जैसे ही रात को 12 बजे के बाद 1 अगस्त प्रारम्भ होगा, 4 घंटे के अंदर के  अंदर ही बुध शुक्र दोनो ग्रह राशि परिवर्तन कर क्रमशः कर्क और मिथुन राशि मे पहुँच जायेंगे, बुध महाराज मिथुन से कर्क मे और शुक्र देव वृषभ से मिथुन मे जायेंगे काफी लंबे समय बाद शुक्र देव ने राशि परिवर्तित की है,बुध और शुक्र का सीधा संबंध व्यापार जगत से ही है इन दोनो के राशि बदलने से विशेष परिवर्तन देखने को मिलेगा. 

*बुध महाराज शनि की दृष्टि मे आ जायेंगे, वही शुक्र देव राहु के साथ हो जायेंगे जिसपर गुरुदेव की दृष्टि पड़ती है,याने बुध महाराज शनि की दृष्टि मे आने से थोड़ा संकट महसूस करेंगे, वही शुक्र देव भी राहु के साथ आने से कस्ट महसूस करेंगे, लेकिन गुरु की दृष्टि मदद करेगी, आइये देखते है, इन दो परिवर्तनों से विश्व व्यापक प्रभाव और सभी राशियों मे इसका क्या प्रभाव होगा. 

*व्यापार जगत मे परिवर्तन देखने को मिलेंगे. 

*कुछ प्रतिबंधों के साथ व्यापार को गति मिलेगी. 

*व्यापारी वर्ग कई जगह कठिनाइयों का अनुभव करेगा. 

*स्त्री जगत वाहन उद्योग को संकट अवश्य रहेगा किंतु निकल जायेगा. 

*मेष, कर्क, सिंह, व्रिसचिक, धनु, के लिए कस्ट पूर्ण समय. 

*वृषभ, मिथुन, कन्या,तुला, मकर, कुंभ और मीन के लिए शुभ समय. 

*पूर्वोत्तर मे बड़ी तबाही*- आने वाले 30 दिन  पूर्वोत्तर के लिए संकट पूर्ण है, किसी बड़े देश के बड़े नेता का निधन, पूर्वोत्तर दिशा मे कोरोना या तूफान से तबाही हो सकती है, कोरोना किसी राष्ट्र प्रमुख को निगल सकता है, केदारनाथ जैसी तबाही हो सकती है. 

*हवा, पानी कहर मचाएंगे*-15 जुलाई से 15 अगस्त तक का समय विश्व के पूर्वोत्तर राष्ट्रों के लिए संकट पूर्ण रहेगा, हवा पानी कहर मचाएंगे. 

*सूर्य शनि का टकराव ये लोग खास ध्यान रखें

17 जुलाई से भगवान् सूर्य शनि देव की दृष्टि और कर्क राशि मे आ गए है,जलीय राशि मे सूर्य के शनि की दृष्टि मे आना लोक प्रशासको यानी मुख्यमंत्री, प्रधान मंत्री रास्ट्र प्रमुख आदि के लिए तकलीफ भरा होगा, 

*सूर्य शनि का दृष्टि संबध*- आगामी 15 जुलाई से जैसे ही सूर्य देव कर्क राशि मे आयेंगे, वैसे ही शनि देव जो मकर राशि मे बैठे है उनसे सूर्य का दृष्टि संबंध हो जायेगा, सूर्य शनि का दृष्टि संबंध राजा और प्रजा के टकराव का संकेत है,पिछले मार्च से लॉक डाउन की पाबंदी और इस कोरोना के कारण जो हालात बने है वो ऐसी स्थिति बना दें कोई आश्चर्य नही होना चाहिए.

*इसूर्य देव कर्क राशि मे आयेंगे, जो की जनता की राशि है, इस पर शनिदेव की दृष्टि पड़ेगी जो मकर राशि पर विराजमान है,जिसके कारण विश्व स्तर मे निम्न असर देखने को मिल सकते है.

