अब परिवहन सड़कों पर लौट आया है, लेकिन जब तक कोरोनोवायरस संक्रमण बढ़ रहा है, चीजें सामान्य से बहुत दूर रहेंगी. अर्थव्यवस्था को फिर से गति देने और शहरों में कामगारों को कार्यस्थल पर लाने में सार्वजनिक परिवहन एक प्रमुख माध्यम है, लेकिन कोरोना वायरस महामारी के समय में बसों, ट्रेनों की यात्रा को सुरक्षित बनाने की जरूरत महसूस हो रही है . कोविड-19 महामारी से प्रभावित पूरी दुनिया में  सार्वजनिक परिवहन नये रूप में सामने आ रहा है. पहले जैसा होने में सालों लग जायेंगे. अब सवाल यही है क्या हम पहले जैसे परिवहन के साधनों का इस्तेमाल कर पाएंगे और कब से कर पाएंगे.  

जब तक ये सामान्य नहीं हो जाता तब तक क्या सावधानियां रखने की जरूरत है और  वायरस के साथ रहने वाले ’की वास्तविकता के अनुरूप सार्वजनिक परिवहन प्रणाली में बदलाव लाने की तत्काल आवश्यकता है? कोविड-19 के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए भारत में परिवहन का पूर्ण बंद था. अब, जैसे ही देश लॉकडाउन से बाहर निकल रहा है, परिवहन प्रणाली की एक उचित रैंपिंग की आवश्यकता है. यात्रा करते समय एक दूसरे से पर्याप्त दूरी रखना कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकता है. लेकिन सार्वजनिक परिवहनों में शारीरिक दूरी बनाना मुश्किल है. हमें यातायात के विभिन्न माध्यमों पर विचार करना होगा और उसमें बदलाव करने होंगे.

उपनगरीय ट्रेनों, सार्वजनिक बसों और मेट्रो में अधिक भीड़भाड़ को इस तरह व्यवस्थित करना होगा कि लोग एक दूसरे से दूरी बना कर आरामदायक तरीके से बैठ सके या खड़े हो सके. हालाँकि यातायात का प्रबंधन करना एक चुनौती भी होगी क्योंकि आपूर्ति पहले ही मांग से बहुत कम है. सीमित साधनो के कारण सार्वजनिक परिवहनों की व्यवस्था करना निश्चित रूप से ट्रांसपोर्ट संचालकों के लिए एक कठिन काम होगा. रेलवे अपनी यात्री सेवाओं को इस तरह डिजाइन करती है कि ज्यादा से ज्यादा संख्या में लोगों को ले जाया जा सके. फलस्वरूप उपनगरीय रेल के कोच लोगों से ठसाठस भरे होते हैं

क्या कोविड-19 सार्वजनिक परिवहन प्रणालियों से फैल सकता है?

यह प्रशंसनीय है कि भारत में सार्वजनिक परिवहन को बंद कर दिया गया, इससे पहले कि वह एक कोविड प्रसारक बने. हमें अब इस पर विचार करने की आवश्यकता है कि क्या पुनः आरंभ हो और कैसे ? खासकर मेट्रो रेल. विशेषज्ञों का सुझाव है कि सार्वजनिक परिवहन  के लिए अधिक से अधिक  कोविद सुरक्षा मानक जरूरी है और इसके बाद जरूरी है सार्वजनिक परिवहन की क्षमता. जैसे वाहनों के लिए प्रदूषण प्रमाण पत्र आवश्यक हैं, वैसे ही सरकार को लोगों में विश्वास जगाने के लिए कोविद सुरक्षा प्रमाण पत्र के साथ आना होगा. सरकार द्वारा बसों और महानगरों पर कोविद सुरक्षा प्रोटोकॉल सुनिश्चित किया जाए, वाहनों पर सुरक्षा प्रतिबंध लगाने और ओला और उबर कैब में यात्री सुरक्षा सुनिश्चित करने और मालिकों और ड्राइवरों पर इसकी जिम्मेवारी को तय करना होगा.

कोविड -19 और सार्वजनिक परिवहन:

भीड़ के संक्रमण के डर से, यात्री दोपहिया जैसे निजी मोड में यात्रा करना पसंद करते हैं. कोविड -19 के बाद, जब स्थिति कुछ सामान्य हुई है, तो लोग निजी वाहनों के ज़रिए शारीरिक दूरी बनाने की कोशिश में है. लोग स्कूटर और मोटरबाइक से यात्रा करना पसंद कर रहें है, उन लोगों का ज़िक्र छोड़ दे जो पहले ही निजी यात्रा के लिए कार का इस्तेमाल करते थे या अब कार खरीदने में सक्षम हैं. वैसे आज भी कई कारणों से, दोपहिया वाहन परिवहन का एक पसंदीदा तरीका है क्योंकि यह सुविधाजनक है और सार्वजनिक परिवहन की तुलना में सस्ता भी है. सड़कों पर निजी वाहनों की संख्या बढ़ने से वायु प्रदूषण में वृद्धि होगी और जो साफ़ वातावरण हमें अभी मिला है वह फिर से एक सपना हो जाएगा

