आजादी के पहले गुलामी एक मुसीबत थी, 15 अगस्त 1947 के बाद आजादी एक समस्या बन गई, बेबसी आज भी हम आजाद देष के गुलाम नागरिक है. व्यथा सत्ता बदली है व्यवस्था नहीं, स्वाधीन देश में रोटी-कपडा-मकान-सुरक्षा और दवाई-पढाई-कमाई पराधीन होने लगी. यह सब मोहलते, सोहलते और जरूरते कब अधीन होगी. इसी छटपटाहट में कहना पड रहा है हम कब होंगे आजाद! अगर ऐसा है तो यही दिन देखने के लिए हमने अंग्रेजी हुकुमत से छुटकारा पाया था. या खुली आजादी में जीने की तमन्ना लिए अपने लोग, अपना शासन की मीमांसा में स्वतंत्र भारत की अभिलाषा के निहितार्थ. लाजमी तौर पर स्वतंत्र आकांक्षा हरेक हिन्दुस्तानी का मैतक्य था. जो क्षण-भंगुर होते जा रही है क्योंकि स्वतंत्रता के पहले देष में देषभक्ति युक्त राष्ट्रीयता, राष्ट्रीय एकता दिखाई देती थी वह आज ओझल हो गई. 
 राष्ट्रीयता की पुरानी कल्पना आज गतकालिन हो चुकी है. परवान राष्ट्रधर्म औपचारिकता में राष्ट्रीय पर्व ध्वजारोहण और राष्ट्रगान तक सीमित रह गया है. मतलब, असली आजादी का मकसद खत्म! चाहे उसे पाने के वास्ते कुर्बानियों का अंबार लगा हो. प्रत्युत, अमर गाथा में हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि आजादी जितनी मेहनत से मिली है, उतनी मेहनत से सार-संभाल कर रखना ही हमारा द्रष्टव्य, नैतिक कर्तव्य और दायित्व है. मसलन हम खैरात में आजाद नहीं हुए है जो आसानी से गवां दे. अधिष्ठान स्वतंत्र आजादी की मांग चहुंओर सांगोपांग बनाए रखने की दरकार है. अभाव में हर मोड पर हम कब होंगे आजाद की गुंज सुनाई देगी. आकृष्ट गुलामी से आजादी अभिमान है जीयो और जीने दो सम्मान है यथावत् रखने की जद्दोजहद जारी है. 
हालातों के परिदृष्य फिरंगी लूट-खसोटकर राष्ट्र का जितना धन हर साल ले जा रहे थे, उससे कई गुना हम अपनी रक्षा पर खर्च रहे है. फिर भी शांति नहीं है, न सीमाओं पर, न देष के भीतर आखिर ऐसा कब तक? कल के जघन्य अपराधी, माफिये और हत्यारे आज सासंद व विधायक बने बैठे है. जिन्हें जेल में होना चाहिए, वे सरकारी सुरक्षा में है. देष मे लोकतंत्र है, जनता द्वारा, जनता का शासन, सब धोखा ही धोखा है. मतदाता सूचियां गलत, चुनावों में रूपया-माफिया-मीडिया के कारण लोकतंत्र एक हास्य नाटक बन गया है. वीभत्स, कब इस देश की भाषा हिंदी बनेगी? संसद और विधानसभाओं में हिंदी प्रचलित होगी? न्यायालयों में फैसले हिंदी में लिखे जायेंगे? 
देष में भ्रष्टाचार के मामलों की बाढ सी आई हुई है. नित नए घोटाले सामने आ रहे है. बडे-बडे राजनेता, अफसर और नौकरषाह भ्रष्टाचार में लिप्त है. उन्हें केवल सत्ता पाने या बने रहने की चिंता है. चुनाव के समय जुडे हाथों की विन्रमता, दिखावटी आत्मीयता, झूठे आष्वासन सब चुनाव जीतने के हथकण्डे है. बाद में तो ‘लोकसेवकों’ के दर्षन भी दुर्लभ हो जाते है. बेरोजगार गांवों से शहर की ओर पलायन करने मजबूर है. यदि गांवों में मूलभूत सडक, बिजली, पानी, षिक्षा, स्वास्थ, कौषलता और रोजगार की समुचित व्यवस्था हो तो लोग शहर की ओर मुंह नहीं करेंगे, पर हो उल्टा रहा है. शहरी व अन्य विकास के नाम पर किसानों की भूमि बेरहमी से अधिग्रहण हो रही है. प्रतिभूत  कृषि भूमि के निरंतर कम होने से अन्न का उत्पादन भी प्रभावित होने लगा. 
स्त्री उत्पीडन कम नहीं हुआ है. आज भी दहेज-प्रताडना के कारण बेटियां आत्महत्याएं कर रही है, अपराध बढ रहे है. लूट, हत्या अपहरण और बलात्कार के समाचारों से अखबार पटे पडे रहते है. भारतीय राजनीति के विकृत होते चेहरे और लोकतांत्रिक, नैतिक मूल्यों के विघटन से स्वतंत्रता का मूलाधार जनतंत्र में ‘जन ही हाषिए पर चला गया और स्वार्थ केंद्र में. बरबस देष की तरक्की की उम्मीद कैसे की जा सकती है! सोदेष्यता स्वतंत्रता की अक्षुण्णता हम कब होंगे आजाद का आलाप संवैधानिक  अधिकारों के जनाभिमुख होने से मुकम्मल होगा.  
 


Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।


आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. 20 फरवरी से बचत खाते से हफ्ते में 50000 रु निकाल सकेंगे, 13 मार्च से 'नो लिमिट': आरबीआई

2. सभी भारतीय हिंदू और हम सब एक हैं: मोहन भागवत

3. रिजर्व बैंक ने दरों में नहीं किया कोई बदलाव, रेपो रेट 6.25 पर कायम

4. भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में नगदी बहुत महत्‍वपूर्ण, नोटबंदी से होगा फायदा: पीएम मोदी

5. अपने दोस्तों से शादी-शुदा जिंदगी की परेशानियों को ना करें शेयर, मिल सकता है धोखा!

6. तमिलनाडु में राजनीतिक संकट जारी: शशिकला ने 131 विधायकों को अज्ञात जगह भेजा

7. भीमसेन जोशी को सुनना भारत की मिट्टी को समझना है

8. मोदी के कार्यों से जनता को कम अमीरों को ज्यादा फायदा : मायावती

9. माल्या को झटका, कर्नाटक हाईकोर्ट ने यूबीएचएल की परिसंपत्तियों को बेचने का दिया आदेश

10. मजदूरों को डिजिटल भुगतान से सम्बन्धित विधेयक लोकसभा में पारित

11. आतंकी मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने अमेरिका ने यूएन में दी अर्जी

12. जियो के फ्री ऑफर को लेकर सीसीआई पहुंचा एयरटेल

13. गर्भाशय निकालने वाले डॉक्टरों के गिरोह का पर्दाफाश, 2200 महिलाओं को बनाया शिकार

14. वेलेंटाइन डे पर लॉन्च होगी नई सिटी सेडान होंडा कार

15. उच्च के सूर्य ने दी बुलंदी, क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर को इसी दशा में मिला सम्मान

************************************************************************************

बॉलीवुड      कारोबार      दुनिया      खेल      इन्फो     राशिफल     मोबाइल

************************************************************************************


पलपलइंडिया का ऐनडरोएड मोबाइल एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे.

खबरे पढने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने, ट्विटर और गूगल+ पर फालो भी कर सकते है.



अन्य जानकारियां :

सुरुचि: इस पेज पर कुकिंग और रेसेपी के बारे में रोज़ जानिए कुछ नया

तनमन: इस पेज पर जाने सेहतमंद रहने के तरीके और जानकारियां

शैली: यह पेज देगा स्टाइल और ब्यूटीटिप्स सहित लाइफस्टाइल को नया टच

मंगलपरिणय: इस पेज पर मिलेगी विवाह से जुड़ी हर वो जानकारी जिसे आप जानना चाहेंगी

आधी दुनिया: यह पेज साझा करता है महिलाओं की जिन्दगी के हर छुए-अनछुए पहलुओं को

यात्रा: इस पेज पर जानें देश-विदेश के पर्यटन स्थलों को

वास्तुशास्त्र: यह पेज देगा खुशहाल जिन्दगी की बेहद आसान टिप्स