*शनि मजदूर  वर्ग का कारक है वही सूर्य सत्ता और सरकार का कारक है, इसीलिए मजदूर संघठन सरकार के खिलाफ हड़ताल और आंदोलन पर उतर सकते है,शासकीय कर्मचारी भी विरोध का रास्ता पकड़ सकते है.

*पूर्वोत्तर की सभी सरकार और उनके मुखिया संकट का सामना करेंगे.

*चीन,जापान, कोरिया वियतनाम, इंडोनेशिया तथा भारत के सभी पूर्वी राज्य जैसे बिहार, बंगाल,असम पूर्वोत्तर के अन्य राज्य की सरकारो के लिए संकट पूर्ण समय. 

*दक्सिनी चीन सागर मे अमेरिका तथा चीन के बड़ा टकराव हो सकता है.

*सूर्य आखों की रोशनी का कारक होता है,हृदय का कारक होता है, इसीलिए सामान्य जनों को नेत्र ज्योति और हृदय  से जुड़ी परेशानियों से बचना चाहिए, जिन्हे इस तरह की तकलीफ है उन्हे किसी प्रकार का तनाव नही लेना चाहिए.

*इनको है तकलीफ का योग*-जिनका जन्म 15 जुलाई से 15 अगस्त के बीच हुआ है, और उनकी कुंडली मे सूर्य शनि का दृष्टि योग है उन्हे ये 30 दिन विशेष सावधानी से गुजारना चाहिए.

*उपाय*- सभी लोगो को भगवान् शिव का विशेष पूजन चाहिए,रामायण का पाठ करना चाहिए,सूर्य नमस्कार करना चाहिए, आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करना चाहिए.

*सभी राशियों के लिए सूर्य शनि के इस टकराव का फल*

*मेष*- मकान, वाहन, सुख सुविधा, जनता से जुड़े कार्यो ने काफी विरोधा भाष और संघर्ष का सामना करना पड़ सकता है.

*वृषभ*- भाग्य वर्धक यात्रा के योग, बंधुओ से विरोध बनेगा,शासकीय लोगो से भी विरोध का योग.

*मिथुन*- इस राशि वालो को आर्थिक छेत्र मे विशेष सावधानी से कार्य करना चाहिए, निवेश आदि से बचें.

*कर्क*- इस राशि के लिए पति पत्नी मे विरोध का योग बनेगा, व्यापार मे सांझिदारो से टकराव रहेगारहेगा.

*सिंह*- इस राशि वालो को रोग,ऋण बीमारी, शत्रु आदि से कस्ट का योग बनेगा,दाहिने आँख और शरीर के दाहिनी भाग मे कस्ट का योग.

*कन्या*- इस राशि वालो को विद्या के छेत्र मे काफी टकराव के बाद लाभ का योग, आर्थिक छेत्र ने सफलता का योग.

*तुला*- इस राशि वालो को अपने सभी काम काज मे विशेष सफलता प्राप्त होगी,समाज मे टकराव से बचें.

वृश्चिक - इस राशि वालो को राज्य से जुड़े कार्यो ने विशेष मेहनत करनी पड़ेगी, अधिकारियों से तनाव मे वृद्धि का योग.

*धनु*- इस राशि वालो के लिए आर्थिक छेत्र मे विशेष संकट का समय है, निवेश आदि से बचें.

*मकर*- पारिवारिक, व्यापारिक कार्यो मे विरोध और दिक्कत का योग, अपने विरोधी और जीवन साथी से बनाकर रखें.

*कुंभ*- इस राशि वालो के लिए शुभ समय, रोग, ऋण, शत्रु नस्ट होंगे,विरोधी का नाश होगा.

*मीन*- इस राशि वालो के लिए शुभ समय शत्रु नस्ट होंगे, विरोधी दल खत्म होगा, आर्थिक योग उत्तम.

*विशेष*- जिनका जन्म 15 जुलाई से 15 अगस्त के बीच हुआ है उनके लिए समय कस्ट कारक रहेगा, आपको खास सावधानी बरतनी पड़ेगी.जिनकी मकर राशि है या कर्क राशि है वे खासखास ध्यान रखें. 

*पंडित चंद्र शेखर नेमा  हिमांशु

9893280184,7000460931

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।