जबलपुर. केन्द्र सरकार द्वारा लगातार मजदूर विरोधी नीतियों, श्रमिक कानूनों में व्यापक बदलाव व महंगाई भत्ता पर रोक हटाने, भारतीय रेल का निजीकरण करने आदि के विरोध में एनएफआईआर के आव्हान पर एनएफआईआर के कार्यकारी अध्यक्ष व वेसेरेम संघ के अध्यक्ष डॉ. आर.पी. भटनागर के निर्देश पर महामंत्री अशोक शर्मा के  मार्गदर्शन में संघ द्वारा मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय के समक्ष व्यापक विरोध प्रदर्शन कर जमकर नारेवाजी की. 

 संघ प्रवक्ता सतीश कुमार ने बताया कि मंडल सचिव डी.पी. अग्रवाल के नेतृत्व में केन्द्र सरकार के मजदूर विरोधी कृत्यों के खिलाफ हुए विरोध प्रदर्शन में अक्रोशित रेल कर्मचारियों ने देश की जीवन रेखा भारतीय रेल का निजीकरण को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा. रेल मंत्रालय द्वारा विगत दिवस 109 ट्रेनों को पंूजीपतियों के हवाले करने के निर्णय से रेल अस्तित्व पर खतरा पैदा हो गया है.

डीपी अग्रवाल ने कहा कि केन्द्र सरकार के रेलवे को बेचने की साजिश को कामयाब नहीं होने दिया जायेगा. एनपीएस को खत्म कर डी.पी.एस लागू करने, 50 लाख का बीमा कोविड-19 इंश्योरेंश के तहत रेल कर्मचारियों का करने आदि के मुद्दों की भी आवाज बुलंद की. प्रदर्शन के दौरान संयुक्त महामंत्री एसके वर्मा, रोशन सिंह यादव, हर्ष, संतोष त्रिवेणी, अफसर हुसैन, देवी यादव समेत अनेकों कार्यकर्ता  उपस्थित रहे.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।