शर्म महसूस नहीं की जा रही है?

यह माना कि विभिन्न मुद्दों का कोई ठोस समाधान किसी के भी पास नहीं है, लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि कोरोना से लड़ना छोड़ कर राजनीतिक दल आपस में लड़ते रहें और जनता ऐसे ही दर्द बर्दाश्त करती रहे?

यह सही है कि जनता की याददाश्त बहुत कमजोर है, इसलिए सियासत के दिए जख्मों को भूल कर वह शायद अगले चुनावों में वह फिर किसी को सत्ता सौंप दे? लेकिन, क्या इतने पतन के बावजूद किसी राजनेता की अन्तरआत्मा जागृत होगी?  

यह भी देखें:- हाड़ा का एक कार्टून काफी है राजनेताओं का असली चेहरा दिखाने को....

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।