जबलपुर (लोकेश नशीने). देश में सबसे मंहगे पेट्रोल-डीजल की मार झेल रहे मध्यप्रदेश की जनता को विद्युत कंपनियों ने जोर का झटका दिया है. मप्र विद्युत नियामक आयोग के अप्रूवल के बाद वर्तमान वित्तीय वर्ष की दूसरी तिमाही के लिए प्रदेश में बिजली के दाम में 13 पैसे प्रति यूनिट की बढ़ोतरी कर दी गई है, जिससे आने वाले दिनों में प्रदेश के विद्युत उपभोक्ताओं का बिजली बिल बढऩा तय है.

जानकारी के अनुसार प्रदेश की तीनों विद्युत वितरण कंपनियों की ओर से मप्र पावर मैनेजमेंट कंपनी ने वर्तमान वित्तीय वर्ष की दूसरी तिमाही के लिए मप्र विद्युत नियामक आयोग के समक्ष फ्यूल कॉस्ट एडजस्टमेंट (एफसीए) की दर में वृद्धि का प्रस्ताव प्रस्तुत किया था. नियामक आयोग ने पावर मैनेजमेंट कंपनी के प्रस्ताव पर एफसीए की दर 13 पैसे प्रति यूनिट किये जाने को मंजूरी दे दी है.

गौरतलब है कि वर्तमान वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही अप्रैल से जून तक के लिए एफसीए की दर 9 पैसे प्रति यूनिट थी, वहीं वित्तीय वर्ष की दूसरी तिमाही जुलाई से सितंबर के लिए इसे 13 पैसे प्रति यूनिट कर दिया गया है. इस तरह एफसीए की दर में 4 पैसे प्रति यूनिट का इजाफा हो गया है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।