आज का दिन- रविवार 9 जनवरी 2022, भानु सप्तमी: भगवान भास्कर की आराधना से मिलेगी प्रतिष्ठा!

आज का दिन- रविवार 9 जनवरी 2022, भानु सप्तमी: भगवान भास्कर की आराधना से मिलेगी प्रतिष्ठा!

प्रेषित समय :20:53:28 PM / Sat, Jan 8th, 2022

-प्रदीप लक्ष्मीनारायण द्विवेदी
* भानु सप्तमी को धर्मग्रंथों में बड़ा ही पवित्र दिन माना गया है. 
* रविवार के दिन सप्तमी तिथि होती है तो भानु सप्तमी कहलाती है. 
* इस अवसर पर भगवान भास्कर के निमित्त व्रत करते हुए उनकी उपासना करने से अत्यधिक पुण्य प्राप्त होता है.
* ताम्र के कलश में शुद्ध पवित्र जल भरकर तथा उसमें लाल चंदन, अक्षत, लाल रंग के फूल आदि डालकर भगवान भास्कर को अर्घ्य देना चाहिए.
* धर्मशास्त्रों में भानु सप्तमी के पर्व को सूर्य ग्रहण के समान प्रभावी बताया गया है, इसलिए इस दिन जप, होम, दान आदि करने पर उसका अनन्त शुभ फल प्राप्त होता है.
* जिनकी जन्म पत्रिका में सूर्यदेव अकारक हैं उन्हें इस अवसर पर गेहूं, स्वर्ण, गुड़ आदि का दान करना चाहिए.
* कार्य-व्यवसाय में प्रगति के लिए 1, 10, 19 और 28 जन्म दिनांक वालों को बंदरों को गुड़-चना देना चाहिए.
॥आरती श्री सूर्यदेव॥
जय कश्यप-नन्दन,ॐ जय अदिति नन्दन.
त्रिभुवन - तिमिर - निकन्दन,भक्त-हृदय-चन्दन॥
जय कश्यप-नन्दन, ॐ जय अदिति नन्दन.
सप्त-अश्वरथ राजित,एक चक्रधारी.
दु:खहारी, सुखकारी,मानस-मल-हारी॥
जय कश्यप-नन्दन, ॐ जय अदिति नन्दन.
सुर - मुनि - भूसुर - वन्दित,विमल विभवशाली.
अघ-दल-दलन दिवाकर,दिव्य किरण माली॥
जय कश्यप-नन्दन, ॐ जय अदिति नन्दन.
सकल - सुकर्म - प्रसविता,सविता शुभकारी.
विश्व-विलोचन मोचन,भव-बन्धन भारी॥
जय कश्यप-नन्दन, ॐ जय अदिति नन्दन.
कमल-समूह विकासक,नाशक त्रय तापा.
सेवत साहज हरतअति मनसिज-संतापा॥
जय कश्यप-नन्दन, ॐ जय अदिति नन्दन.
नेत्र-व्याधि हर सुरवर,भू-पीड़ा-हारी.
वृष्टि विमोचन संतत,परहित व्रतधारी॥
जय कश्यप-नन्दन, ॐ जय अदिति नन्दन.
सूर्यदेव करुणाकर,अब करुणा कीजै.
हर अज्ञान-मोह सब,तत्त्वज्ञान दीजै॥
जय कश्यप-नन्दन, ॐ जय अदिति नन्दन.

- आज का राशिफल -
मेष राशि:- आज का पूंजी निवेश लाभदायी रहेगा. कार्यस्थल पर मान सम्मान की प्राप्ति होगी. व्यापार में वृद्धि होने के कारण काम आपकी योजनाओं के अनुसार होंगे. वायु विकार से पीड़ित रहेंगे.

वृष राशि:- समय रहते जरूरी दस्तावेजों को संभाल लें, सामाजिक कार्यों में सम्मान प्राप्त होगा. स्थायी संपत्ति क्रय करने में जल्दीबाजी न करें. परिवार की समस्या का समाधान होगा. निजी कार्य की व्यस्तता रहेगी.

मिथुन राशि:- आज रचनात्मक काम होंगे. नवीन अनुबंध व समझौतों के कारण आपके लाभ में वृद्धि होगी. दैवीय कार्यों में दिन बीतेगा. जनकल्याण की भावना के कारण प्रतिष्ठा बढ़ेगी.

कर्क राशि:- पारमार्थिक कार्यो में धन लगेगा. सामाजिक कार्यों से सुयश मिलेगा और आप के प्रभाव में वृद्धि होगी. व्यापार अच्छा चलेगा. परिवार से सहयोग मिलने से कार्य आसानी से पूरे होंगे. अपनी परिवारिक जिम्मेदारी की ओर विशेष ध्यान दें.

सिंह राशि:- कार्य की अधिकता के बीच सफलता से मनोबल मजबूत अजनबी व्यक्ति का विश्वास न करें धोखा मिल सकता है. कार्यक्षेत्र में वृद्धि के योग हैं. सक्रिय होने के कारण संबंध व परिचय क्षेत्र बढ़ेगा.

कन्या राशि:- सुख-समृद्धि बढ़ेगी. आर्थिक निवेश में सोच-समझकर निर्णय लेने पर लाभ होगा. कम बोलें अच्छा बोलें. स्वाध्याय में रुचि बढ़ेगी. परिवार, समाज में आपका महत्व बढ़ेगा.

तुला राशि:- व्यापार-व्यवसाय में चल रही उलझनों से परेशान रहेंगे. किसी परिजन के साथ अपने विशेष कार्य की पूर्ति के लिए देव स्थलों का भ्रमण करेंगे. लाभ होने की संभावना बनती है. किसी पुराने मित्र से मुलाकात सम्भव है.

