देश में प्री-इलैक्शन जैसा माहौल बनता जा रहा है क्योंकि केन्द्र की भाजपा सरकार का तकरीबन दो तिहाई समय गुजरने को है और केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार का रिजल्ट आने को हैं! 

केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार ने नोटबंदी, जीएसटी जैसे अनेक बड़े बदलाव किए हैं और अब तक के चुनावी नतीजे बताते हैं कि जनता ने इन्हें स्वीकार भी किया है, लेकिन... अब कोई बड़े बदलाव का जोखम उठाना केन्द्र सरकार के लिए चुनौती बन सकता है! 

भाजपा सरकार की उपलब्धियां सार्वजनिक और देशहित में हैं लेकिन... बेरोजगारी, महंगाई जैसे जनता के व्यक्तिगत हित के मोर्चे पर कोई खास उपलब्धि हांसिल नहीं कर पाई है इसलिए आनेवाले चुनाव कांग्रेस के साथ-साथ भाजपा के लिए भी कम चुनौतीपूर्ण नहीं है! 

भाजपा की अदृश्य और अप्रत्यक्ष उपलब्धियों को जनता कितना महसूस कर पाती है? कितना महत्व देती है? इसी पर निर्भर है... अगला लोकसभा चुनाव!

देश की जनता कांग्रेस के विकास को तो मानती है, लेकिन जब तक कांग्रेस भ्रमित और भ्रष्टतत्वों का साथ नहीं छोड़ती है तब तक उसे कामयाबी हांसिल करने में बड़ी दिक्कत आएगी! कांग्रेस का नेटवर्क सारे देश में हैं इसलिए महागठबंधन के लिए भी कांग्रेस को ऐसे ही दलों को साथ लेना होगा जिनके नेताओं की छवि दागदार नहीं है जैसे बिहार में शरद यादव का साथ तो ठीक है, लेकिन लालू प्रसाद को महत्व देना कांग्रेस को भारी पड़ सकता है!

कांग्रेस में भी कईं भ्रष्ट तत्व हैं, इसलिए... कांग्रेस को ऐसे तत्वों से मुक्ति पानी होगी. यही नहीं, कांग्रेस में ऐसे नेताओं की भी कमी नहीं है जो समय-असमय विवादास्पद और बेतुके बयान देते रहते हैं... ऐसे नेताओं पर नियंत्रण जरूरी है! 

हालांकि तीन राज्यों में केवल चार विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनावों के परिणामों को आमराय के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए किन्तु यह आमजन की सोच में आ रहे बदलाव को तो दर्शाते ही हैं! 

इन उपचुनावों में जहां भाजपा ने गोवा की दोनों विधानसभा सीटों पर जीत प्राप्त की, वहीं आप... आम आदमी पार्टी ने दिल्ली की बवाना सीट पर अपना कब्जा बनाए रखा. आंध्र प्रदेश की नांदयाल सीट तेलुगु देशम पार्टी को मिली. इस नजरिए से देखें तो कांग्रेस हर जगह घाटे में रही लेकिन दिल्ली में उसका मत-प्रतिशत बढऩा इस ओर इशारा करता है कि यहां अब कोई भी चुनाव त्रिकोणीय ही होगा... दिल्ली में कांग्रेस मजबूत होती जा रही है! 

उधर, गोवा की जिस पणजी सीट से मुख्यमंत्री मनोहर पर्रीकर जीते है, वह भाजपा के ही विधायक सिद्धार्थ कुनकालीनेकर के त्यागपत्र के बाद खाली हुई थी... गोवा का मुख्यमंत्री बनने के बाद पर्रीकर को विधानसभा चुनाव लडऩा जरूरी था लिहाजा वे लड़े और जीते... वैसे भी उनकी जीत बहुत बड़ी उपलब्धि नहीं है, हार जाते तो जरूर करिश्मा हो जाता! गोवा में दूसरी सीट वालपेई पर भाजपा प्रत्याशी विश्वजीत राणे ने जीत दर्ज की, जिन्होंने इसी वर्ष की शुरूआत में कांग्रेस के टिकट पर विधानसभा चुनाव जीता था! 

उधर, बवाना में पिछले विधानसभा चुनाव में आप के टिकट पर जीते वेद प्रकाश त्यागपत्र देकर भाजपा में शामिल हो गए थे, किन्तु उपचुनाव नहीं जीत पाए... इस सीट पर आप उम्मीदवार रामचंद्र ने भारी अंतर से भाजपा उम्मीदवार के रूप में वेद प्रकाश को हराया! नांदयाल विधानसभा सीट पर टीडीपी का कब्जा था, किन्तु भुमा नागिरेड्डी के निधन के बाद हुए उपचुनाव में पार्टी के लिए यह सीट चुनौती बन गई थी, हालांकि भुमा ब्रह्मानंद रेड्डी चुनाव जीत गए. इन चुनावों ने सबसे ज्यादा ऑक्सीजन आम आदमी पार्टी को दी है... पंजाब, गोवा और दिल्ली चुनावों के बाद लगभग बेजान हो गई आप की बोलती बंद हो गई थी, लेकिन आप के उपचुनाव जीतने से आप के फिर से खड़े होने के आसार बने हैं! 

