30 जून 2017  भारतीय इतिहास में 8 नवंबर के बाद एक और ऐतिहासिक तारीख़.यहाँ 8 नवंबर का जिक्र इसलिए किया गया है क्योंकि नोटबंदी काले धन पर प्रहार करने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम था  ( वह कदम कितना सफल हुआ यह एक अलग विषय है)जीएसटी को उसी लक्ष्य को हासिल करने हेतु अगला कदम समझा जा सकता है.क्योंकि नोटबंदी के बाद सरकार के पास सबसे बड़ी चुनौती काले धन को दोबारा नहीं पनपने देने की है.
इस बात को समझने के लिए पहले यह समझना होगा कि काला धन बनता कैसे है.तो काला धन दो तरह का होता है एक वो जो भ्रष्टाचार के द्वारा सरकारी अधिकारियों द्वारा रिश्वत के रूप में लिया जाता है और दूसरा वो जो सरकार को कर न देकर बचाया जाता है.
अधिकारियों द्वारा जो रिश्वत ली जाती है उस काले धन से आम आदमी पिसता है उसकी मेहनत की कमाई किसी और के लिए अय्याशी करने का साधन बनती है और सरकार पर से आम आदमी का  विश्वास धीरे धीरे उठने लगता है.
जबकि कर बचाकर जो काला धन बनाया जाता है उससे सरकार को राजस्व की हानि होती है.क्या यह आश्चर्य जनक नहीं है कि वह देश जिसकी आबादी सवा करोड़ है उसमें कर देने वालों की संख्या मात्र 1.5% है  ?
कुल मिलाकर इन परिस्थितियों में नुकसान देश का  ही है.
तो भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का  जीएसटी रूपी यह कदम उस काले धन पर लगाम लगाने की कोशिश कहा जा सकता है  जो  कर चोरी द्वारा पनपता है.
जीएसटी,दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र की  कर प्रणाली में आजादी के बाद अब तक का सबसे बड़ा परिवर्तन,
वो परिवर्तन जो अपने साथ भारतीय अर्थव्यवस्था में व्यापक बदलाव लाने की क्षमता रखता है
वो बदलाव जो अपने साथ कर व्यवस्था में सुधार लेकर आ रहा है. वो व्यवस्था जो पारदर्शी  है.वो पारदर्शिता जिसके परिणामस्वरूप एक वस्तु की कीमत पूरे भारत में एक समान ही होगी.वो समानता जिससे भारत देश में व्यापार करने की प्रक्रिया  सरल हो जाएगी
तो इस सरलता के बाद भी जीएसटी का देश भर में विरोध क्यों?विपक्ष का विरोध करना स्वाभाविक है लेकिन देश के व्यापारी?क्या अधूरा ज्ञान ? या फिर दुष्प्रचार ?
तो आइए विरोध या समर्थन से पहले कुछ महत्वपूर्ण बिन्दुओं को समझ लें.कर दो प्रकार के होते हैं एक प्रत्यक्ष और दूसरे अप्रत्यक्ष.प्रत्यक्ष कर वो जो हम सरकार को सीधे तौर पर देते हैं जैसे आयकर, सम्पत्ति कर आदि.
अप्रत्यक्ष कर वो जो व्यापारी या फिर सर्विस प्रोवाइडर अपने ग्राहक से लेकर सरकार को देता है.
सर्वप्रथम समझने वाली बात यह है कि जीएसटी के दायरे में केवल अप्रत्यक्ष कर आ रहे हैं प्रत्यक्ष कर यथावत् ही हैं.
अब जो अप्रत्यक्ष कर हैं वो अभी तक ग्राहक से तो ले लिए जाते थे लेकिन सरकार के खाते में पहुँच नहीं पाते थे.
बात केवल इतनी भी नहीं है दरअसल भारतीय कर प्रणाली जो अभी तक चल रही थी उसमें जटिलताएं भी बहुत थीं.
अभी तक भारतीय संविधान के अनुसार वस्तुओं की बिक्री पर राज्य सरकार कर लेती थीं और वस्तुओं के उत्पादन व सेवाओं पर केन्द्र सरकार.
किसी सामान के निर्माण के साथ ही सर्वप्रथम उस पर एक्साइज ड्यूटी और किसी किसी मामले में एडीशनल एक्साइज ड्यूटी भी लगती थी.इसके बाद लगता था सर्विस टैक्स. यदि माल एक राज्य से दूसरे राज्य में जाता है तो देना होता था एन्ट्री टैक्स.इसके बाद उस पर लगता था उस राज्य का वैट यानी सेल्स टैक्स.और अगर उस सामान का नाता  मनोरंजन से है तो मनोरंजन अथवा लग्जरी टैक्स लगता था.
टैक्स का यह सिलसिला काफी लम्बा था, कुल मिलाकर अलग अलग लगभग 18 टैक्स लगते थे.
और सबसे महत्वपूर्ण पहलू यह कि भारत का उपभोक्ता एक आम आदमी इन परिस्थितियों में टैक्स पर टैक्स देने को विवश था बावजूद इसके सरकारी खजाना खाली रहता था और काले धन से व्यापारियों की तिजोरियाँ भरी.
लेकिन जीएसटी के लागू हो जाने से न सिर्फ इतने अलग अलग प्रकार के टैक्सों से छुटकारा मिलेगा बल्कि चूंकि टैक्स भरने की प्रक्रिया कम्प्यूटर पर होने के कारण टैक्स जमा करने के लिए सरकारी कार्यालयों के चक्कर काटने से भी आजादी मिलेगी.
अगर इसके तकनीकी पहलू पर बात करें तो 20 लाख के टर्नओवर वाले व्यापारियों को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया है जबकि 75 लाख के टर्नओवर वाले व्यापारियों को कम्पोसिट स्कीम के अन्तर्गत केवल 1% टैक्स चुकाना है. यहाँ यह जानकारी विशेष महत्व रखती है कि भारत में लगभग 68% व्यापारी इन्हीं दो श्रेणियों में आते हैं .तो कुल मिलाकर इतना तो तय है कि जीएसटी भारतीय अर्थव्यवस्था में न सिर्फ खुद एक बुनियादी बदलाव है बल्कि सरकार द्वारा राजस्व प्राप्ती में भी ठोस बदलाव लाने वाला एक महत्वपूर्ण कदम सिद्ध होगा.
काले धन के एक प्रकार पर सरकार के जीएसटी रूपी वार के बाद देश को इंतजार रहेगा भ्रष्टाचार रूपी काले धन पर लगाम का.
क्योंकि सरकार होती तो जनता के लिए है लेकिन जब तक उसे चलाने वाले नेता और अधिकारियों के भ्रष्ट आचरण को रोकने में वह नाकाम रहेगी नोटबंदी और जीएसटी जैसे कदम भी अपना मकसद हल करने में नाकाम ही सिद्ध होंगे.

