निशिकांत मंडलोई, खंडवा. गुरु महिमा व गुरु पूजन का पर्व गुरु पूर्णिमा पर हर वर्ष गुरु भक्तों द्वारा बड़े पैमाने पर व श्रद्धापूर्वक देश भर में अपने गुरुओं का पाद पूजन, वंदन किया जाता है लेकिन इस वर्ष कोरोना संक्रमण के कारण गुरु पूजन भी सांकेतिक रूप से ही किया जाएगा.

इसके साथ ही चन्द्र ग्रहण काल भी रहेगा. मध्यप्रदेश के खंडवा नंगर में स्थित गुरु परम्परा के संवाहक दादा जी के समाधि स्थल धूनी मंदिर पर भी वीरानी सी छाई रहेगी.

प्रशासनिक बंदोबस्त

इस वर्ष कोरोना संक्रमण से बचाव के मद्देनजर  खंडवा कलेक्टर श्री अनय द्विवेदी ने धूनी वाले मंदिर को बंद रखने का निर्णय लिया है. 

दादाजी समाधि पर उत्सव सेवादारों की उपस्थिति में मनाया जाएगा लेकिन भक्तों के प्रवेश पर रोक रहेगी. आसपास के क्षेत्र में बैरिकेडिंग लगाए गए हैं. ऐसा 90 वर्षों में पहली बार कोरोना के कारण स्थिति बनी है. उधर धूनी माई की सुरक्षा दीवार को 8 इंच ऊंचा कर 12 इंच किया गया है. समाधि स्थल पर आकर्षक विद्युत सजावट की गई है. नो दशकों से चली आ रही निशान चढ़ाने की परंपरा का निर्वहन करने की मांग भी गुरु भक्तों ने की है. जिले के नर्मदा तटों पर स्न्नान भी प्रतिबंधित रहेगा. कुछ विदेशी भक्तों के आने से भी प्रशासन सजग है.

ज्ञातव्य है कि खंडवा से लगे जिलों  राजस्थान, महाराष्ट्र से लाखों की संख्या में श्रृद्धालुओं का यहां आना होता है और परम्परागत रूप से निशान भी चढ़ाए जाते हैं. इस निर्णय के साथ ही समीपवर्ती कलेक्टरों को पत्र लिखकर सूचित किया है कि गुरू पूर्णिमा पर 1 से 10 जुलाई तक दादाजी धूनी वाले मंदिर को बंद करने का निर्णय लिया गया है. कोई भी अनुयायी या श्रृद्धालु खंडवा के लिए इस अवधि में प्रस्थान न करें.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।