हॉट स्प्रिंग से चीन और भारत की सेना पूरी तरह से पीछे हट चुकी है. डिसएंगेजमेंट की प्रक्रिया के मद्देनज़र दोनों देशों की सेनाओं ने अपने अपने कदम पीछे हटाने का फैसला लिया है. वहीं, पैंगोंग के मुद्दे पर अगले हफ्ते सैन्य कमांडर स्तर की बैठक होने की संभावना है.

सैन्य और राजनयिक स्तर पर जारी बातचीत के फलस्वरूप ही पीपी 15 पर पूरी तरह से डिसएंगेजमेंट संभव हो पाया है. इससे पूर्व गोगरा क्षेत्र और गलवान में भी डिसएंगेजमेंट की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है. अर्थात पूर्वी लद्दाख के पीपी 15, पीपी 14 और पीपी 17 ए में डिसएंगेजमेंट सम्पूर्ण रूप से हो चुका है.

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि पैंगोंग और हॉट स्प्रिंग ऐसे इलाके हैं, जहां पर दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने खड़ी हैं. तनावपूर्ण स्थिति कायम है जिसके परिणामस्वरूप हालात को देखते हुए भारतीय सेना भी पूरी तरह से सतर्कता दिखा रही है. लेकिन अब हॉट स्प्रिंग से दोनों देशों की सेनाएं पीछे हट चुकी हैं, लेकिन पैंगोंग को लेकर कुछ साफ नही हो पाया है जिसके परिणामस्वरूप इस पर अगले हफ्ते बातचीत हो सकती है.

मई के शुरुआती दिनों से ही दोनों देशों में तनाव की स्थिति बनी हुई हैं. सीमा पर तनाव को समाप्त करने के लिए दोनों सेनाओं ने बातचीत के जरिए हल निकालने की कोशिश की, जिसमें तय हुआ है कि जो भी विवादित क्षेत्र हैं वहां से दोनों पक्ष की सेनाएं पीछे हटेंगी. आखिरी बार 14 जुलाई को दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों में बात हुई थी.
हॉट स्प्रिंग से पीछे हटने के संकेत चीन ने कोर कमांडर की बैठक के बाद ही  दे दिए थे. लेकिन पैंगोंग से पीछे हटने के मुद्दे पर अभी भी दुविधा बनी हुई है. चीन फिंगर 4 और 5 के इलाके से पीछे हटना नही चाहता है और भारत को ये  बिल्कुल भी बर्दाश्त नही है.

गौरतलब है कि भारत के 20 जवान  लद्दाख की गलवान घाटी में 15 जून को चीन और भारत के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प के दौरान शहीद हो गए थे. चीन को भी इसमें काफी नुकसान हुआ था. हालांकि चीन के कितने सैनिक मारे गए, इसपर चीन का कोई आधिकारिक बयान नही आया है और न ही कोई सटीक खुलासा सामने आया है तथा इसपर कोई टिप्पणी नही की जा सकती. इस घटना के बाद से दोनों देशों में तनाव चरम पर पहुंच गया था. बातचीत के जरिए तनाव को कम करने की कोशिश की गई जिसके परिणामस्वरूप विवादित क्षेत्रों से पीछे हटने पर सहमति बनी है और भी कई छेत्रों में बननी बाकी है.

पर गौर करने वाली बात ये है कि भारत कब तक चीन को रोक पाएगा? और विश्व के दूसरे देश कब तक चीन पे दबाव बना पायेंगे? क्या चीन अब दुबारा कभी भारत की जमीन पर घूसपैठ करने की कोशिश नही करेगा? क्या चीन की सेना के पीछे हटने का कारण आने वाली शरद ऋतु है? क्योंकि शरद ऋतु में भारत की सेना उस छेत्र मे काफी ताक़तवर मानी जाती है! क्या शरद ऋतु के बीत जाने के बाद चीन की सेना वापस नही आएगी? सवाल कई है! जिसके जवाब का इंतेज़ार बेसब्री से पूरी दुनिया कर रही है.
 


जानिए 2020 में कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************

बॉलीवुड      कारोबार      दुनिया      खेल      इन्फो     राशिफल     मोबाइल

************************************************************************************


पलपलइंडिया का ऐनडरोएड मोबाइल एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे.

खबरे पढने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने, ट्विटर और गूगल+ पर फालो भी कर सकते है.



अन्य जानकारियां :

सुरुचि: इस पेज पर कुकिंग और रेसेपी के बारे में रोज़ जानिए कुछ नया

तनमन: इस पेज पर जाने सेहतमंद रहने के तरीके और जानकारियां

शैली: यह पेज देगा स्टाइल और ब्यूटीटिप्स सहित लाइफस्टाइल को नया टच

मंगलपरिणय: इस पेज पर मिलेगी विवाह से जुड़ी हर वो जानकारी जिसे आप जानना चाहेंगी

आधी दुनिया: यह पेज साझा करता है महिलाओं की जिन्दगी के हर छुए-अनछुए पहलुओं को

यात्रा: इस पेज पर जानें देश-विदेश के पर्यटन स्थलों को

वास्तुशास्त्र: यह पेज देगा खुशहाल जिन्दगी की बेहद आसान टिप्स