दिल्ली जैसे शहर, जिसने लगभग चार सप्ताह पहले सेवाओं को फिर से शुरू किया, कई मार्गों पर सीमित आवृत्तियों के बावजूद, प्रति बस में 20 यात्रियों की तुलना में कम सवारियां देखी गई. हालांकि मुंबई जैसे कुछ शहरों में बस में भीड़ देखी जा रही है, शायद वहां ऐसा विकल्पों की कमी के कारण है. सार्वजनिक परिवहन गिरावट की बहाली महीनों तक जा सकती है.इसका मतलब है कि सड़क परिवहन के  परिवहन साधनों में जनता का विश्वास हासिल करने के लिए सुरक्षा उपायों की आवश्यकता है. दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ने कई सामाजिक गड़बड़ी और स्वच्छता संबंधी चिंताओं से निपटने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं

क्या ये उपाय गंभीर वायरल संचरण को रोकने के लिए पर्याप्त हैं?

दुर्भाग्य से, दुनिया भर में सार्वजनिक परिवहन एजेंसियों को सार्वजनिक परिवहन आवागमन के दौरान कोविड -19 ट्रांसमिशन की  मात्रा पर वैज्ञानिकों द्वारा अनुसंधान की कमी का सामना करना पड़ा है. गोपनीयता कानून आमतौर पर किसी व्यक्ति द्वारा संक्रमित होने के सटीक विवरण को निकालने के लिए संपर्क-ट्रेसिंग डेटा की उपलब्धता को रोकते हैं. एयर कंडीशनिंग एयरफ्लो के प्रभाव को भी जानना बेहद जरूरी है  भारतीय प्राधिकरण जो पहले से ही एसी के प्रभावों पर समान धारणाओं के तहत काम कर रहे थे, से पता चला है कि खुली खिड़कियों वाली एक गैर-एसी बस बहुत कम जोखिम वाला आउटडोर  वातावरण प्रदान करती है. हालांकि ये अभी भी संशय है कि एक एसी मेट्रो रेल कोच जोखिम भरा है.

आगे का रास्ता:

हमारे सार्वजनिक परिवहन प्रणालियों को सुरक्षित रखने के लिए अधिकारियों और जनता दोनों को  ध्यान देने की जरूरत है. खासकर सरकार इस वक्त सार्वजनिक परिवहन से कमाने की कोशिश न करे.  किराया कम करे, जिससे लोग पब्लिक ट्रांसपोर्ट की ओर आकर्षित हों. बसों में सोशल डिस्टैंसिंग के चलते कम यात्री बैठेंगे, इसलिए बसों की फ्रिक्वेंसी बढ़ानी होगी. इंटीग्रेटेड पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम बनाना होगा, जैसे- जहां मेट्रो या ट्रेन की यात्रा समाप्त हो, वहीं बस मिल जाए. छोटी सी लापरवाही वायरल ट्रांसमिशन का एक गंभीर स्तर पैदा कर सकती है.

चूंकि प्रदूषण और दुर्घटनाएं भारत में कोविड -19 की तुलना में अधिक लोगों की जान लेती हैं, इसलिए सार्वजनिक परिवहन के लिए अब उठाये कदमों के  भविष्य में बेहतर परिणाम होंगे. सार्वजनिक परिवहन को ज्यादा साफ बनाना होगा. थूकने या गंदगी फैलाने पर सजा और जुर्माने के प्रावधान कड़े करने होंगे. यात्रा से पहले वाहन के चालकों और यात्रियों की जांच जरूरी होगी. हर सार्वजनिक वाहन, चाहे वह ट्रेन हो या विमान, प्राथमिक चिकित्सा की व्यवस्था करनी होगी. इसी तरह बस स्टॉप, बस डिपो और मेट्रो स्टेशन हर जगह को सैनेटाइज किया जाना जरूरी है. वाहनों को भी सैनेटाइज किया जाए.  यही वह वक्त है, जब सार्वजनिक परिवहन को बेहतर बनाया जा सकता है. 


जानिए 2020 में कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************

बॉलीवुड      कारोबार      दुनिया      खेल      इन्फो     राशिफल     मोबाइल

************************************************************************************


पलपलइंडिया का ऐनडरोएड मोबाइल एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे.

खबरे पढने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने, ट्विटर और गूगल+ पर फालो भी कर सकते है.



अन्य जानकारियां :

सुरुचि: इस पेज पर कुकिंग और रेसेपी के बारे में रोज़ जानिए कुछ नया

तनमन: इस पेज पर जाने सेहतमंद रहने के तरीके और जानकारियां

शैली: यह पेज देगा स्टाइल और ब्यूटीटिप्स सहित लाइफस्टाइल को नया टच

मंगलपरिणय: इस पेज पर मिलेगी विवाह से जुड़ी हर वो जानकारी जिसे आप जानना चाहेंगी

आधी दुनिया: यह पेज साझा करता है महिलाओं की जिन्दगी के हर छुए-अनछुए पहलुओं को

यात्रा: इस पेज पर जानें देश-विदेश के पर्यटन स्थलों को

वास्तुशास्त्र: यह पेज देगा खुशहाल जिन्दगी की बेहद आसान टिप्स