गुजरात और हिमाचल प्रदेश के विधान सभा चुनाव में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी की प्रचार शैली से देश के मशहूर  व्यंग्य लेखकों में हरिशंकर परसाई की  वैष्णव की फिसलन और श्रीलाल शुक्ल की  राग दरबारी जैसी कृतियों के कई किरदार हमारे सामने थिरक रहे हैं .वैष्णव की फिसलन और राग दरबारी देश मे भ्रष्टाचार के खिलाफ  अनुपम कृतियाँ  है.जिसे राहुल गाँधी जैसे सभी राजनेताओ को पढने की जरुरत है.
एक बड़ी पुरानी कहावत है-सौ चूहे खाकर.बिल्ली चली हज को.आज वो बहुचर्चित कहावत भाजपा पर कम कांग्रेस पर ज्यादा फिट बैठ रही  है .पता नहीं देश की एकमात्र बड़ी कही जाने वाली विपक्षी दल कांग्रेस बार बार अपनी गलतियाँ क्यों दोहरा रही है.गलत तथ्यों और आंकड़ों से आम जन को बहकाने और बरगलाने का काम क्यों कर रही हैं.इन सब मसलों पर ऐतिहासिक और जिम्मेदार कही जाने वाली कांग्रेस पार्टी को समग्र राष्ट्र हित में चिंतन एवं मनन करने की जरुरत है.
वैसे तो ऐतिहासिक तौर पर भारत के कुछ विकास के पन्नों  को अलग कर दिया जाए तो कांग्रेस ने समाज में एकजुटता कम अलगाववाद ज्यादा पैदा किया है.यदि हम समग्र दृष्टिकोण से चिंतन करे तो देश में गरीबी ,भूखमरी,बेरोजगारी,आतंकवाद ,नक्सलवाद और सबसे बढ़कर भ्रष्टाचार जैसी विकराल समस्याएं पिछले तीन वर्षों में तो नहीं पनपी या पैदा हुई. 
कांग्रेस और सत्ता लगभग एक दुसरे के पर्याय बन चुके थे.आज भी हैं.जो उनकी छटपटाहट कई प्रकरणों से देखी और समझी जा सकती है.कोई माने या न माने,परन्तु ये सच है.
इसी छटपटाहट,तडप,बिछोह के  दर्द को राहुल गाँधी गुजरात और हिमाचल प्रदेश के चुनाव प्रचार यात्रा में दिखा रहे है ,उनमे कुछ बाल सुलभ आचरण भी दिखायी दे रहे हैं.हालांकि पिछले दिनों अमेरिका में भी अपने भाषण और सम्वाद में भारत की काफी किरकिरी करवाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी.ये हम भारतवासियों के लिये तनाव उत्पन्न करती हैं.यदि मान भी लिया जाये कि उनकी प्रतिद्वंदी पार्टी ने कोई ऐसी गलती कर दी,तो क्या आप उसके लिए देश की ऐसी तैसी करवा देंगे,वो भी विदेश की धरती पर..ये शान नहीं किसी भी भारतीय के लिए शर्म की बात है.
इसी क्रम में आजकल सोशल मीडिया पर देश की अति प्राचीन कही जाने वाली पार्टी कांग्रेस के राजकुमार और होने वाले राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी का अति उत्साही वीडियो क्लिप भी  छाया हुआ है .वो वीडियो भाजपा के साथ साथ मीडिया पर राहुल द्वारा किया गया  सीधा प्रहार है.राहुल अति उत्साह में दिख रहे हैं ,जबकि उनकी पार्टी के अन्य नेताओं  की बोलती बंद दिख रही है.
उस वीडियो क्लिप्स में राहुल गाँधी से गुजरात में टी वी का एक पत्रकार भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के पुत्र जय शाह के तथाकथित कम्पनी घोटाले के बारे में एक सवाल पूछता है.राहुल बाल सुलभ मुद्रा में उसी पत्रकार से सवाल करते है.माइक को आगे करके .अमित शाह के पुत्र का नाम और काम भी पूछते हैं.फिर भीड़ में हंसी की गूँज सुनाई पड़ती है और राहुल गाँधी वहां से चल देते हैं.सबको निरुत्तर करके ,चेहरे पर विजयी मुस्कान लिए..
मैंने भी वो वीडियो क्लिप्स देखा.सोचा.उस पर राहुल बाबा पर कम उनके सलाहकारों के ज्ञान पर थोडा तरस आया. .उस वीडियो क्लिप में राहुल गाँधी की सम्वाद शैली,उनमे तथाकथित अति आत्म विश्वास के साथ अपनी पत्रकारिता बिरादरी में जानकारी के अभाव भी चिंता और चिंतन का मसला है.
