भारत जीवंत और विशालतम लोकतंत्र हैं. यह मात्र राजनीतिक दर्शन  ही नहीं है बल्कि जीवन का एक ढंग और आगे बढने के लिए लक्ष्य हैं. इसी गुंजायमान लोकतंत्र का त्रिनेत्र पत्रकारिता में अलौकित है. अभिभूत, प्रधानमंत्री ने हालहि में कहा कि आज समाचार पत्र सिर्फ खबर ही नहीं देते, वे सोच को गढते हैं और दुनिया के लिए खिडकी खोलते है. सही मायनों में पत्रकारिता समाज को बदलने का साधन और आम जनता की ताकत है. लिहाजा, जनषक्ति के आधार स्तंभ लोकतंत्र की मजबूती के वास्ते स्वतंत्र, निष्पक्ष और साहसिक पत्रकारिता आवष्यक ही नहीं अपितु बेहद जरूरी है. दृष्टिगत् मौजूदा हालातों पर गौर फरमा लेते है.  
गौरतलब, समाचार माध्यम दैनिक जीवन के अनिवार्य अंग होने के साथ समाज का वास्तविक थर्मामीटर भी हैं. जिसमें सामाजिक और लोकतांत्रिक वातावरण का तापमान परिलक्षित होता हैं. इन्हें दूरबीन कहा जाय तो अतिशयोक्ति नहीं होगी, क्योंकि वे भविष्य में होने वाली बहुत दूर-दूर की घटनाओं का आभास दे देते हैं. 
सेवा ही पत्रकारिता का लक्ष्य हैं, पत्रकारिता आदर्शो से प्रेरित हैं. इसे विद्धवानों ने अभिव्यक्त करते हुए कहा किः ‘ पत्रकारिता, काल धर्म की तीसरी आंख हैं.‘ ‘पत्रकारिता वैचारिक चेतना का उद्धेलन हैं.‘ ‘पत्रकारिता समाज की वाणी और मस्तिष्क हैं.‘ ‘पत्रकारिता लोकनायकत्व की सहज विधा हैं.‘ ‘सत्य के रस का स्रोत है’. पत्रकारिता पांचवां  वेद है जिसके द्वारा हम ज्ञान-विज्ञान संबंधी बातों को जानकर अपने बन्द मस्तिष्क को खोलते हैं. 
वर्तमान समय की पत्रकारिता में पत्रकारों पर स्वामित्व का सबसे बडा दबाव हैं. पत्रकारिता को चर्तुथ स्तम्भ के रूप में जाना जाता हैं दुर्भाग्यवष माना नहीं जाता? जिसमें संपादक की महत्वपूर्ण भूमिका होती हैं, पत्रकारिता को एक पवित्र उद्देश्य वाला व्यवसाय माना जाता हैं. परन्तु वर्तमान समय में संपादक की भूमिका घटी हैं, मालिक ही अब संपादक पद पर सुशोभित हो रहे हैं. अगर कोई संपादक नियुक्ति भी किया जाता है तो उसका प्रयोग सत्ता के दलाल के रूप में किया जा रहा हैं. आज अखबार के संचालक जो चाहते हैं वही जनता तक पहुॅंच पा रहा हैं. विज्ञापन या अर्थोंपार्जन सर्वाधिक महत्वपूर्ण हो गया हैं लोकतंत्र नहीं. 
सम्प्रति हजारों बेजान, नीरस हास्यास्पद और ऊबाऊ समाचार पत्रों, पोर्टलों और चैनलों  की ढेर लगी हैं. उनमें विज्ञापन के अतिरिक्त सभी सामग्री बासी ही होती हैं. मात्र इनके नाम ही लिखा जाए तो इसके लिए स्वतंत्र बृहद्काय ग्रंथ प्रकाशित  होगा. ऐसी स्थिती में भी कुछ इने-गिने सामाचार पत्र हैं जो विश्व गतिविधियों तथा लोकतांत्रिक ताने-बाने से संम्बद्ध होकर कंठहार बने हुए हैं.
बहरहाल, जनतांत्रिक पत्रकारिता शासक को झकझोर, नाराज और बैचेन करती है. बावजूद पत्रकारों का एक वर्ग संत्रस्त हैं. कहीं-कहीं पत्रकारों की हैसियत बंधुआ मजदूरों की तरह है, वे किसी की कठपुतली हैं. मालिकों के नुकसान की चिंता तथा अन्ध विश्वासी में जनता की अनुरक्ति के कारण पत्रकारों की स्वतंत्रता बाधित होती हैं. वीभत्स “जागते रहो“ का मंत्रदाता आज स्वयं किंकर्त्तव्यविमूढ है कि अपनी ही बिरादरी के बहुरूपिये गिरोह से कैसे निपटा जाये? 
 भेडचाल वाहनो के आगे ‘प्रेस‘ की तख्तियॉ लटकाए यह वर्ग पत्रकारोचित सुविधाओं का लाभ उठा रहा हैं. प्रसारण और प्रकाशन उनके लिए सत्ता पाने का माध्यम हैं. “जो हमसे टकरायेगा, खबर नहीं बन पायेगा“ की धारणा वाली पत्रकारिता अपनी महत्वाकांक्षा में हॉफती, हिनहिनाती, गाज फेंकती अपने लक्ष्य की ओर निरंतर आगे जा रही हैं. ऐसी स्थिति में लोकपाल प्रेस परिषद् द्वारा खबरों के तोडने, मरोडने, दबाने, गढने और उछालने पर अंकुश लगाना उपयुक्त हैं. ध्यान रहें! पत्रकारिता एक पावन अनुष्ठान है जिसमें प्रजातंत्र के प्रति  शुभेच्छु सहृदय की भूमिका ही वरेण्य होती हैं अनुपालन पत्रकारिता गौरव दीप्त होकर कालधर्म की तीसरी आंख कें रूप में लोकनायक की जिम्मेदारी बखूबी निभाएंगी.  
                                        