पंजाब, गोवा, दिल्ली के चुनाव हारने के बाद आप भ्रष्टाचार के आरोपों के घेरे में भी आ गई थी, लेकिन आप यह सीट बचाने में कामयाब रही, मतलब... अभी दिल्ली में आप के लिए उम्मीदें बाकी हैं! लेकिन... दिल्ली नगर निगम के चुनाव में जीत का परचम लहरानेवाली भाजपा यहां जीत के प्रति आश्वस्त थी किन्तु चुनाव परिणाम ने बता दिया कि दिल्ली अब भी भाजपा के लिए आसान नहीं है! 

इन चुनावों ने यह भी साफ कर दिया कि कांग्रेस अब उतनी कमजोर नहीं रही कि चुनाव में उसकी मौजूदगी को नजरंदाज किया जा सके!

आप का जनाधार दिल्ली में है और शेष भारत में आप हवाहवाई हालत में है, इसलिए... यदि आप दिल्ली पर केन्द्रीत होती है तो उसके लिए अपनी राजनीतिक हैसियत बचाना संभव है किन्तु राष्ट्रीय राजनीतिक दंगल में उतर जाती है तो उसकी राजनीतिक झौली खाली हो जाएगी!

इन चुनावों के बाद यह भी साफ हो गया है कि जनता केवल काम चाहती है, राजनीतिक चतुराई वह ठीक से समझती है... चाहे यह राजनीतिक चतुराई आप की हो या फिर भाजपा की, लिहाजा... केवल बातों से जनता को लंबे समय तक बहलाया नहीं जा सकता है!

बेरोजगारी और महंगाई जहां भाजपा के लिए सवालिया निशान हैं वहीं दिल्लीवासियों को दिखाए सपने साकार करना आप के लिए चुनौती है... भाजपा और आप जैसे अन्य दलों से लोग निराश हुए तो कांग्रेस की स्थिति मजबूत होती जाएगी! 

ताजा उपचुनावों ने यह तो स्पष्ट कर ही दिया है कि राजनीतिक भावनात्मक लहर अब लगभग समाप्त हो चुकी है... किसी नेता/दल विशेष के समर्थन या विरोध के प्रति जनता में कोई खास उत्साह नहीं बचा है... जनता की इस राजनीतिक उदासीनता का तो यही संकेत है कि... लोकसभा चुनाव से पहले का यह समय सभी दलों के लिए आत्ममंथन का समय है!


Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।


आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. 20 फरवरी से बचत खाते से हफ्ते में 50000 रु निकाल सकेंगे, 13 मार्च से 'नो लिमिट': आरबीआई

2. सभी भारतीय हिंदू और हम सब एक हैं: मोहन भागवत

3. रिजर्व बैंक ने दरों में नहीं किया कोई बदलाव, रेपो रेट 6.25 पर कायम

4. भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में नगदी बहुत महत्‍वपूर्ण, नोटबंदी से होगा फायदा: पीएम मोदी

5. अपने दोस्तों से शादी-शुदा जिंदगी की परेशानियों को ना करें शेयर, मिल सकता है धोखा!

6. तमिलनाडु में राजनीतिक संकट जारी: शशिकला ने 131 विधायकों को अज्ञात जगह भेजा

7. भीमसेन जोशी को सुनना भारत की मिट्टी को समझना है

8. मोदी के कार्यों से जनता को कम अमीरों को ज्यादा फायदा : मायावती

9. माल्या को झटका, कर्नाटक हाईकोर्ट ने यूबीएचएल की परिसंपत्तियों को बेचने का दिया आदेश

10. मजदूरों को डिजिटल भुगतान से सम्बन्धित विधेयक लोकसभा में पारित

11. आतंकी मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने अमेरिका ने यूएन में दी अर्जी

12. जियो के फ्री ऑफर को लेकर सीसीआई पहुंचा एयरटेल

13. गर्भाशय निकालने वाले डॉक्टरों के गिरोह का पर्दाफाश, 2200 महिलाओं को बनाया शिकार

14. वेलेंटाइन डे पर लॉन्च होगी नई सिटी सेडान होंडा कार

15. उच्च के सूर्य ने दी बुलंदी, क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर को इसी दशा में मिला सम्मान

************************************************************************************

बॉलीवुड      कारोबार      दुनिया      खेल      इन्फो     राशिफल     मोबाइल

************************************************************************************


पलपलइंडिया का ऐनडरोएड मोबाइल एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे.

खबरे पढने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने, ट्विटर और गूगल+ पर फालो भी कर सकते है.



अन्य जानकारियां :

सुरुचि: इस पेज पर कुकिंग और रेसेपी के बारे में रोज़ जानिए कुछ नया

तनमन: इस पेज पर जाने सेहतमंद रहने के तरीके और जानकारियां

शैली: यह पेज देगा स्टाइल और ब्यूटीटिप्स सहित लाइफस्टाइल को नया टच

मंगलपरिणय: इस पेज पर मिलेगी विवाह से जुड़ी हर वो जानकारी जिसे आप जानना चाहेंगी

आधी दुनिया: यह पेज साझा करता है महिलाओं की जिन्दगी के हर छुए-अनछुए पहलुओं को

यात्रा: इस पेज पर जानें देश-विदेश के पर्यटन स्थलों को

वास्तुशास्त्र: यह पेज देगा खुशहाल जिन्दगी की बेहद आसान टिप्स