कहते हैं जब आप खुद शीशे के घर में रहते हो,तो दूसरों के घरों पर पत्थर नहीं फेंकना चाहिए.लेकिन राहुल गाँधी को कौन समझाये.देश को पता है कि उनके बहनोई श्री राबर्ट वाड्रा पर कई प्रकार के घपलों के मामले विचाराधीन है .जो की अमित शाह के पुत्र मामले से कई गुना बड़ा है.वो मामला भाजपा सरकार द्वारा नहीं उठाया गया.वो तो भाजपा सरकार आने के पहले से चल रहा था.
बताया जाता है कि राबर्ट  वाड्रा से सम्बन्धित कई प्रकार के तथाकथित घोटाले का मामला कांग्रेस सरकार और संगठन का अंदरूनी कलह का परिणाम था. कांग्रेस के अंदरूनी जानकारों की माने तो वह “राबर्ट कांड” देश की उभरती नेता और नए होने वाले पार्टी अध्यक्ष राहुल गाँधी की एकमात्र बहन प्रियंका गाँधी वाड्रा को राजनीति में रोकने के लिए उजागर किया गया था.जो आज स्वयं कांग्रेस के गले की फांस बन चूका है. इस पर राहुल गाँधी द्वारा  भाजपा के खिलाफ भ्रष्टाचार पर उठाया गया सवाल उचित नहीं प्रतीत होता है .पर उन्हें कौन समझाये,कांग्रेस पार्टी के भावी अध्यक्ष जो ठहरे.उनकी पार्टी में वफादारी और चापलूसी ही सब कुछ है.कांग्रेस के राष्ट्र हित पार्टी हित बताया जाता है.
आज के समग्र माहौल को देखा जाये तो लगता है कि देश में भ्रष्टाचार एक ऐसी नियति बन गयी है ,जिससे कोई भी दल अछूता नहीं.उससे बचने के लिए करीब  40 वर्षों से ज्यादा लंबित चुनाव सुधार विधेयक को  सर्वानुमति से संसद में पारित करवाना बहुत जरुरी है .देश के सभी दल चंदे और खाता बही के मामले में आम जनता से बहुत दूर है.सभी दल एक स्वर में स्वयं को सूचना के अधिकार विधेयक से अलग करवा रखा है.ये एक विचित्र तथ्य है ,लेकिन बिलकुल सत्य.
देश में भ्रष्टाचार निर्मूलन और चुनाव सुधार के मसले पर पूर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी से जुड़ा एक संस्मरण याद आता है.बात 1995 के आम चुनाव  की है.जैन हवाला कांड की चर्चा जोरों पर थी.जैन हवाला डायरी कांड में कोई  दल अछूता नहीं रहा था .पर अटल जी का नाम नहीं था,हाँ श्री आडवाणी जी का भी नाम आ गया था.हालाँकि बाद में श्री आडवाणी जी वो केस जीत गए थे .
उस समय यह लेखक जैन हवाला कांड के बारे में अटल जी से उनकी प्रतिक्रिया के लिए उनसे 6,रायसीना रोड स्थित आवास पर मिलने गया था.प्रतिक्रिया स्वरुप वह कुछ देर के लिए शुन्यवास्था में चले गए थे.फिर कहा –ये तो देश की नियति है और मेरा सौभाग्य है.मेरी किस्मत अच्छी थी कि कोई जैन मेरे जीप में कुछ रुपयों का पैकेट नहीं रख दिया.चिंतित मुद्रा में अटल जी ने कहा कि यदि कोई रख देता और मेरा नाम ले लेता,तो अटल,अटल नहीं रहता .फिर वह अपनी चिर परिचित मुद्रा में आकर तैश में आकर कहते है– देश हित में चुनाव सुधार विधेयक को पारित किये जाने की जरुरत है .ये होना चाहिए ,जरुर होना चाहिये.
आज के परिपेक्ष्य में देखा जाये तो देश बदल रहा है या मचल रहा है.ये चिंता और चिन्तन की बात है.देश पिछले 70 वर्षों में कुछ बढ़ा या नहीं.ये शोध की बात है.यदि बढ़ा तो किस कीमत पर.ये भी शोध की बात है.साथ ही ये भी सतत और समग्र चिंतन के लिए अहम् तथ्य है कि भारत जैसे देश में भ्रष्टाचार अब मुद्दा है या नहीं है.इस मसले पर हम सबको एक बार समुद्र  मंथन करने की जरुरत है .
ये बात दीगर है देश में सरकार का गठन मतदाता के विचारों से होता है .पर ये भी चिंता को बात है मतदाता और मतदान का प्रतिशत  का औसत क्या रहता है.जिसके लिए देश में एक बार फिर नव जागरण की आवश्यकता महसूस की जा रही है.शायद देश में जल्द ही एक नयी राजनीतिक धारा का जन्म हो ,जिससे अपने देश को एक नया आयाम मिल सके ,एक नैतिकता पूर्ण भारत का.ये सोच है समग्र भारत की ....
 


