भोपाल. देश में 25 मई से घरेलू उड़ानों की अनुमति मिलने के बाद सभी विमानन कंपनियों ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है और नागर विमानन मंत्रालय ने इसकी गाइड लाइन और पूरा कार्यक्रम तय कर दिया है. मध्य प्रदेश के भोपाल और इंदौर से भी घरेलू उड़ानों का संचालन 25 मई की मध्य रात्रि से शुरू हो जाएगा. फिलहाल दोनों एयरपोर्ट से कुल 18 विमानों को ही उड़ान भरने की इजाजत दी गई है, जिमसें इंदौर एयरपोर्ट से 11 और भोपाल एयरपोर्ट से कुल 8 उड़ानों का परिचालन होगा. 

बताया जा रहा है कि भोपाल और इंदौर से आवागमन करने वाली सभी उड़ाने ए से डी कैटेगरी के बीच आती है, इस लिहाज से इन दोनों एयरपोर्ट से उड़ान भरने वाली सभी फ्लाइट्स का किराया 2000 रुपए से 10 हजार रुपए के बीच ही होगा.

मंत्रालय ने पहले ब्लॉक में कुल 46 एयरपोर्ट सेक्टर को शामिल किया है. जिसमें, मध्य प्रदेश के खाते में कुल 3 फ्लाइट आई हैं. इसमें एक फ्लाइट भोपाल से मुंबई की है, जबकि दो फ्लाइट इंदौर से अहमदाबाद और नागपुर की है. मंत्रालय ने इन तीनों शहरों के लिए न्यूनतम किराया 2000 रुपए और अधिकतम किराया 6000 रुपए निर्धारित किया है. भोपाल और इंदौर से इन तीनों शहरों के बीच महज 40 मिनट का हवाई सफर है.

मंत्रालय ने दूसरे ब्लॉक में कुल 83 एयरपोर्ट सेक्टर को शामिल किया है. जिसमें, मध्य प्रदेश के भोपाल से अहमदाबाद, दिल्ली, जयपुर और रायपुर के लिए चार फ्लाइट शामिल की गई है. जबकि, इंदौर से हैदराबाद, जयपुर और मुंबई के लिए तीन फ्लाइट हैं. मंत्रालय ने इन 7 शहरों के लिए न्यूनतम किराया 2500 रुपए और अधिकतम किराया 7500 रुपए निधाज़्रित किया है. भोपाल और इंदौर से इन सातों शहरों के बीच महज 40 से 60 मिनट का हवाई सफर है.

मंत्रालय ने तीसरे ब्लॉक में कुल 87 एयरपोर्ट सेक्टर को शामिल किया है. जिसमें, मध्य प्रदेश के भोपाल से हैदराबाद के लिए एक और इंदौर से दिल्ली, गोवा और रायपुर के लिए 3 उड़ानें शामिल की गई हैं. मंत्रालय ने इन 4 शहरों के लिए न्यूनतम किराया 3000 रुपए और अधिकतम किराया 9000 रुपए निर्धारित किया है. भोपाल और इंदौर से इन सातों शहरों के बीच महज 60 से 90 मिनट का हवाई सफर है.

मंत्रालय ने चौथे ब्लॉक में कुल 70 एयरपोर्ट सेक्टर को शामिल किया है. जिसमें, मध्य प्रदेश के भोपाल से बैंगलूरू के लिए एक और इंदौर से बैंगलूरू, चेन्नई और कोलकाता के लिए तीन उड़ानें शामिल की गई हैं. मंत्रालय ने इन 4 शहरों के लिए न्यूनतम किराया 3500 रुपए और अधिकतम किराया 10000 रुपए निर्धारित किया है. भोपाल और इंदौर से इन चारों शहरों के बीच महज 90 से 120 मिनट का हवाई सफर है.

एयरलाइंस में एयर फेयर का निर्धारण आरबीडी सिस्टम के तहत होता है. आरबीडी सिस्टम के तहत कई बकेट्स होती है. जिसमें किराए को बढ़ते क्रम में बांट दिया जाता है. उदाहरण के तौर पर दिल्ली से मुंबई का न्यूनतम किराया 3500 रुपए और अधिकतम किराया 10 हजार रुपए है. वहीं एयरलाइंस इस किराये को 10 बकेट्स में बांटती है तो पहले बकेट का किराया 3500 रुपए, दूसरा बकेट का किराया 4000 रुपए होगा.

इसी तरह किराया बकेट के हिसाब से बढ़ता हुआ 10 हजार रुपए तक चला जाएगा.

मंत्रालय को आशंका थी कि एयरलाइंस ऊंचे किराये वाले बकेट में टिकटों की बिक्री कर सकती हैं. लिहाजा मंत्रालय ने तय किया है कि एयरलाइंस विमान के क्षमता की 40 प्रतिशत सीटें औसत किराये से कम में ही बिक्री करेंगी. बाकी बची 60 प्रतिशत सीट की बिक्री हायर बकेट्स के जरिये की जा सकेगी.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।