नई दिल्ली. कोविड 19 के लिए बनी जीओएम (ग्रुप ऑफ मिनिस्टर) ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के प्रस्ताव पर सहमति व्यक्त करते हुए भारत-निर्मित वेंटिलेटर के निर्यात की अनुमति दी है. स्वदेशी निर्मित वेंटिलेटर के निर्यात को सुविधाजनक बनाने के लिए आगे की कार्रवाई के लिए इस निर्णय को डायरेक्टर जनरल ऑफ फॉरेन ट्रेड को सूचित कर दिया है.

भारत में अभी मृत्यु दर 2.15% है और लगातार ये दर घट रही है. वहीं देश में 31 जुलाई को कुल कोरोना संक्रमित मरीजों में से सिर्फ 0.22% वेंटिलेटर पर है.

इसके अलावा भारत में वेंटिलेटर निर्माण करने वाली कंपनी काफी बढ़ गई है और अभी तकरीबन 20 कंपनी वेंटिलेटर बना रही है. भारत में कोरोना में वेंटिलेटर की कमी ना हो इसलिए वेंटिलेटर पर निर्यात पर रोक/ प्रतिबंध मार्च 2020 में लगाई गई थी. सभी प्रकार के वेंटिलेटर के निर्यात पर प्रतिबंध/रोक डीजीएफटी अधिसूचना संख्या 53 w.e.f 24.03.2020 हुई थी, लेकिन अब निर्यात की अनुमति दे दी गई है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।