जानिए 2016 में कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में

1. असम में पुलिस फायरिंग के चलते टूटा हाई वॉल्टेज तार, 11 लोगों की मौत, 20 घायल

2. केंद्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी, जांच में मैगी सफल: नेस्ले इंडिया

3. गैर-चांदी आभूषणों पर उत्पाद शुल्क को लेकर जेटली अडिग

4. शंकराचार्य का विवादित बोल- साई पूजा की देन है महाराष्ट्र का सूखा

5. कन्हैया और उमर खालिद समेत 5 छात्र हो सकते है JNU से सस्पेंड

6. करोड़ों लोगों ने देखा प्यार का ये इजहार, आप भी जरूर देखिए

7. महाराष्ट्रः बार-बालाओं पर पैसे लुटाने या उन्हें छूने पर होगी सजा

8. नितिन गडकरी की पीएम मोदी को सलाह, गजलें सुनें, टेंशन फ्री रहें

9. कोल्लम हादसा-मंदिर के पास मिली विस्फोटकों से भरी तीन गाड़ि‍यां

10. शत्रु ने की नीतीश जमकर तारिफ, कहा- 2019 में PM पद के दावेदार

11. पाक अदालत में सबूत के तौर पर पेश हुआ ग्रेनेड फटा, 3 घायल

12. असम-बंगाल में हुई बंपर वोटिंग, CM गोगाई के खिलाफ केस दर्ज


************************************************************************************

बॉलीवुड      कारोबार      दुनिया      खेल      इन्फो     राशिफल     मोबाइल

************************************************************************************


पलपलइंडिया का ऐनडरोएड मोबाइल एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे.

खबरे पढने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने, ट्विटर और गूगल+ पर फालो भी कर सकते है.



अन्य जानकारियां :

सुरुचि: इस पेज पर कुकिंग और रेसेपी के बारे में रोज़ जानिए कुछ नया

तनमन: इस पेज पर जाने सेहतमंद रहने के तरीके और जानकारियां

शैली: यह पेज देगा स्टाइल और ब्यूटीटिप्स सहित लाइफस्टाइल को नया टच

मंगलपरिणय: इस पेज पर मिलेगी विवाह से जुड़ी हर वो जानकारी जिसे आप जानना चाहेंगी

आधी दुनिया: यह पेज साझा करता है महिलाओं की जिन्दगी के हर छुए-अनछुए पहलुओं को

यात्रा: इस पेज पर जानें देश-विदेश के पर्यटन स्थलों को

वास्तुशास्त्र: यह पेज देगा खुशहाल जिन्दगी की बेहद आसान टिप्स