वृश्चिक राशि:- दिन की शुरुवात में क्रोध हावी रहेगा. मन माफिक काम न होने से परिजनों पर नाराज होंगे. नौकरी में नया प्रस्ताव मिलेगा. धार्मिक रुचि बढ़ेगी. व्यापारिक प्रतिस्पर्धा में न पड़ें.

धनु राशि:- निवेश किए धन से अर्जित होने वाले वाले लाभ में विलंब होगा. संतान के लिए निर्णय लेने में दुविधा होगी. अर्थ व्यवस्था बिगड़नें से निर्माण कार्य की गति प्रभावित हो सकती है.

मकर राशि:- कम समय में अधिक लाभ अर्जित करने के चक्कर में न उलझें. मेहनत करें. कार्यस्थल पर आपके पराक्रम की प्रशंसा बढ़ेगी. व्यापार में नई योजनाओं का प्रारंभ होगा. जल्दबाजी नुकसानदायक रहेगी.

कुम्भ राशि:- आज विशेष उन्नतिकारक योगों के कारण मन में प्रसन्नता रहेगी. मन को भक्तिभाव में लगाने की कोशिश करेंगे. कार्यस्थल पर अनुकूल परिणाम के लिए सक्रियता आवश्यक है. भवन निर्माण के लिए ऋण लेना पड़ सकता है.

मीन राशि:- आलस को त्याग कर काम करें. रुके कार्य में सफलता मिलेगी. पूंजी निवेश में सोच से अधिक लाभ होगा. अपनी कार्ययोजना और निर्णय पर अमल करना जरूरी है. किसी के प्रति आकर्षित होंगे.

*आचार्य पं. श्रीकान्त पटैरिया (ज्योतिष विशेषज्ञ) वाट्सएप नम्बर 9131366453 

* यहां राशिफल चन्द्र के गोचर पर आधारित है, व्यक्तिगत जन्म के ग्रह और अन्य ग्रहों के गोचर के कारण शुभाशुभ परिणामों में कमी-वृद्धि संभव है, इसलिए अच्छे समय का सद्उपयोग करें और खराब समय में सतर्क रहें.- 

 - रविवार का चौघडिय़ा -

दिन का चौघडिय़ा                रात्रि का चौघडिय़ा
पहला- उद्वेग                         पहला- शुभ
दूसरा- चर                             दूसरा- अमृत
तीसरा- लाभ                          तीसरा- चर
चौथा- अमृत                          चौथा- रोग
पांचवां- काल                         पांचवां- काल
छठा- शुभ                              छठा- लाभ
सातवां- रोग                         सातवां- उद्वेग
आठवां- उद्वेग                       आठवां- शुभ

* चौघडिय़ा का उपयोग कोई नया कार्य शुरू करने के लिए शुभ समय देखने के लिए किया जाता है. 
* दिन का चौघडिय़ा- अपने शहर में सूर्योदय से सूर्यास्त के बीच के समय को बराबर आठ भागों में बांट लें और हर भाग का चौघडिय़ा देखें.
* रात का चौघडिय़ा- अपने शहर में सूर्यास्त से अगले दिन सूर्योदय के बीच के समय को बराबर आठ भागों में बांट लें और हर भाग का चौघडिय़ा देखें.
* अमृत, शुभ, लाभ और चर, इन चार चौघडिय़ाओं को अच्छा माना जाता है और शेष तीन चौघडिय़ाओं- रोग, काल और उद्वेग, को उपयुक्त नहीं माना जाता है.
* यहां दी जा रही जानकारियां संदर्भ हेतु हैं, स्थानीय परंपराओं और धर्मगुरु-ज्योतिर्विद् के निर्देशानुसार इनका उपयोग कर सकते हैं.
* अपने ज्ञान के प्रदर्शन एवं दूसरे के ज्ञान की परीक्षा में समय व्यर्थ न गंवाएं क्योंकि ज्ञान अनंत है और जीवन का अंत है! 

पंचांग  
रविवार, 9 जनवरी, 2022
गुरु गोबिन्द जयन्ती
भानु सप्तमी
शक सम्वत1943   प्लव
विक्रम सम्वत2078
काली सम्वत5122
प्रविष्टे / गत्ते25
मास पौष
दिन काल10:25:56
तिथिसप्तमी - 11:11:40 तक
नक्षत्ररेवती - पूर्ण रात्रि तक
करणवणिज - 11:11:40 तक, विष्टि - 23:43:38 तक
पक्षशुक्ल
योगपरिघ - 10:48:11 तक
सूर्योदय07:15:15
सूर्यास्त17:41:12
चन्द्र राशि मीन
चन्द्रोदय11:58:00
चन्द्रास्त24:32:00
ऋतु शिशिर
अभिजित मुहूर्त 11:56 ए एम से 12:39 पी एम
अग्निवास आकाश - 11:08 ए एम तक ,पाताल
दिशा शूल पश्चिम
चन्द्र वास उत्तर
राहु वास उत्तर

Source : palpalindia ये भी पढ़ें :-

गीता जयंती और मोक्षदा एकादशी पर जानिए महत्व, पूजा विधि एवं पूजन के शुभ मुहूर्त

शुभ कार्यों में नवग्रहों का पूजन क्यों ?

देहरी पूजन की विधि

तुलसी विवाह एवं शालिग्राम पूजन

दीपावली: अमावस और स्थिर लग्न मे पूजन कर महालक्ष्मी की कृपा प्राप्त करें

Leave a Reply