नई दिल्ली. सोमवार को दुनिया भर में संक्रमण के लगातार छठे दिन एक लाख से ज्यादा नए केस सामने आए जिसके बाद कुल मामले बढ़कर अब 63,61,700 से भी ज्यादा हो गए हैं. बीते 24 घंटे में दुनिया भर में संक्रमण से 3000 से ज्यादा लोगों की मौत हो गयी और कुल मौतों का आंकड़ा बढ़कर 3,77,000 से भी ज्यादा हो गया है. अमेरिका, ब्राजील, रूस, भारत और पेरू में भी सोमवार को सबसे ज्यादा नए केस सामने आए हैं.

मार्च के बाद से पहली बार स्पेन में बीते 24 घंटों में कोरोना के कारण मौत का एक भी मामला दर्ज नहीं किया है. इमर्जेंसी हेल्थ रिस्पॉन्स टीम के प्रमुख फर्नांडो सिमोन ने कहा है कि ये अच्छी ख़बर है कि देश में एक दिन में कोऊ मौत नहीं हुई है, हालांकि बीते 24 घंटों में देश में कोरना के केवल 71 नए मामले सामने आए हैं.

पाकिस्तान- पाकिस्तान में जारी लॉकडाउन में ढील देने की योजना पर काम कर रहे पाक प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने कहा कि ये वायरस कहीं नहीं जा रहा और लोगों को इसके साथ रहना सीखना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का बुरा असर देश की अर्थव्यस्था पर पड़ रहा है. इमरान ख़ान ने कहा कि "ये वायरस अभी और फैलेगा और मुझे दुख के साथ कहना पड़ रहा है कि इस कारण जानें भी जा सकती हैं लेकिन अगर हम अधिक सावधानी बरतें तो हमें इसके साथ जीना आ जाएगा.

अमेरिका- अमेरिका में सोमवार को संक्रमण के 22,000 से ज्यादा नए केस सामने आए जिसके बाद कुल केस बढ़कर अब 18,59,300 से भी ज्यादा हो गए हैं. बीते 24 घंटे में यहां संक्रमण से 730 लोगों की मौत हो गयी और कुल मौतों का आंकड़ा 1,06,900 से भी ज्यादा हो गया है. उधर अश्वेत व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद जारी प्रदर्शन के चलते वैज्ञानिकों ने संक्रमण के मामले और बढ़ने की चेतावनी जारी की है.

सिंगापुर- सिंगापुर में चरणबद्ध तरीक़े से लॉकडाउन में छूट देनी शुरू कर दी गई है. कुछ स्कूली छात्र वापस क्लास में लौट रहे हैं. उत्पादन और निर्माण क्षेत्र को भी शर्तों के साथ काम शुरू करने की अनुमति दी गई है. कोरोना महामारी के शुरुाती दिनों में सिंगापुर को वायरस की रोकथाम के मामले में एक कामयाब मॉडल के तौर पर देखा गया था. लेकिन इस छोटे से देश में अप्रैल में वायरस फिर से फैल गया था जिसके बाद सरकार ने सख़्त क़दम उठाए थे. दूसरे दौर में वायरस सिंगापुर के प्रवासी श्रमिकों में फैला था. अब फिर से लॉकडाउन में ढील दी जा रही है.

ब्राजील- ब्राजील में कोरोना कहर जारी है और सोमवार को भी यहां संक्रमण के 14,000 से ज्यादा मामले सामने आए जिसके बाद कुल मामले बढ़कर अब 5,39,000 से भी ज्यादा हो गए हैं. बीते 24 घंटे में यहां 732 लोगों की संक्रमण से मौत हो गयी और कुल मौतों का आंकड़ा बढ़कर अब 30,000 से ज्यादा हो गया है.

ब्रिटेन- ब्रिटेन में सोमवार को लॉकडाउन के बीच ही सामाजिक मेलजोल से दूरी के नियमों का पालन करते हुए प्राथमिक स्कूल खोलने की घोषणा कर दी गयी. वैसे तो पहले से ही कुछ प्रमुख वर्गों के बच्चों के लिए स्कूल खुले हुए थे, लेकिन अब लाखों और बच्चे स्कूल जा सकेंगे. हालांकि संभावना है कि कई परिवार कोरोना वायरस के दूसरे दौर के खतरे के मद्देनजर अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजेंगे. ब्रिटेन में कोरोना वायरस संक्रमण के चले 38 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. ब्रिटेन के व्यापार मंत्री आलोक शर्मा ने कहा, 'सरकार कोरोना वायरस लॉकडाउन में ढील देने की दिशा में बहुत सतर्क और अस्थायी कदम उठा रही है और इनकी समीक्षा की जाती रहेगी.'

नेपाल- नेपाल में एक दिन में कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा 239 मामले सामने आए. इसके बाद देश में मरीजों की संख्या 1,798 पहुंच गई है. स्वास्थ्य एवं जनसंख्या मंत्रालय ने बताया कि कोरोना वायरस के नए मामलों में से 13 महिलाएं हैं. मंत्रालय ने बताया कि सबसे ज्यादा 41 मामले दैलेख जिले से सामने आए हैं. इसके बाद 10 कपिलवस्तु और 38 सरलाही जिले से सामने आए हैं. उसने बताया कि दो और मरीजों ने संक्रमण को मात दे दी है. इसके बाद बीमारी उबर चुके लोगों की संख्या 221 पहुंच गई है. मंत्रालय ने बताया कि देश में कोरोना वायरस से अबतक आठ लोगों की मौत हो चुकी है. कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन को सरकार ने 14 जून तक के लिए बढ़ा दिया है. घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का संचालन जून के अंत तक के लिए स्थगित कर दिया गया है.

यूनान प्रतिबंध हटाए- यूनान में अगले दो सप्ताह में शुरू होने वाले ग्रीष्मकालीन पर्यटन की तैयारियां शुरू हो गई हैं और सोमवार को यहां होटल, सिनेमाघरों, गोल्फ कोर्सेस और तरण तालों में तैराकी से प्रतिबंध हटा लिए गए हैं. प्राथमिक विद्यालय के विद्यार्थी भी अपनी कक्षाओं में लौट आए हैं. कोरोना वायरस वैश्विक महामारी को रोकने के लिए लागू कड़े नियमों की वजह से यहां संक्रमण दर कम रही है. इस देश में संक्रमण से सिर्फ 175 लोगों की मौत हुई. अंतरराष्ट्रीय विमान एथेंस और यूनान के दूसरे सबसे बड़े शहर थसालोनिकी 15 जून से पहुंचना शुरू करेंगे और इसका विस्तार पूरे देश में एक जुलाई से होगा और जांच प्रक्रिया इन यात्राओं का हिस्सा होगी. यहां आने वाले यात्रियों की जांच यूरोपीय संघ विमान सुरक्षा प्राधिकरण के आकलन के तहत की जाएगी. वहीं संक्रमण से कम प्रभावित क्षेत्रों वाले यात्री रैंडम (जांच के लिए किसी भी यात्री को चुन लेन) जांच का विषय होंगे.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।