 


Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।


आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. 20 फरवरी से बचत खाते से हफ्ते में 50000 रु निकाल सकेंगे, 13 मार्च से 'नो लिमिट': आरबीआई

2. सभी भारतीय हिंदू और हम सब एक हैं: मोहन भागवत

3. रिजर्व बैंक ने दरों में नहीं किया कोई बदलाव, रेपो रेट 6.25 पर कायम

4. भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में नगदी बहुत महत्‍वपूर्ण, नोटबंदी से होगा फायदा: पीएम मोदी

5. अपने दोस्तों से शादी-शुदा जिंदगी की परेशानियों को ना करें शेयर, मिल सकता है धोखा!

6. तमिलनाडु में राजनीतिक संकट जारी: शशिकला ने 131 विधायकों को अज्ञात जगह भेजा

7. भीमसेन जोशी को सुनना भारत की मिट्टी को समझना है

8. मोदी के कार्यों से जनता को कम अमीरों को ज्यादा फायदा : मायावती

9. माल्या को झटका, कर्नाटक हाईकोर्ट ने यूबीएचएल की परिसंपत्तियों को बेचने का दिया आदेश

10. मजदूरों को डिजिटल भुगतान से सम्बन्धित विधेयक लोकसभा में पारित

11. आतंकी मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने अमेरिका ने यूएन में दी अर्जी

12. जियो के फ्री ऑफर को लेकर सीसीआई पहुंचा एयरटेल

13. गर्भाशय निकालने वाले डॉक्टरों के गिरोह का पर्दाफाश, 2200 महिलाओं को बनाया शिकार

14. वेलेंटाइन डे पर लॉन्च होगी नई सिटी सेडान होंडा कार

15. उच्च के सूर्य ने दी बुलंदी, क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर को इसी दशा में मिला सम्मान

************************************************************************************

बॉलीवुड      कारोबार      दुनिया      खेल      इन्फो     राशिफल     मोबाइल

************************************************************************************


पलपलइंडिया का ऐनडरोएड मोबाइल एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे.

खबरे पढने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने, ट्विटर और गूगल+ पर फालो भी कर सकते है.



अन्य जानकारियां :

सुरुचि: इस पेज पर कुकिंग और रेसेपी के बारे में रोज़ जानिए कुछ नया

तनमन: इस पेज पर जाने सेहतमंद रहने के तरीके और जानकारियां

शैली: यह पेज देगा स्टाइल और ब्यूटीटिप्स सहित लाइफस्टाइल को नया टच

मंगलपरिणय: इस पेज पर मिलेगी विवाह से जुड़ी हर वो जानकारी जिसे आप जानना चाहेंगी

आधी दुनिया: यह पेज साझा करता है महिलाओं की जिन्दगी के हर छुए-अनछुए पहलुओं को

यात्रा: इस पेज पर जानें देश-विदेश के पर्यटन स्थलों को

वास्तुशास्त्र: यह पेज देगा खुशहाल जिन्दगी की बेहद आसान टिप्स