जानिए 2016 में कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में

1. असम में पुलिस फायरिंग के चलते टूटा हाई वॉल्टेज तार, 11 लोगों की मौत, 20 घायल

2. केंद्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी, जांच में मैगी सफल: नेस्ले इंडिया

3. गैर-चांदी आभूषणों पर उत्पाद शुल्क को लेकर जेटली अडिग

4. शंकराचार्य का विवादित बोल- साई पूजा की देन है महाराष्ट्र का सूखा

5. कन्हैया और उमर खालिद समेत 5 छात्र हो सकते है JNU से सस्पेंड

6. करोड़ों लोगों ने देखा प्यार का ये इजहार, आप भी जरूर देखिए

7. महाराष्ट्रः बार-बालाओं पर पैसे लुटाने या उन्हें छूने पर होगी सजा

8. नितिन गडकरी की पीएम मोदी को सलाह, गजलें सुनें, टेंशन फ्री रहें

9. कोल्लम हादसा-मंदिर के पास मिली विस्फोटकों से भरी तीन गाड़ि‍यां

10. शत्रु ने की नीतीश जमकर तारिफ, कहा- 2019 में PM पद के दावेदार

11. पाक अदालत में सबूत के तौर पर पेश हुआ ग्रेनेड फटा, 3 घायल

12. असम-बंगाल में हुई बंपर वोटिंग, CM गोगाई के खिलाफ केस दर्ज


************************************************************************************

बॉलीवुड      कारोबार      दुनिया      खेल      इन्फो     राशिफल     मोबाइल

************************************************************************************


पलपलइंडिया का ऐनडरोएड मोबाइल एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे.

खबरे पढने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने, ट्विटर और गूगल+ पर फालो भी कर सकते है.



अन्य जानकारियां :

सुरुचि: इस पेज पर कुकिंग और रेसेपी के बारे में रोज़ जानिए कुछ नया

तनमन: इस पेज पर जाने सेहतमंद रहने के तरीके और जानकारियां

शैली: यह पेज देगा स्टाइल और ब्यूटीटिप्स सहित लाइफस्टाइल को नया टच

मंगलपरिणय: इस पेज पर मिलेगी विवाह से जुड़ी हर वो जानकारी जिसे आप जानना चाहेंगी

आधी दुनिया: यह पेज साझा करता है महिलाओं की जिन्दगी के हर छुए-अनछुए पहलुओं को

यात्रा: इस पेज पर जानें देश-विदेश के पर्यटन स्थलों को

वास्तुशास्त्र: यह पेज देगा खुशहाल जिन्दगी की बेहद आसान टिप्स